विधवा की अन्तर्वासना और मेरी चुदाई


हेल्लो मेरे चूत के दीवाने लोगो उम्मीद करता हूँ आप लोग चूत को फाड़ के भोसड़ा बना रहे होगे और उम्दा मज़ा उठा रहे होगे | मेरा नाम पप्पू बल्ला है और मैं कंचनपुर में रहता हूँ | मैंने सोचा आज आपके सामने अपनी एक मस्त कहानी प्रस्तुत करूँ जिससे आप सब का मनोरंजन हो जाए और वो भी अच्छा ख़ासा मनोरंजन | मैंने कई बार चुदाई की है पर मुझे सबसे ज्यादा मज़ा आया अपनी बगल वाली विधवा को चोदने में | उसके पति का देहांत तीन साल पहले हो गया था | उसकी जवानी उसके पति के देहांत के बाद ही शुरू हुयी थी जब उसका एक बच्चा हो गया था | वैसे मैं भी शादी शुदा हूँ और मुझे कोई दिक्कत नहीं होती किसी और लड़की को चोदने में क्यूंकि मेरी बीवी किसी से बात नहीं करती तो उसे कुछ पता नहीं चल पाता | तो चूत के प्यासों अब मैं आपको बताऊंगा कैसे उस विधवा को मैंने अपने प्रेम जाल में फसाया और उसको चोदा | मैंने उसको पहले कभी ऐसी नज़ से नहीं देखा था पर एक दिन वो छत पे नाहा रही थी और ठंड का समय था | तब मैंने उसके भरे हुए दूध और भरी हुयी कमर देखि | तब से ही मेरा लंड उसके पीछे पागल है | उसके बाद जब वो अपने दूध को तेल लगा के मसल रही थी तब तो उसके मोटे मोटे निप्पल और भी मस्त लग रहे थे | वो मेरे पास वाले गाँव की ही थी | वो ठूँठा में रहती थी और मैं तेवरी में और उसके घरवाले मुझे जानते थे | जब उसकी शादी हुयी थी तब उसके घरवालों ने मुझसे ही पुछा था लड़का कैसा है ? तो मुझे कोई दिक्कत नहीं थी उससे बात करने में पर मैं करता नहीं था क्यूंकि एक तो पहले से ही वो परेशां थी और उसके ऊपर से मैं भी उसे हवस की नज़रों से देखने लगा था इसलिए मैंने सोचा आराम से करेंगे | वो जब भी छत में नहाती मैं बैठ के आराम से उसको देखता और मैंने दीवार में छेद भी कर दिया था जिससे वो मुझे न देख पाए पर मैं उसको देख लूँ | मैं उसके लिए इस कदर पागल हो गया कि मैंने दिन में चार बार मुट्ठ मारना शुर कर दिया और ३ बार अपनी बीवी को चोदने लगा |

 

मैंने एक दिन उस जगह छेद किया जहाँ वो नहाती थी | जब वो नहाने आई तो मैंने उसे जैसे ही देखा मेरा लंड टन टना गया | मैंने उसी चीड से अपना लंड डाला और वो उस पार चला गया | उसकी पीठ में मेरा लंड छु गया और मुझे वो मज़ा आया कि क्या बताऊँ | मैंने और अन्दर तक डाला और उसकी पीठ में ही छु रहा था | वो जैसे ही खड़ी होने लगी तो उसकी गांड को छूते हुए मेरा लंड मस्त हो गया | मैंने सोचा इसको पता न चल जाए इसलिए मैंने तुरंत लंड को निकाला और मुट्ठ मारने लगा | अब मैं रोज़ ऐसा ही करने लगा | उसे थोडा थोडा शक हो गया था क्यूंकि एक दिन मैं थोडा लेट हो गया था आने मैं तो मैंने देखा वो उस छेद से यहाँ झाँक रही है | मैंने सोचा अब मुझे थोडा चौकन्ना रहना पड़ेगा | इसलिए मैंने दो दिन तक अपनी बीवी को चोद के ही काम चलाया और उस छेद में लंड नहीं डाला | फिर एक दिन मैंने उसको नहाते हुए देखा तो मुझसे रहा नहीं गया और मैंने अपना लंड छेद में घुसा दिया पहले उसकी पीठ से मेरा लंड टिका हुआ था पर मुझे लगा जैसे कोई उसमे निप्पल लगा रहा है | मैंने लंड को वैसे ही रखा पर मुझे लगा उसे कोई हिला रहा है फिर उसने कहा सुनो ऊपर हो जाओ मुझे तुमाहरे करिया लंड को चूसना है | पहले तो मैं चौंक गया कि यह हुआ क्या ? उसने कहा मुझे पहले दिन से ही पता है तुम मुझे चोदना चाहते हो | मैंने कहा हाँ चोदना चाहता हूँ क्यूंकि युम्हे अब लंड नहीं मिल रहा होगा | उसने कहा हाँ मिल तो नहीं रहा पर मैं ऊँगली से चोद लेटी हूँ | मैंने कहा अब ऊँगली से चोदने की ज़रूरत नहीं है मैं अपना लंड तुमाहरे नाम करता हूँ जैसे चुदवाना है चुदवा लेना | वो तुरंत नीचे झुकी और मेरे लंड को अपने मुह में भरके चूसने लगी | थोड़ी देर बाद उसने कहा तुमहरा लंड काफी बड़ा है और मोटा भी | इतना बोलके वो फिर से मेरा लंड चूसने लगी और मेरे मुह से सिस्कारियां निकलने लगी | मैं ऊऊउम्म्म्म ऊऊन्न्ह्ह आआआअह्हह्हह्ह ऊऊऊऊऊऊऊऊऊओ आआअह्ह्ह्ह्ह्ह्ह् आअह्ह्ह्हऊऊउम्म्म्म ऊऊन्न्ह्ह आआआअह्हह्हह्ह ऊऊऊऊऊऊऊऊऊओ आआअह्ह्ह्ह्ह्ह्ह् आअह्ह्ह्हऊऊउम्म्म्म ऊऊन्न्ह्ह आआआअह्हह्हह्ह ऊऊऊऊऊऊऊऊऊओ आआअह्ह्ह्ह्ह्ह्ह् आअह्ह्ह्ह करते हुए लंड चुसवा रहा था और मैंने अपना माल उसके मुह के अन्दर गिरा दिया | मैंने उससे कहा सुनो कमरे में चलो मुझे तुम्हरे साथ नंगा लेटना है |

