शादी के बाद बनी रंडी


hindi sex stories हेल्लो दोस्तों मेरा नाम रजनी है | मैं रहने वाली मुम्बई के पास एक छोटे से शहर की हूँ | मैं जो आज कहानी आप लोगो के सामने प्रस्तुत करने जा रही हूँ ये मेरे जीवन की सच्ची कहानी है | मैं जो आज कहानी आप लोगो के सामने पेश करने जा रही हूँ मेरे पहली कहानी है तो मैं आप सभी लोगो से उम्मीद करती हूँ की आप लोगो को मेरी कहानी पसंद आएगी और इस कहानी को पढने में मज़ा तो जरुर आएगा | अगर आप लोगो को मेरी कहानी पसंद आती है तो मुझे जरुर बताएं | मैं अपनी कहानी को शुरू करने से पहले अपने बारे में बता देती हूँ | मेरी उम्र 30 साल है | मेरी हाईट 5 फुट 8 इंच है और मेरा रंग गोरा है बिलकुल दूध की तरह | मेरा फिगर बहुत सेक्सी हैं | मेरे बूब्स 38 इंच के हैं और मेरी गांड काफी चौड़ी है जिससे जब मैं चलती हूँ तो मेरी गांड मटकती चलती है | दोस्तों मैं शादी के पहले भी कई लोगो से चुदाई के मज़े ले चुकी हूँ और मुझे चुदाई कराने में मज़ा आता है इसलिए में किसी से भी चुद लिया करती थी | पर जब मेरी शादी हो गयी थी तब से सब कुछ अपने पति को ही मानती थी | मेरे पति दिखने में बहुत सुन्दर है और उनकी हाईट बॉडी भी ठीक ठाक है जिससे वो बहुत अच्छे लगते हैं | मेरे पति का लंड बहुत बड़ा और मोटा है जिससे वो मेरी चुदाई की इच्छा को पूरी कर सकते थे | वो मेरी चुदाई की इच्छा तो पूरी कर देते थे पर मेरे शौक नही पुरे कर पाते थे क्यूंकि वो जो काम करते थे उसमे बहुत कम रूपये मिलते थे | वो जितने रूपये पाते थे उससे घर का ही खर्चा चल पता था इसलिए मैं भी काम करती थी |
ये कहानी मेरी शादी के 1 -2 साल बाद की है | जब मेरी शादी हुई थी तो मैं उन्हें कुछ नही कहती थी | फिर शादी के कुछ साल बाद जब वो मुझे रूपये नही दे पाने लगे तो मैं उनसे बहुत नाखुश रहती थी और बात बात पर लडाई करती थी | मैं जब उनसे लड़ाई करती थी तो वो मुझे कुछ नही कहते थे और बस यही कहते थे की एक दिन सब ठीक हो जायेगा तब तुम जितना मन करे उनता रुपया खर्च किया करना | मैं भी सब औरतो की तरह नई साड़ी और भी सब कुछ नया पहनना चाहती थी | पर जब उनसे नही हो सका तो मैं खुद ही अपना रास्ता चुन लिया | मैं शादी के पहले भी बहुत चुदक्कड थी और रुपयों के लिए किसी से चुद लिया करती थी | मैं इतनी सुन्दर थी की किसी भी अमीर आदमी को पटा सकती थी | फिर मैं किसी अमीर आदमी की तलास करने लगी | कुछ दिन बाद मुझे एक बहुत अमीर आदमी मिला | वो मुझे देख रहा था और मैं उसे देख रही थी | मुझे कुछ देर तक घूरता रहा और मैं उसको सेक्सी नज़रो से देखती रही | अब जब मैं शाम को बस का इतंजार करती घर आने के लिए तो वो रोज ही आ जाता बस स्टेंड पर मुझे लाइन मारने | मैं तो समझ ही गयी थी की ये फंस जायेगा और वो रोज ही उसी टाइम आने लगा | एक दिन की बात है जब मैं कुछ देर में आई और मेरी बस निकल गयी तो मैंने देखा की वो मेरा अभी भी इंतजार कर रहा था | जब बस चली गयी तो मैं कुछ दूर तो पैदल ही चलकर आई और वो मुझे पैदल चलते देख कार लाके मेरे पास रोक दिया | जब उसने कार रोक दी तो मुझसे बैठने को कहा और मैं कार में बैठ गयी | जब मैं उसके साथ बैठ गयी तो वो मुझसे बाते करने लगा और मुझसे मेरा नाम पूछा तो मैं उसे अपना नाम बता दिया | फिर मैंने उसका नाम पूछा तो उसने मुझे अपना नाम दिवाकर बताया | दोस्तो मैं उसके बारे में पहले से सब जानती थी इसलिए में रोज बस स्टेंड पर आती थी क्यूंकि मुझे पता था की ये मुझे देखने के लिए जरुर आएगा | वैसे मैं अपने घर पैदल ही चली जाती थी क्यूंकि मेरे घर वहां से कुछ दुरी पर ही था |
फिर वो मुझसे ऐसे ही बात बात में सब कुछ जान लिया | जब मैं काम करने के बाद आती तो वो मुझे रोज ही कार से छोड़ देता | अब वो मुझे रोज बात भी करने लगा और मुझे मेरा प्लान कामियाब होते लगने लगा | वो मुझे रोज बात करता और मुझे शोपिंग कराने भी ले जाता था | वो मुझे अब रोज ही कहीं न कहीं घुमाने ले जाता और किसी न किसी दिन मुझे कोई चीज गिफ्ट भी करता | वो कुछ दिन बाद मुझसे बोला की मैं तुमसे प्यार करता हूँ | उसके मुंह से ये बात सुनकर मुझे अच्छा लगा और सोचा की मेरा प्लान कामियाब हो गया है | तब मैंने उससे कहा की तुम्हे तो पता है मैं शादीशुदा हूँ तो वो मुझसे बोला की तो क्या हुआ तुम मुझसे जैसे मिलती हो मिलते रहना ये बात तुम्हारे पति को नही पता चलेगी | मैं और तुम दोस्त की तरह रहेंगे | मैं मान गयी और वो मुझे हमेशा की तरह अपने घर ले गया | जब वो मुझे उस दिन घर ले गया तो मुझे अपनी बाँहों में भर लिया जब उसने मुझे अपनी बाँहों में भर लिया तो मैं कुछ नही बोली | फिर वो मुझे चूमने लगा साथ में मेरी होठो पर अपनी होठो को रख कर किस करने लगा और मेरे बूब्स को कपड़े के ऊपर से दबाने लगा | वो मेरे बूब्स को कपडे के ऊपर से दबाने लगा | वो कुछ ही देर में मेरी होठो की सारी लिपस्टिक चूस डाली और धीरे से मेरी चूत पर अपना एक हाथ रख दिया | तब मैंने उसे मना किया यार ये मात करो तो वो मान गया और बोला ठीक है जब तुम कहोगी तब | मुझे भी क्या था मेरे पति मुझे चुदाई का मज़ा देते ही थे और वो मेरा खर्चा उठा ही रहा था |

फिर उसके कुछ दिन बाद की बात है जब वो मुझे शोपिंग कराने ले गया और हम शोपिंग करने के बाद एक रेस्टोरेंट में जाकर खाना खाया | फिर वो मुझे अपने साथ अपने घर ले गया | जब वो मुझे अपने साथ अपने घर ले गया | वो मैं बैठ कर बाते करने लगे तब उसने मुझे अपनी बाँहों में उठा लिया और अपने बेडरूम में ले गया | वो मुझे बिस्तर पर लेटा कर मेरी होठो पर अपनी होठो को रख कर चुसने लगा | मैं उसकी होठो को चूसने लगी | वो मेरी होठो को चूसने के साथ मेरे बड़े बड़े बूब्स को कपडे के ऊपर से पकड कर दबा रहा था | वो मेरी होठो को कुछ देर तक ऐसे ही चूसता रहा और फिर मेरे कपडे निकालने लगा तो मैं भी उस दिन उससे चुदना चाहती थी इसलिए कुछ नही बोली | उसने मुझे 1 मिनट में ही ब्रा और पैंटी में कर दिया | वो मुझे ब्रा और पैंटी में देख कर बहुत खुश हुआ और मेरी ब्रा को खोल कर मेरे दोनों बूब्स को हाथ में पकड कर दबाते हुए चूसने लगा | वो मेरे एक दूध को मुंह में रख कर चूस रहा था और एक दूध को हाथ से दबा रहा था | वो मेरे बूब्स को ऐसे ही कुछ देर तक दबाने के बाद मेरी पैंटी को निकाल कर मेरी चूत को जीभ से चाटने लगा | जब वो मेरी चूत को चाटने लगा तो मेरी सांसे तेज हो गयी | वो मेरी चूत के दाने को पकड कर खीच खीच कर चूसने लगा और मैं जोर जोर से सेक्सी आवाजे करती हुई उसके सर को दबा रही थी |
वो मेरी चूत को चाटने के साथ ऊँगली भी घुसा दी और जोर जोर से अन्दर बाहर करने लगा | मैं अहं हाँ उई हाँ उई हाँ… उई हाँ उई हाँ आ हं आ…. की सिसकियाँ लेने लगी | वो मेरी चूत में ऐसे ही कुछ देर तक करने के बाद अपने कपड़े निकाल दिए | वो अपने कपडे निकाल कर अपने लंड को मेरे मुंह में डाल कर चुसाने लगा | वो मेरे मुंह में ऐसे ही कुछ देर तक लंड को चुसाने के बाद मेरी गुलाबी चूत के मुंह पर लंड को रख कर घुसा दिया | उसका मोटा और लम्बा लंड जैसे ही मेरी चूत में घुसा तो मेरे मुंह से जोरदार सिसकियाँ निकाल गयी | वो मेरी टांगो को उठा कर चूत में जोरदार धक्के मारने लगा | जब वो मेरी चूत में जोरदार धक्के मारने लगा तो मेरे बड़े बड़े बूब्स जोर जोर से हिलने लगे | मैं अपने बूब्स को पकड कर जोर जोर से सेक्सी आवाजे करती हुई चुदने लगी | वो मेरी चूत में जितने जोर से धक्के मारता मुझे उनता ही मज़ा आता और मैं मस्त आवाजे करती हुई चुद रही थी | वो मेरी चूत में ऐसे ही कुछ देर तक धक्के मारने के बाद मुझे घोड़ी की तरह खड़े कर दिया | फिर मेरी चूत में पीछे से लंड को घुसा कर अन्दर बाहर करते हुए चोदने लगा | वो मेरी चूत में धक्को की स्पीड इतने जोर कर दी की उसका लंड मारी बच्चे दानी में जाकर रगड़ता जिससे मुझे और मज़ा आता | वो मुझे ऐसे ही 15 मिनट तक चोदने के बाद झड़ गया |
फिर उसने मेरी चूत में ऊँगली घुसा कर जोर जोर से हिलाने लगा जिससे मेरी चूत का पानी निकाल गया | फिर उसने मुझे किस किया और मैंने अपने कपडे पहन लिए और उसने अपने कपडे पहन लिए | उस चोदाई के बाद मैं और कई बार चुद चुकी हूँ |
धन्यवाद……………..


error: