पापा के दोस्त के बेटे से चुदाई


sex stories in hindi

हाय फ्रेंड्स, कैसे हैं आप सभी ? मैं आशा करती हूँ कि आप सभी अच्छे होंगे और चुदाई के मजे जरुर ले रहे होंगे | मेरा नाम सोनम मिश्र है और मैं घंटाघर में रहती हूँ | मेरी उम्र 25 साल है और मैं अभी कुछ भी नहीं करती हूँ सिवाए घर के काम को छोड़ कर | मैं दिखने मलाई जैसी गोरी हूँ और मेरी हाईट 5 फुट 5 इंच है और मेरा बदन थोडा हेल्थी है | पर फिर भी मेरा भरा बदन लोगो को पसंद आता है | मैं इस साईट की दैनिक पाठक हूँ और मुझे इस साईट पर चुदाई की कहानियां पढ़ना बहुत पसंद है | मैं हमेशा फ्री टाइम में दो कहानी जरुर पढ़ती हूँ | दोस्तों आज जो मैं आप लोगो के सामने अपनी कहानी लिखने जा रही हूँ ये मेरी पहली कहानी है और मेरे जीवन की सच्ची घटना है | मैं उम्मीद करती हूँ कि आप लोगो को मेरी कहानी जरुर पसंद आयगी और आप सभी मेरी कहानी पढ़ कर मदहोश भी हो जाओगे | तो अब मैं आप लोगो के कीमती समय को बराबद न करते हुए सीधा अपनी कहानी पर आती हूँ |

दोस्तों मेरे घर में मैं हूँ और मेरे दो छोटे भाई जो कि स्कूल में पढ़ते हैं | मैं घर में सबसे बड़ी हूँ और मेरे पापा बैंक मैनेजर हैं और मम्मी प्राइवेट स्कूल टीचर हैं | दोस्तों जब मैं स्कूल में पढाई करती थी तब मेरा एक बॉयफ्रेंड हुआ करता था जिसका नाम संकेत सोमरा था | वो काफी रिच फैमिली से था | हम दोनों का रिलेशन दो साल तक चला लेकिन जब मुझे पता चला कि ये मेरे साथ रिलेशन में है और उसके बाद भी दूसरी लडकियो से फ़्लर्ट करता है तो मैंने उससे झगड़ा कर ब्रेकअप कर लिया | कुछ महीने तो मुझे उसे भूलने में लग गए क्यूंकि मैं तो उससे प्यार करती थी | फिर जब एक दिन मैंने उसे किसी और लड़की के साथ हँसते हुए देखा तो मुझे बहुत गुस्सा आया क्यूंकि मैं उससे सच्चा प्यार करती थी और मैं रोज रोती भी थी और ये साला मादरचोद किसी और के साथ हँस खेल रहा है | तभी मैंने फैसला ले लिया था कि अब मैं भी मूव ऑन कर लेती हूँ | क्या फायदा उसकी यादो में आंसू बहाने का | उसके बाद मैं भी अपनी लाइफ में खुश रहने लगी और उसे इस कदर भूली की जब भी वो मिलता तो मेरे अन्दर उसके प्रति कोई फीलिंग्स ही नहीं आती | स्कूल खत्म होने के बाद मैं जब कॉलेज गई तब भी कई लड़के मुझे प्रोपोस करते थे लेकिन मैंने किसी को भी अपना बॉयफ्रेंड नहीं बनाया क्यूंकि मुझे लगने लगा था कि सारे लड़के एक जैसे ही होते है | लेकिन मेरे दोस्त थे उनमे से एक लड़का था जिसका नाम सुनील है और वो मेरा बहुत अच्छा दोस्त है | या यूँ कह लो कि वो मेरा बेस्ट फ्रेंड है | मैं उससे हर चीज़ शेयर करती हूँ और वो भी मुझे हर चीज़ बताता है | हम दोनों साथ में थे तो ऐसे ही बात करते करते हमारी दोस्ती हो गई थी और मुझे उसका नेचर और व्यवहार अच्छा लगा तो तो हमारी दोस्ती पक्की होती चली गई और फिर हम बेस्ट फ्रेंड बन गए | कॉलेज खत्म होने के बाद भी हमारी दोस्ती अभी तक है | लेकिन मैंने उससे एक बात शेयर नहीं की और वो बात है कि मेरे पापा के एक दोस्त हैं जिनका नाम सुरेश है |

loading...

वो मेरे पापा के बहुत अच्छे स्कूल फ्रेंड हैं | उनका एक बेटा है जिसका नाम रोहित है और वो दिखने में बहुत ही हेंडसम है उसकी उम्र भी लगभग मेरे जितनी ही है | उसका रहने का ढंग और उसके बात करने का तरीका इस तरह का है कि वो जिससे भी बात कर ले तो बातो में ही सभी को इम्प्रेस कर ले | एक बार की बात है अंकल और रोहित दोनों हमारे घर आये हुए थे और तभी उनके बीच बाते हुयी और पापा ने कहा कि बेटा तुम दोनों बात करो हम थोड़ी देर में आते हैं | उसके बाद वो दोनों चले गए और तभी रोहित ने मुझसे कहा कि ये दोनों ड्रिंक करने गए हैं | मैंने उससे पूछा कि तुम्हे कैसे पता ? तो उसने कहा कि जब मेरे पापा तुम्हारे पापा से बात कर रहे थे ड्रिंक करने की | मैंने कहा अच्छा ऐसा है क्या ? उस समय हम दोनों अकेले ही थी मम्मी तो स्कूल गई हुई थी और मेरे दोनों भाई भी स्कूल में थे | फिर हम दोनों में थोड़ी देर तक यहाँ वहां की बाते होने लगी और फिर एक दम उसने मुझसे पूछा कि क्या तुम्हरा कोई बॉयफ्रेंड है ? तो मैंने कहा नहीं मेरा कोई बॉयफ्रेंड नहीं है | फिर मैंने भी पूछा तो उसने कहा कि मैं भी अभी सिंगल हूँ | उसके बाद हम दोनों कुछ देर तक शांत रहे तो मैंने उससे कहा कि मैं तुमसे एक बात करना चाहती हूँ | उसने पूछा क्या कहना है बोलो ? तो मैंने कहा कि मैं तुम्हे पसंद करती हूँ तो उसने भी कहा कि मैं भी तुम्हे पसंद करता हूँ लेकिन मैं कहने से डरता था इसलिए कभी तुमसे बात करने की हिम्मत नहीं हुई | फिर हम दोनों ने एक दुसरे की तरफ देखा और किस ही करने वाले थे कि उसके पापा ने आवाज़ दे दी | उसने मुझे अपना नंबर दिया और कहा कि कॉल करना | मैंने भी हाँ कर दिया | फिर हमारी रोज फ़ोन पर बात होने लगी और हम दोनों मिलने भी लगे थे | ये बात किसी को भी नहीं पता था कि हमारे बीच में कुछ है | कुछ समय बाद मैंने उसको अपने घर आने को कहा तो उसने पूछा कि तुम्हरा घर कब तक खाली रहेगा | तो मैंने कहा कि बहुत समय तक खाली रहेगा | उसने कहा ठीक है मैं 15 मिनट में आता हूँ | लेकिन वो आधे घंटे बाद आया और आते ही मुझे सॉरी बोलने लगा तो मैंने कहा कोई जरुरत नहीं है सॉरी बोलने की मैं तुमसे नाराज नहीं हूँ | फिर मैंने दरवाजा बंद किया और उसे अपने कमरे में ले कर गई | वहां जाते ही उसने मुझे अपनी बांहों में जकड़ लिया और पीछे से ही मेरे दूध को दबाने लगा | फिर उसने मुझे पलटाया और अपने होंठ मेरे होंठ से लगा कर चूसने लगा | मेरे लिए ये नया एहसास था तो मुझे अच्छा लग रहा था |

मैं भी उसका साथ देते हुए उसे किस कर रही थी | हम दोनों ने 10 मिनट तक किस किया और फिर उसने मेरे टॉप को निकाल दिया और ब्रा के ऊपर से ही मेरे दूध को दबाने लगा तो मेरे मुंह से आहाआ ऊनंह ऊउम्मंह आअहाआ ऊउम्मंह ऊउन्न्ह आहाआ ऊउम्न्न उऊंमंह आहाआअ की सिस्कारियां निकलने लगी | उसके बाद उसने मेरे ब्रा को भी निकाल दिया और मेरे दोनों दूध को चूसने लगा तो मैं आहाआ ऊनंह ऊउम्मंह आअहाआ ऊउम्मंह ऊउन्न्ह आहाआ ऊउम्न्न उऊंमंह आहाआअ करने लगी | वो मेरे दूध को जोर जोर से दबा रहा था और चूस रहा था और मैं आहाआ ऊनंह ऊउम्मंह आअहाआ ऊउम्मंह ऊउन्न्ह आहाआ ऊउम्न्न उऊंमंह आहाआअ करते हुए सिस्करियाँ ले रही थी | फिर उसने मेरी स्कर्ट और पेंटी को खींच कर एक ही बार में निकाल दिया और मुझे लेटा कर मेरी दोनों टांगों को चौड़ा कर के चूत को चाटने लगा तो मैं आहाआ ऊनंह ऊउम्मंह आअहाआ ऊउम्मंह ऊउन्न्ह आहाआ ऊउम्न्न उऊंमंह आहाआअ करते हुए मदहोश होने लगी | वो मेरी चूत को चाटते हुए चूत के दाने को भी होंठ से दबा कर चोस रहा था और मैं आहाआ ऊनंह ऊउम्मंह आअहाआ ऊउम्मंह ऊउन्न्ह आहाआ ऊउम्न्न उऊंमंह आहाआअ करते हुए उसके मुंह को अपनी चूत पर दबा रही थी | फिर उसने अपने कपडे उतारे और नंगा हो गया | मैंने भी उसके लंड को चाटना शुरू कर दी तो वो भी आहाआ ऊनंह ऊउम्मंह आअहाआ ऊउम्मंह ऊउन्न्ह आहाआ ऊउम्न्न उऊंमंह आहाआअ करते हुए आन्हे भरने लगा | उसके लंड को चाटने के बाद मैंने उसके लंड को अपने मुंह में डाला और चूसने लगी तो वो आहाआ ऊनंह ऊउम्मंह आअहाआ ऊउम्मंह ऊउन्न्ह आहाआ ऊउम्न्न उऊंमंह आहाआअ करते हुए मेरे मुंह की चुदाई करने लगा | मैं उसके लंड को चूसते हुए दोनों गोटो को भी चूस रही थी और वो आहाआ ऊनंह ऊउम्मंह आअहाआ ऊउम्मंह ऊउन्न्ह आहाआ ऊउम्न्न उऊंमंह आहाआअ करते हुए सिसकारी भर रहा था | फिर उसने अपने लंड को मेरी चूत में लगा कर ही धक्के में अन्दर पेल दिया और चोदने लगा तो मैं भी आहाआ ऊनंह ऊउम्मंह आअहाआ ऊउम्मंह ऊउन्न्ह आहाआ ऊउम्न्न उऊंमंह आहाआअ करते हुए चुदाई के मजे लेने लगी | वो जोर जोर से मेरी चूत को चोद रहा था और मैं आहाआ ऊनंह ऊउम्मंह आअहाआ ऊउम्मंह ऊउन्न्ह आहाआ ऊउम्न्न उऊंमंह आहाआअ करते हुए अपने दूध को मसल रही थी | फिर उसने मुझे धोड़ी बना दिया और पीछे से मेरी चूत में लंड डाल कर चोदने लगा तो मैं भी आहाआ ऊनंह ऊउम्मंह आअहाआ ऊउम्मंह ऊउन्न्ह आहाआ ऊउम्न्न उऊंमंह आहाआअ करते हुए अपनी गांड आगे पीछे करते हुए चुदाई में साथ दे रही थी | कुछ देर की चुदाई के बाद उसने अपना माल मेरी गांड में निकाल दिया |