वो तैयार हो गयी और मैं उसके कमरे मं गया और वो तो पहले से नंगी थी पर मैंने अपने कपडे उतारे और उसके साथ चिपक के लेट गया | मैं उसके दूध दबा रहा था और मेरा लंड उसकी नाभि को छू रहा था | वो भी मेरे लंड को हलका हल्का हिला रही थी और मैं उसके दूध मसल रहा था | मैंने कहा मैंने तुम्हरे लिए ना जाने कितनी बार मुट्ठ मारा है | उसने मुझे कहा अब तो मैं हूँ ना अब जितना चाहो चोद लेना | मैंने कहा मैं तुम्हे मन भर के चोदुंगा हो सकता है दिन में दस बार चोदु तुम्हे | उसने मुझसे कहा बीस बार चोद लेना पर मेरी चूत की प्यास को पूरा शांत कर देना | बस मैंने इतना सुना और मैंने उसके दूध पीना शुरू कर दिए और मन भर के पीता रहा | थोड़ी देर बाद मेरे लंड से पानी निकलने लगा और वो भी गरम हो गयी | वो ऊऊउम्म्म्म ऊऊन्न्ह्ह आआआअह्हह्हह्ह ऊऊऊऊऊऊऊऊऊओ आआअह्ह्ह्ह्ह्ह्ह् आअह्ह्ह्हऊऊउम्म्म्म ऊऊन्न्ह्ह आआआअह्हह्हह्ह ऊऊऊऊऊऊऊऊऊओ आआअह्ह्ह्ह्ह्ह्ह् आअह्ह्ह्हऊऊउम्म्म्म ऊऊन्न्ह्ह आआआअह्हह्हह्ह ऊऊऊऊऊऊऊऊऊओ आआअह्ह्ह्ह्ह्ह्ह् आअह्ह्ह्ह करते हुए मेरी पीठ पे अपने हाथ फेर रही थी | फिर मैं थोडा सा नीचे गया और उसके पेट और उसकी नाभि को चाटने लगा | कुछ देर बाद उसने मेरा सर नीचे किया और अपनी चूत पे रख दिया | मैं उसकी चूत को देखके पागल हो गया क्यूंकि उसकी चूत गुलाबी थी | मैंने तुरंत उसकी चूत पे मुह लगाया और चाटने लगा | मैंने उसके चूत के दाने को जीभ से गगदना चालु किया और वो ऊऊउम्म्म्म ऊऊन्न्ह्ह आआआअह्हह्हह्ह ऊऊऊऊऊऊऊऊऊओ आआअह्ह्ह्ह्ह्ह्ह् आअह्ह्ह्हऊऊउम्म्म्म ऊऊन्न्ह्ह आआआअह्हह्हह्ह ऊऊऊऊऊऊऊऊऊओ आआअह्ह्ह्ह्ह्ह्ह् आअह्ह्ह्हऊऊउम्म्म्म ऊऊन्न्ह्ह आआआअह्हह्हह्ह ऊऊऊऊऊऊऊऊऊओ आआअह्ह्ह्ह्ह्ह्ह् आअह्ह्ह्ह करने लगी | उसे बहुत मज़ा आ रहा था ओव वो ऊऊउम्म्म्म ऊऊन्न्ह्ह आआआअह्हह्हह्ह ऊऊऊऊऊऊऊऊऊओ आआअह्ह्ह्ह्ह्ह्ह् आअह्ह्ह्हऊऊउम्म्म्म ऊऊन्न्ह्ह आआआअह्हह्हह्ह ऊऊऊऊऊऊऊऊऊओ आआअह्ह्ह्ह्ह्ह्ह् आअह्ह्ह्हऊऊउम्म्म्म ऊऊन्न्ह्ह आआआअह्हह्हह्ह ऊऊऊऊऊऊऊऊऊओ आआअह्ह्ह्ह्ह्ह्ह् आअह्ह्ह्ह करे जा रही थी |

फिर उसने कहा मेरी चूत में लंड डाल दो | मैंने बिना देरी किये उसकी चूत के छेद पे लंड रक्खा और पेल दिया अन्दर तक | वो ऊऊउम्म्म्म ऊऊन्न्ह्ह आआआअह्हह्हह्ह ऊऊऊऊऊऊऊऊऊओ आआअह्ह्ह्ह्ह्ह्ह् आअह्ह्ह्हऊऊउम्म्म्म ऊऊन्न्ह्ह आआआअह्हह्हह्ह ऊऊऊऊऊऊऊऊऊओ आआअह्ह्ह्ह्ह्ह्ह् आअह्ह्ह्हऊऊउम्म्म्म ऊऊन्न्ह्ह आआआअह्हह्हह्ह ऊऊऊऊऊऊऊऊऊओ आआअह्ह्ह्ह्ह्ह्ह् आअह्ह्ह्ह करने लगी | मुझे उसकी चूत की गर्मी साफ़ पता चल रही थी | उसके चूत की सफ़ेद क्रीम मेरे लंड पे लग गयी थी और मैं उसको जोर जोर से चोद रहा था और वो ऊऊउम्म्म्म ऊऊन्न्ह्ह आआआअह्हह्हह्ह ऊऊऊऊऊऊऊऊऊओ आआअह्ह्ह्ह्ह्ह्ह् आअह्ह्ह्हऊऊउम्म्म्म ऊऊन्न्ह्ह आआआअह्हह्हह्ह ऊऊऊऊऊऊऊऊऊओ आआअह्ह्ह्ह्ह्ह्ह् आअह्ह्ह्हऊऊउम्म्म्म ऊऊन्न्ह्ह आआआअह्हह्हह्ह ऊऊऊऊऊऊऊऊऊओ आआअह्ह्ह्ह्ह्ह्ह् आअह्ह्ह्ह करते हुए मेरा जोश बढ़ा रही थी | फिर मैंने उसको कहा मुझे गांड मारनी है तो वो पलट गे और अपनी गांड का छेद मेरी तरफ कर दिया | मैंने एक झटके में उसकी गांड में लंड डाल दिया और वो रो पड़ी | मुझे पता चल गया था कि उसकी गांड अभी तक नहीं चुदी पर मैं उसे जोर जोर से चोदे जा रहा था | थोड़ी देर बाद वो ऊऊउम्म्म्म ऊऊन्न्ह्ह आआआअह्हह्हह्ह ऊऊऊऊऊऊऊऊऊओ आआअह्ह्ह्ह्ह्ह्ह् आअह्ह्ह्हऊऊउम्म्म्म ऊऊन्न्ह्ह आआआअह्हह्हह्ह ऊऊऊऊऊऊऊऊऊओ आआअह्ह्ह्ह्ह्ह्ह् आअह्ह्ह्हऊऊउम्म्म्म ऊऊन्न्ह्ह आआआअह्हह्हह्ह ऊऊऊऊऊऊऊऊऊओ आआअह्ह्ह्ह्ह्ह्ह् आअह्ह्ह्ह करने लगी और मैं उसकी गांड के अन्दर ही झड़ गया | मैंने उस दिन उसे चार बार चोदा और 5 बार अपना लंड चुस्वाया और उसने मेरा सारा माल पी लिया | अब मैं हर दिन उसे जी भर के चोदता हूँ और कभी उसकी गंद में कभी उसकी चूत में अपना मुट्ठ भर देता हूँ | वो भी मुझसे चुद के मस्त हो जाती है और लपक के मेरा लंड अन्दर तक लेती है |

आप भी चुदाई करिए और चूत को शांत करिए उसका पानी निकाल के | पर दोस्तों अब मैं ऐसा हर दिन नहीं कर पाता क्यूंकि मैं काम करने लगा हूँ और मुझे भी बहुत सारे काम रहते हैं | मैंने सोचा कि क्यूँ न घर से काम करलूं | फिर मैंने घर से काम क्जरना चालू किया और मेरी चुदाई वापस से चालु हो गयी | उसके बाद मैंने सोचा अब मैं इसको अलग अलग तरीके से चोदुंगा और मैं हर दिन एक नया कंडोम लता और उसको पहनके लंड चुसवाता और वो भी मस्ती में मेरा लंड चूसती | अब तो उसकी चूत का भोसड़ा बन गया है | तो दोस्तों अब आप बताइए आपको कहानी पढने में मज़ा आया या नहीं |


error: