पति के मामा का बेटा


sex stories in hindi

हाय फ्रेंड्स कैसे हैं आप सभी ? मैं आशा करती हूँ कि आप सभी अच्छे होंगे | मेरा नाम शुष्मा है और मैं कनवा की रहने वाली हूँ | मेरी उम्र 34 साल है और मैं एक शादीशुदा महिला हूँ | मैं दिखने में गोरी हूँ और मेरा बदन भी गदराया हुआ है | मेरी हाईट 5 फुट 7 इंच है और मेरे दूध बड़े हैं और गांड भी बड़ी और गोल है | जब मैं चलती हूँ तो मेरे दोनों चूतड़ भी साथ देते हैं  | मैं इस साईट की दैनिक पाठक हूँ और मुझे चुदाई की कहानियां पढ़ना अच्छा लगता है | दोस्तों आज जो मैं आप लोगो के सामने अपनी कहानी पेश करने जा रही हूँ ये मेरी पहली कहानी है और मेरे जीवन की सच्ची घटना है | मैं उम्मीद करती हूँ कि आप लोगो को मेरी कहानी पसंद आयगी और मेरी कहानी पढ़ कर आप लोगो को मजा भी आयगा | तो अब बिना वक़्त बर्बाद करते हुए अपनी कहानी शुरू करती हूँ | ये मेरी पहली कहानी है तो हो सकता है कि इसमें गलती के आसार ज्यादा हो | अगर आप लोगो को इसमें कोई गलती नजर आती है तो मुझे माफ़ करना |

मेरे घर में मैं और मेरे पति ही रहते हैं | सास ससुर भी रहते थे लेकिन दो साल पहले उनकी एक्सीडेंट में मौत हो गई | अभी मेरे कोई भी बच्चे नहीं हैं | मेरे पति शादी के कुछ महीनो तक तो मुझे खूब चोदते थे लेकिन बाद में पता नहीं उन्हें क्या हो गया वो जल्दी झड़ कर सो जाते और मेरी चूत की प्यास बुझ नहीं पाती | शादी के पहले मेरे बड़े अरमान थे की शादी के बाद मैं अपनी चूत खूब चुदवाउंगी और चुदाई के मजे लूंगी | स्कूल में मेरा एक बॉयफ्रेंड था पर मैंने उसे कभी किस के आगे बढ़ने नहीं दिया क्यूंकि मुझे पता था कि ये मुझे शादी नही करेगा | फिर जब कॉलेज में थी तब मेरा एक बॉयफ्रेंड और बना और उसे भी मैंने किस के आगे बढ़ने नहीं दिया | मैंने उससे कहा था कि जब तुम मुझसे शादी करोगे तभी चोदने दूँगी नहीं तो मैं कुछ भी नहीं करने दूंगी | इसी बात से हमारी अकसर लड़ाई हुआ करती थी और फिर एक दिन ऐसा आया कि मुझे उसका साथ छोड़ना पड़ा | कॉलेज के खत्म होने के बाद मैंने एक स्कूल में जॉब कर लिया | वहां भी मेरे पीछे कई टीचर्स पड़े रहते थे लेकिन मैंने वहां पर किसी को भी भाव नहीं दिया | शादी होने के बाद पति से उम्मीद थी कि वो मुझे अच्छे से चोदेगा पर मादरचोद कुछ ही समय मे ठंडा पड़ गया और मेरी चुदाई की आग को जलता छोड़ दिया | मैं रोज रात में ब्लू फिल्म देखती और डिलडो से अपनी चूत को शांत कर लेती पर डिलडो से होता क्या है बस आत्मा को शांति मिलती है चूत को तो लंड से ही शांति मिलती है | मेरी शादी को दो साल हो गए लेकिन मेरा पति मुझे सिर्फ तीन महीने ही अच्छे से चोद पाया | मैंने सोचा कि किसी और से अपनी चूत को चुदवा लूं पर पता नहीं क्यूँ मन नहीं मानता था | मैं अक्सर सोचती कि कभी दूध वाले से या कभी सब्जी वाले से अपनी चूत चुदवा लूं |

एक दिन की बात है मेरे पति शाम को घर आये और कहा कि मेरे मामा का लड़का यहाँ कुछ दिन के लिए रहने आ रहा है कोई दिक्कत तो नहीं है | मैंने कहा नही क्या दिक्कत हो सकती है | उसका नाम पंकज है और वो अभी 24 साल का है नौजवान लौंडा है | उसकी कदकाठी काफी अच्छे है | दो दिन बात वो हमारे घर आ गया | उस समय मैं नहा कर निकली ही थी और अपने बाल सुखा रही थी | मैंने उस समय गाउन पहना हुआ था और बदन गीला होने की वजह से गाउन मेरे बदन से चिपका हुआ था | वो मुझे घूर घूर कर देखने लगा | मैंने कहा अरे तुम बाहर खड़े हो अन्दर आओ | तो उसने कहा अरे भाभी आप पहले जैसे नहीं रहे अब | मैंने पूछा क्यूँ ? तो उसने कहा आप तो अभी पहले से ज्यादा सुन्दर लगने लगे हो | मैंने मंद ही मंद मुस्कुराया और कहा चल रे मजाक मत कर | तेरी गर्लफ्रेंड से कम ही सुन्दर हूँ | तो उसने कहा नहीं भाभी वो आपकी सुन्दरता के सामने पानी कम चाय है | हम दोनों की ऐसे ही कुछ देर बात हुई और फिर मैंने उसे कमरा दिखा दिया कि यहाँ तुम रुकना | फिर वो अपना सामान शिफ्ट करने लगा और मैं किचिन में काम करने लगी | जब मैं उसके कमरे में गई तो दरवाजा बंद था | मैंने आवाज़ लगाने से पहले सोचा कि चलो देखती हूँ ये क्या कर रहा है ? जब मैंने देखा तो मेरे होश उड़ गए | वो अपने लंड को बाहर निकाल कर मुट्ठ मार रहा था | उसका लंड 8 इंच लम्बा और 3 इंच मोटा होगा | ये देख कर मेरी साँसे तेज हो गई और मन में अजीब अजीब ख्याल आने लगे | फिर मैं जल्दी से किचिन वापस आ गई | बार बार उसका लंड मेरी दिल और दिमाग में आने लगा | आँखों के सामने बस उसका मोटा लंड ही दिखने में लगा | उसके बाद मैंने मन बना लिया कि इससे अपनी चूत चुदवाउंगी | अब मैं उसके सामने कभी अपने दूध दिखाती तो कभी अपनी गांड मटका मटका कर चल के दिखाती | वो भी ये सब देख कर अपने लंड को मसलता | एक दिन दोपहर की बात है वो अपने कमरे में था | तो मैंने सोचा कि देखती हूँ क्या कर रहा होगा ? देखा तो फिर मुट्ठ मार रहा था और उसके हाँथ में मेरी तस्वीर थी | मैंने सोचा कि यही सही मौका है इससे चुदवाने का | मैंने दरवाजा खटखटाया तो एक मिनट बोल कर बाहर आया | मैंने उससे पूछा कि क्या कर रहा है ? तो उसने कहा कुछ नही बस कसरत कर रहा था | मैंने कहा अपनी कसरत कर रहा था या अपने लंड की | उसने पूछा आप क्या कह रहे हो मेरे समझ में नहीं आया ? तो मैंने कहा देख ज्यादा नाटक मत कर मुझे पता है जब से तू यहाँ आया है मेरी याद में मुट्ठ मरता है | फिर वो शर्माने लगा तो मैंने कहा शर्मा मत जो तू चाहता है मुझसे वो मैं भी चाहती हूँ तुझसे | ये बात सुन कर वो खुश हो गया |

मैंने मेन डोर बंद किया और उसे अपने से चिपका लिया | फिर मैंने अपने होंठ उसके होंठ में दबा कर चूसने लगी तो वो भी मेरा साथ किस्सिंग में देने लगा और मेरे होंठ को जोर जोर से चूसने लगा | फिर हम दोनों ने एक दूसरे के कपड़े उतारे और नंगे हो कर एक दूसरे के बदन से चिपक कर सहलाने लगे | उसके बाद मैं उसके मोटे लंड को अपनी जीभ से चाटने लगी तो उसके मुँह से आहाआ ऊनंह उऊंम्ह ऊन्न्म्ह उआहा ऊउन्न्ह ऊउमंह आहा ऊउन्न्ह ऊउम्मंह की सिस्कारियां निकलने लगी | उसके लंड को मैंने अच्छे से चाट कर पूरा गीला कर दिया और फिर मैं उसके लंड को अपने मुँह में डाल कर चूसने लगी तो वो आहाआ ऊनंह उऊंम्ह ऊन्न्म्ह उआहा ऊउन्न्ह ऊउमंह आहा ऊउन्न्ह ऊउम्मंह करते हुए मेरे मुँह में अपना लंड पेलने लगा | उसका ये तरीका मुझे पसंद आया | फिर उसने मेरे दोनों दूध को अपने मुँह में लिए और चूसने लगा तो मेरे मुँह से भी आहाआ ऊनंह उऊंम्ह ऊन्न्म्ह उआहा ऊउन्न्ह ऊउमंह आहा ऊउन्न्ह ऊउम्मंह की आवाज़ निक्क्लने लगी | वो मेरे दूध को जोर जोर से मसलते हुए चूस रहा था और मैं आहाआ ऊनंह उऊंम्ह ऊन्न्म्ह उआहा ऊउन्न्ह ऊउमंह आहा ऊउन्न्ह ऊउम्मंह करते हुए उसके सिर पर हाँथ फेर रही थी | फिर उसने मुझे लेटाया और मेरी चूत को चाटने लगा तो मैं आहाआ ऊनंह उऊंम्ह ऊन्न्म्ह उआहा ऊउन्न्ह ऊउमंह आहा ऊउन्न्ह ऊउम्मंह करते हुए सोच रही थी कि काश इसी से मेरी शादी हो गई होती | वो मेरी चूत को अपनी जीभ से रगड़ते हुए चाट रहा था और मैं आहाआ ऊनंह उऊंम्ह ऊन्न्म्ह उआहा ऊउन्न्ह ऊउमंह आहा ऊउन्न्ह ऊउम्मंह करते हुए उसके मुँह को अपनी चूत पर दबा रही थी | कुछ देर बाद वो उठा और अपने लंड को मेरी चूत में पेल दिया और चोदने लगा तो मैं भी आहाआ ऊनंह उऊंम्ह ऊन्न्म्ह उआहा ऊउन्न्ह ऊउमंह आहा ऊउन्न्ह ऊउम्मंह करते हुए चुदाई में उसका साथ देने लगी | वो बहुत अच्छे से मेरी चूत को चोद रहा था और फिर उसने चुदाई की रफ़्तार बढ़ा दिया और चोदने लगा जोर जोर से शॉट लगाते हुए और मैं भी आहाआ ऊनंह उऊंम्ह ऊन्न्म्ह उआहा ऊउन्न्ह ऊउमंह आहा ऊउन्न्ह ऊउम्मंह करते हुए अपनी कमर उठा उठा कर चुदवा रही थी | मुझे बड़े ही समय बाद असली चुदाई का मजा मिल रहा था | करीब 45 मिनट तक उसने मुझे खूब चोदा और हर एंगल से चोदा | उसके बाद उसने अपना वीर्य मेरी चूत में ही छोड़ दिया |


error: