तेरी हुयी जो चुदाई मज़ा आ गया


hindi porn stories, desi sex kahani

हेल्लो मेरे चुदाई के प्यासों कैसे हो ? अच्छा लगता है न जब हम सब एक जगह एक साथ होते हैं और मुझे तो आप सब से बात करना बहुत अच्छा लगता है | मुझे आपको आज एक बात बतानी है | ये बात है तो पुरानी पर याद आ गयी है तो सुन ही लो | मेरा नाम संकेत है और मेरा पेशा है की मैं लोगो के घरों में नल और पानी का काम करता हूँ | मुझे अपने काम से बिलकुल भी शर्म नहीं आती क्युकी मुझे इसी काम में महारत हासिल है और पूरे शहर में मेरे जैसा अगर कोई काम करदे तो मैं अगले दिन ही अपना नाम बदल डालूँगा | मुझे बहुत अच्छा लगता है जब मेरे काम से कोई खुश होता है और मेरी वजह से किसी का काम बनता है | पर मुझे इस बात का भी पता है की कई लोग होते हैं जो खुद को कुछ ज्यादा ही समझते है | मैंने कभी ऐसे लोगो से ज्यादा बात नहीं की पर एक बार एक औरत थी और उससे मेरी फास गयी थी | उसने मुझसे कहा कि सिर्फ एक नल है उसे ठीक करना है पर धीरे धीरे उसने घर के कई सारे काम करवा लिए | फिर जब उसकी बारी ई पैसे देने की तब साली मुकर गयी कि मैं इतने पैसे नहीं दूंगी मैंने उसे बहुत समझाया पर साली नहीं मानी | मैंने कहा ठीक है मैडम आप मुझे उतने भी मत दो जितने की बात हुयी है | उसने कहा नहीं वो तो मैं दूंगी मैं किसी का हक नहीं मारती | मैंने हाँ आप हक़ नहीं आप तो सीधे गांड मारती हो | फिर मैंने उससे वो पैसे नहीं लिए पर जाते जाते उसके नल का एक ज़रूरी सामन निकल के ले आया और उसका सारा घर पानी से भर गया | मैं जानता था की ये या इसके घर का कोई भी पूरे शहर में मेरे पास ही आयेंगे क्यूंकि मेरे काम पे कोई हाथ नहीं रखता | जब वो मेरे पास आये तो मैंने कहा मैं नहीं जाऊँगा मेरे पैसे मुझे नहीं दिए | तब उसने कहा यार दो गुने पैसे लेलो पर चलो और ठीक करदो | मैंने कहा ठीक है चलता हूँ और मैं वह पहुंचा तो वो मेमसाब अब भीगी बनी हुयी थी | उसने सबसे पहले पैसे निकाले और तब मैंने काम किया और फिर वापस आ गया |

 

loading...

उसके बाद मैंने कभी उनलोगों का काम नहीं किया क्यूंकि मुझे जहाँ एक बार इज्ज़त नहीं मिलती मैं वहां दोबारा नहीं जाता | पर एक बार मेरे साथ ऐसा ही हुआ पर यहाँ कुछ अलग ही माजरा था क्यूंकि यहाँ पर मेरा दिल लग गया था | आपको बताता हूँ क्या हुआ था मेरे साथ | मैंने कभी नहीं सोचा था की मुझे कुछ ऐसा मिल जाएगा जिसकी मुझे कभी उम्मीद ही न हो | ये तो वही बात हो गयी “बिन मांगे मोती मिले मांगे मिले न भीख” | मैंने ये सब बिलकुल नहीं सोचा था और ना ही मैं इसके लिए तैयार था | तो दोस्तों अब मैं आपको सुनाता हूँ आखिर मेरे साथ हुआ क्या था | मैंने आपसे से पहले भी बताया काम में मेरा कोइ सानी नहीं बस इसी चीज़ के कारन मैं फस गया | मुझे बिलकुल भी गुमान नहीं था इस बात का कि मेरा काम मुझे इस कदर किसी से मिलवा देगा कि मैं बस उसका ही होक रह जाऊंगा | मुझे लगा मेरी किस्मत मेरे साथ मजाक कर रही है पर ये तो सच्ची बात थी और जब  मेरा भरम टूटा तो मैं सोने के पलने में झूल रहा था | एक बार मुझे एक औरत का फोन आया और उसने कहा सुनिए मेरे घर मैं मुझे एक नया नल कनेक्शन करवाना है आप पाइप लाइन जो देंगे तो आपकी बहुत मेहेरबानी होगी | मैंने कहा जी हम तो इसी काम के लिए बैठे हैं और आप बस मुझे पता देदो कि आना कहाँ पर है | उसने मुझे अपना पता लिखवा दिया और मैं वह पहुंचा तो देखा क्या घर था | बिलकुल शानदार बंगला था और मुझे अन्दर जाने में डर लग रहा था क्यूंकि अन्दर कुत्ते थे | फिर मालकिन बहार आई क्या गज़ब का माल था देखते ही लोगो का मुठ निकल जाए इतना खूबसूरत | फिर जब हम अन्दर जा रहे थे तो उसने कहा वो मैं और मेरी बेटी इस घर में अकेले रहते है इसलिए इन कुत्तों को पाल रखा है तो चोरों का खतरा नहीं रहता | मैंने कहा मैडम बिलकुल सही काम किया आपने | उन्होंने मुझे बता दिया था क्या काम है और मुझे भी मज़ा आ रहा था काम करने में क्यूंकि बड़ा काम बड़ा पैसा |

 

सारा काम ख़त्म हुआ तो मालकिन ने कहा सुनिए वो ऊपर एक बाथरूम है वह पर थोडा नल का दिक्कत है तो आप जाके उसे भी ठीक करदो जब तक मैं पैसे निकाल लेती हूँ | मैंने कह दिया ठीक है क्यूंकि जब वो प्पोरे पैसे दे रही है तो कुछ काम फ्री में भी करना बनता है | मैं बाथरूम पहुंचा तो दरवाज़ा खुला था और मैं सीधा अन्दर चला गया | मैंने देखा मैडम की बेटी अन्दर नाहा रही है और वो पानी में लेटी हुयी है | मैंने सोचा अगर इसे पता चल गया तो ये शोर मचाएगी और में बेमतलब मारा जाऊंगा | उसको लगा उसकी मम्मी है तो उसने कहा मुम्मी यहाँ आओ | मैं चला गया फिर उसने कहा मम्मी मेरी पीठ पर स्क्रब करदो ज़रा | अब मैं क्या करता मैंने पता नहीं क्या था वो उसको हाथ में लिया और उसकी पथ पर लगा दिया और मलने लगा | उसने कहा मम्मी आपके हाथ इतने हार्ड कैसे हो गये क्या कर रहे थे आप पर मैंने कुछ नहीं कहा और बस उसकी पीठ मलता गया | उसने कहा मुम्मी मेरी ब्रा में थोडा हाथ डालो और मेरे निप्प्लेस पे रगड़ दो | मेरी तो गांड ही फट गयी ये बात सुनके मुझे लगा ये लड़की मेरी मैया चुदवा देगी | पर अब मैं क्या करता मैंने उसकी निप्पल में रगड़ना चालू किया और इतने में मेरा लंड खड़ा हो गया | उसने कहा मम्मी क्या कर रही हो और आँखे खोल दी | वो चिल्लाने ही वाली थी कि मैंने उसके मुह पे हाथ रखा और कहा सुनिए मैं प्लम्बर हूँ मुझे नहीं पता था आप अन्दर हो पर जब देखा तो मैं डर गया कहीं आप चिल्ला न दो | इसलिए आपने जो बोला वो सब कर दिया माफ़ करदो | उसने कुछ सोचा और फिर कहा चलो बाहर निकलो यहाँ से और वो कपडे पहन के आई | उसने कहा अगर मैं चहुँ तो तुम्हे अभी जेल की हवा खिलवा सकती हूँ | मैंने कहा ऐसा मत करो मैडम मेरा सब कुछ बर्बाद हो जाएगा | फिर उसने कहा मैं तुम्हे एक ही शर पे जाने दे सकती हूँ तो मैंने कहा आप जो बोलो वो मैं कर दूंगा | उसने कहा जब तुम मेरे निप्पल दबा रहे थे तब मुझे मज़ा आ रहा था और तुम्हे अब ये काम पूरा करना पड़ेगा | उसने एक और बात कही कि उसकी माँ उसकी शादी करवा रहीं है पर वो नहीं करना चाहती इसलिए मुझे उससे शादी भी करनी होगी | मै तैयार था हर चीज़ में क्यूंकि मेरी गर्दन फसी थी पर वो लड़की क्या मस्त आइटम थी मेरा मन भी खुश हो गया था कि ऐसा माल मेरा होगा आज से |

 

मैंने कहा अभी तो आपकी माँ हैं घर में तो कैसे कर पाउँगा | उसने कहा रुको फिर उसने अपनी माँ को फोन लगाया और कहा माँ बाजु वाली सरिता आंटी ने आपको बुलाया है | फिर उसने सरिता आंटी को कॉल किया और कहा आंटी आप मम्मी को घर में रुकवा लो मुझे उस सहदी वाले लड़के को मन करना है | वो औरत भी समझ गयी और यहाँ मेरा कार्यक्रम शुरू होने वाला था | उसने सिर्फ टोवेल पहना था और उसके बाद उसने वो भी उतार दिया और वही नीले रंग का ब्रा जिसमे मैंने उसके निप्पल दबाये थे वो भी उतार दिया | मैंने देखा तो उसके निप्पल बिलकुल गुलाबी थे और मेरा लंड तो खड़ा ही था तरो मैंने तुरंत उनको चूसना चालू कर दिया | उसने कहा अरे पतिदेव एक ही बार में बहेक गये | मैं उसके निप्पल चूस रहा था | वो उम्म्म्मम्म्म्मम्म्म्म ऊह्ह्ह्हह्ह्ह्ह ऊओह्हह्ह उम्म्म्मम्म्म्मम्म्म्म ऊह्ह्ह्हह्ह्ह्ह ऊओह्हह्ह उम्म्म्मम्म्म्मम्म्म्म ऊह्ह्ह्हह्ह्ह्ह ऊओह्हह्ह करने लगी और मेरा लंड तो उफान पर था | मैंने उससे कहा मैडम अब अपनी पेंटी उतारो और चूत दिखाओ उसने कहा दिखाओ नहीं खा जाओ मेरी गीली चूत | मैंने उसकी चूत को इतने प्यार से छठा की वो दीवानी हो गयी | फिर मैंने उसकी चूत में ऐसा लंड घुसाया कि वो बस उम्म्म्मम्म्म्मम्म्म्म ऊह्ह्ह्हह्ह्ह्ह ऊओह्हह्ह उम्म्म्मम्म्म्मम्म्म्म ऊह्ह्ह्हह्ह्ह्ह ऊओह्हह्ह उम्म्म्मम्म्म्मम्म्म्म ऊह्ह्ह्हह्ह्ह्ह ऊओह्हह्ह उम्म्म्मम्म्म्मम्म्म्म ऊह्ह्ह्हह्ह्ह्ह ऊओह्हह्ह करती रह गयी एक घंटे तक | मैंने अपना माल भी उसके अन्दर गिरा दिया था और वो अब मुस्कुराने लगी थी मुझे गले लगाकर | वो माँ बनने वाली थी और उसकी माँ ने अपनी ममता दिखाते हुए हमारी शादी करवाई और आज भी उसे मेरे लंड के अलावा कुछ नहीं दिखता |