ट्रेन में अंजान लड़के के साथ मेरी अन्तर्वासना 1


antarvasna stories
हेल्लो दोस्तों कैसे हो आप सभी लोग ? मैं आशा करती हूँ की आप सभी लोग अच्छे ही होगे और अपनी लाइफ में भरपूर चुदाई का मज़ा ले रहे होगे | दोस्तों मैं भी यही चाहती हूँ की मेरे जितने भी दोस्त सेक्सी कहानी पढ़ते हैं | वो सभी अपनी लाइफ में खुश रहे और चुदाई का पूरा मज़ा लेते रहे | दोस्तों मैं भी चुदाई की कहानी की दिवानी हूँ और मैं अभी तक बहुत चुदाई की कहानी पढ़ कर उन कहानियों के मज़े ले चुकी हूँ | मैंने अभी तक जितनी भी कहानी पढ़ी है वो कहानी मुझे बहुत पसंद आई हैं | मैं भी अपनी चुदाई के मज़े बहुत बार ले चुकी हूँ पर मुझे इस चुदाई में बहुत मज़ा आया था तो मैं आप लोगो के सामने अपनी इस चुदाई के बारे में बताने जा रही हूँ | मैं आप लोगो को इस कहानी में बताउंगी की कैसे मैंने अंजान लकड़े से अपनी चुदाई करवा ली थी | दोस्तों मैं थोडा खुले बिचारो की हूँ और किसी से कोई भी बात करनी हो तो मैं सरमाती नही हूँ | मैं आज जो कहानी आप लोगो के सामने प्रसतुत करने जा रही हूँ इस कहानी मैं मैंने ट्रेन में ही एक लकड़े के साथ चुदाई के मज़े लिए थे तो मैं अपनी कहानी को शुरू करने से पहले अपने बारे में बता देती हूँ | मेरा नाम रीमा है और मेरी उम्र 22 साल है | मेरी हाईट 5 फुट 8 इंच है और मेरा रंग बहुत साफ है जिससे मैं सुन्दर लगती हूँ | मैं रहने वाली गोरखपुर की हूँ | मेरा फिगर बहुत सेक्सी हैं तो मैं आप लोगो को अपने फिगर के बारे में बता देती हूँ | मेरे बूब्स काफी बड़े हैं और मेरी गांड बहुत सेक्सी है जिसको देखकर किसी की भी नियत ख़राब हो जाये | मेरा जिस्म आकर्षण का केंद्र है |
ये कहानी पिछले साल की है जब मैं अपनी सेहली के साथ ट्रेन में सफर कर रही थी | मैं उस दिन ब्लैक कॉलर का शूट पहनी हुई थी और मेरे साथ जो मेरी सेहली थी उसका नाम रूपा था | वो मुझे देखकर बोली आज बहुत सेक्सी लग रही हो | दोस्तों मैं और मेरी सेहली अपनी मामी के घर जा रही थी क्यूंकि 2 दिन बाद मेरी मम्मी के लड़की की शादी थी तो मेरे घर के सब लोग पहुच चुके थे | मैं और मेरी सेहली स्टेशन पर बैठ कर ट्रेन का इंतजार कर रही थी और कुछ ही देर बाद ट्रेन आई तो हम दोनों ट्रेन में बैठ गए | फिर कुछ ही टाइम में ट्रेन भी चल पड़ी | मैं और रूपा बैठ कर एक दुसरे से बात कर रहे थे की मेरा फ़ोन बजा तो मैंने देखा की मेरी मम्मी का था और वो पूछ रही थी की हम दोनों घर से निकले हैं या नही तो मैंने बता दिया की हम दोनों निकल गए हैं | जब पहुचेंगे तो फ़ोन कर दूंगी | फिर मेरा मन कुछ खाने का हुआ तो मैं अगले स्टेशन पर उतर गयी और जब मैं खाने के लिए सामन लेकर अपनी सीट पर आ रही थी तभी मुझे एक लकड़ा खिड़की के पास खड़ा मिला | दोस्तों उस लड़के को देखते मेरे होश उड़ गए और मेरा मन हुआ की इस लकड़े से बात करती हूँ | वो लड़का सामने ही खड़ा था तो मैंने उससे कहा क्या आप किनारे होंगे तो बोला हाँ क्यूँ नही आप बोलो तो ट्रेन से नीचे उतर जाऊं | मैं बोली नही नही इसकी कोई जरूरत नही है आप जैसे लकड़े को तो साथ लेकर चलना चाहए आप नीचे क्यूँ उतर जाओगे | मैं इतना कहकर अपनी सीट पर आर बैठ गयी | दोस्तों मैं उस लकड़े के बारे में बता देती हूँ | वो दिखने में गोरा था और बॉडी बहुत ज्यादा थी | मैं उसकी बॉडी को देखकर उस पर लट्टू हो गयी थी | मैंने उस लकड़े के अन्दर छोटी सी चिंगारी लगा दी थी और वो मुझे ही देख रहा था |

अब वो मुझे देख रहा था और मैं उसे देखकर इशारे कर रही थी | वो मुझे देख रहा था | मैं उसको ऐसे ही कुछ देर देखने के बाद अपनी सीट से उठ कर खिड़की की तरफ चली गयी | मैं खिड़की के पास खड़ी होकर बाहर की तरफ देख रही थी और वो मेरे पास आकर खड़ा हो गया | फिर कुछ देर तक वो मेरे पास खड़ा रहा और मुझे बात करने के बहाने करने लगा | मैं भी खुले बिचारो की हूँ तो मुझे किसी से बात करनी होती है तो मैं बहाने नही करती सीधे ही बोल देती हूँ | मैंने उस टाइम भी यही किया और कहा आप मुझे अच्छे लगते हो इसीलिए मैं तुमसे बात करना चाहती हूँ | वो बोला यार मैं भी तुमको देखते ही फ़िदा हो गया हूँ | फिर मेरा फ़ोन भी डिस्चार्ज हो रहा था तो मैंने उससे अपना फ़ोन चार्ज करने के लिए कहा | वो बोला हाँ अभी लगा देता हूँ और मैंने उसे अपना फ़ोन दे दिया | दोस्तों मुझे फ़ोन चार्ज करने की कोई जरूरत नही थी पर मैं सेक्सी विडियो देखती हूँ जिससे मेरे फ़ोन में सेक्सी विडियो थे | मैंने उसको अपना फ़ोन यही सोच कर दिया था की लकड़े लोग लड़कियों के फ़ोन में इधर उधर बहुत देखते हैं | वो भी सब लडको की तरह मेरे फ़ोन में इधर उधर देखने लगा और उसे मेरे फ़ोन में सेक्सी विडियो दिख गए | वो मेरे फ़ोन में सेक्सी विडियो देख ही रहा था की मैं उसके पास पहुच गयी | वो मुझे देख कर हँसते हुए बोला यार तुम्हारे फ़ोन से क्या कुछ विडियो डाल सकता हूँ | मैंने भी उससे कहा हाँ डाल सकते हो पर कौन से विडियो डालने जा रहे हो | तब वो सरमाते हुए मुझसे बोला की यार तुम्हारे फ़ोन में जो पड़े हैं | मैंने भी उससे कह दिया वो विडियो डाल कर क्या करोगे | वो बोला की यार कोई गर्लफ्रेंड भी नही है तो देख कर ही काम चला लूँगा |
दोस्तों मैं उससे हँसती हुई बोली क्या यार तुम भी न और ये कहती हुई आंख मार दी | वो मेरी तरफ स्माइल देकर बोला यार तुम बहुत नॉटी हो | मैं भी उससे चुदना चाहती थी तो उस मौके का फायदा उठाती हुई उसे टॉयलेट में लेकर चली गयी | वो भी मुझ जैसी लड़की को पाकर बड़े ही खुसी के साथ मेरे साथ टॉयलेट में चला आया | मैं उसे टॉयलेट में पकड कर अपनी और खीच लिया और वो मेरे जिस्म से लिपट गया | वो मेरे लिपट गया और बड़े ही जोश के साथ मुसे किस करने लगा | वो मुझसे लिपट कर मेरे गले में किस करने लगा | मैं टॉयलेट की दिवार से चिपकी हुई थी | वो मेरे गले में किस करने बाद मेरी रसीली होठो पर अपनी होठो को रख दिया | वो मेरी होठो को मुंह में रख कर चूसने लगा | जब वो मेरी होठो को चूसने लगा तो मेरे जिस्म में आग सी लग गयी और मैं अब बेकाबू हो गयी और उसके लंड को पैन्ट के ऊपर से सहलाने लगी | वो मेरी होठो को चूसने के साथ मेरे बूब्स को कपडे के ऊपर से दबा रहा था | वो मेरे बूब्स को कुछ देर तक दबाने के बाद मेरे कपड़ो को निकाल दिया जिससे मैं ब्रा और पैंटी में आ गयी | वो मुझे ब्रा और पैंटी में घुर घुर कर देख रहा था | मैं सेक्स के नशे में जोर जोर से सांसे ले रही थी | फिर उसने मेरी ब्रा को खोल कर मेरे बूब्स को मुंह में रख कर चूसने लगा | मैं उसके सर को दबती हुई ऊ ऊ ऊ ऊ…. आ आ आ आ… सी सी सी सी… की सिस्कारिया लेने लगी | वो मेरे बूब्स को ऐसे ही कुछ देर तक चूसने के बाद मेरी पैंटी को निकाल कर मेरी छुट में जीभ को घुसा कर चाटने लगा | जब वो मेरी चूत में अपनी जीभ को घुसा कर चाटने लगा तो मेरे जिस्म ने पसीना छोड़ दिया और मैं उसके सर को दबाती हुई जोर जोर की सेक्सी आवाजे कर रही थी |
फिर उसने अपने कपड़े निकाल दिए | फिर अपने लंड को मुंह में लेने को कहा तो मैंने मना कर दिया और कहा जो करने के लिए आये हो वो करो बस | तब उसने मेरी चूत में थूक लगा कर अपने लंड को घुसा दिया | उसका मोटा लंड जैसे ही मेरी चूत में घुसा तो मेरे मुंह से जोरदार सिसकियाँ निकल गयी | वो मुझे झुका कर पीछे से मेरी चूत में धक्के मारने लगा | जब वो मेरी चूत में धक्के मार रहा था तो मेरे बड़े बड़े बूब्स नीचे लटके हुए हिल रहे थे | वो मेरी चूत में नीचे से जोरदार धक्के मार रहा था | मैं आ आ आ…. ऊ ऊ ऊ… ई ई ई… अ अ अ… सी सिसकियाँ लेती हुई चुद रही थी | वो मेरी चूत में ऐसे ही कुछ देर तक धक्के मारने के बाद लंड को निकाल कर अपने लंड पर थूक लगया और फिर मेरी चूत में पीछे से घुसा दिया | वो मेरी चूत में घुसा कर मेरी कमर को पकड लिया और मेरी चूत में जोरदार धक्के मारने लगा | वो मेरी चूत में धक्के की स्पीड इतनी तेज करके चोदने लगा की टॉयलेट में धक्को की आवाज जोर जोर से गूंजने लगी | मैं जोर जोर से सेक्सी आवाजे करती हुई चुद रही थी | वो मेरी छुट में इतने जोर से धक्के मार रहा था की उसने लंड का टोपा मेरी बच्चेदानी में जाकर रगड़ता तो मेरे जिस्म में आज लग जाती और मुझे चुदाई का असली मज़ा मिलता | वो मेरी चूत में ऐसे ही कुछ देर तक जोर जोर से अन्दर बाहर करता रहा जिससे मेरी चूत से गर्म पानी की धार निकाल गयी | वो मुझे अभी भी जोरदार धक्को के साथ चोद रहा था |
दोस्तों मैं आशा करती हूँ की आप लोगो को मेरी कहानी पसंद आई होगी | मैं इसके आगे की कहानी अगले भाग में लेकर आउंगी | धन्यवाद……


error: