पहली चुदाई के मज़े लिए घर के नौकर के साथ


hindi sex stories हेल्लो दोस्तों मेरा नाम अनीता है | दोस्तों मैं आज हिंदी सेक्स कहानियां के पाठको के लिए अपनी एक कहानी को लेकर आई हूँ | ये मेरी पहली चुदाई की कहानी है और मेरे जीवन की सच्ची घटना जिसके बाद मेरी जिन्दगी ही बदल गयी | दोस्तों मैं जो आज कहानी पेश करने जा रही हूँ इस कहानी को पढने में आप लोगो को बहुत मज़ा आयेगा और पसंद तो जरुर आयेगी | दोस्तों तो मैं अपनी कहानी को शुरू करने से पहले अपना परिचय दे देती हूँ | मैं रहने वाली जयपुर की हूँ और मुझे आप लोगो की तरह ही सेक्सी कहानी पढना पसंद है | मैं सेक्सी कहानियों को काफी टाइम से पढ़ती आ रही हूँ और जब मैं कहानी पढ़ती थी तो मुझे अजीब सा फील होता था जिसकी फीलिंग मुझे बहुत अच्छी लगती थी | मुझे अच्छा लगता था इसलिए मैं कहानियों को पढ़ती थी | मैं जब अक्सर कहानी पढ़ती थी तो मेरी चूत गीली हो जाती थी | मेरी उम्र 19 साल है और मैं दिखने में मस्त माल लगती हूँ | मेरे फिगर बहुत सेक्सी है और मेरे बूब्स काफी बड़े है जोकि ऊपर की और उठे रहते हैं | मेरे घर मैं में अकेली ही रहती हूँ क्यंकि मेरे मम्मी और पापा जॉब करते हैं जिसकी वजह से वो दूसरी जगह रहते हैं | दोस्तों मैं आप लोगो का ज्यादा टाइम न लेती हुई सीधे कहानी को शुरू करती हूँ |
मैं जो कहानी आप लोगो को सुनाने जा रही हूँ ये कहानी एक साल पहले की हैं जब मेरी उम्र 18 साल थी | उस टाइम मेरी चढती जवानी थी जिसकी वजह से मेरा बदन भरा हुआ था और मेरे बूब्स काफी बढ़ गए थे | उस टाइम मेरे मन में भी चुदाई की इच्छा आने लगी थी और मैं भी अपनी चूत में लंड को लेने के लिए तरसने लगी थी | मैं ये सब करना चाहती थी पर इसके लिए मुझे लड़के की जरूरत थी जोकि मेरे पास नही था | मेरा कोई बॉयफ्रेंड भी नही था मैं जिसके साथ सेक्स के मज़े ले पाती | दोस्तों एक दिन की बात है जब मैं अपने घर में अकेली बैठी थी तो मेरे घर में एक नौकर रहता है जिसका नाम अलोक है और वो शादीशुदा है | वो मेरे घर काफी टाइम से काम करता है पर मुझे नही पता था की वो मेरे साथ सेक्स के मज़े लेना चाहता है | वैसे कोई लड़की अपने घर के नौकर के साथ ये सब नही करेगी अगर नौकर ज्यादा मस्त स्मार्ट हो तो करने का भी मन हो जाता है | वो दिखने में किसी हीरो से कम नही लगता था पर मैंने काफी उसके बारे में ऐसा नही सोचा था | एक दिन की बात है जब वो मेरे पास आया और मेरे पास बैठ गया | जब वो मेरे पास बैठ गया तो मैंने उससे कहा कैसे हो अलोक बहुत उदाश लग रहे हो |

अलोक – हाँ मैडम जी मुझे आज अपनी बीबी की याद आ रही है ?
मैं – हाँ सच में पर पहले कभी नही आती थी ?
अलोक – मैडम जी आती तो बहुत है पर मैं क्या कर सकता हूँ जब यहाँ से जाऊंगा तब ही उसके साथ मज़े कर सकता हूँ |
मैं उसके कहने का मतलब नही समझ पाई तो मैंने उससे कहा अलोक मैं समझ नही पाई तुम क्या कह रहे हो | तब वो मुझसे बोला की मैं कह रहा था की मुझे अपनी बीबी की याद आ रही है | मैंने उससे कहा किस लिए याद आ रही है तो वो मुझे बोला की मुझे तो उसके साथ आज मस्ती करने का मन हो रहा था अगर मैं अपने घर होता आज तो उसके साथ खूब मस्ती करता | मैं ओलक कैसे मस्ती करते हो मुझे समझाओ ? तब वो बोला की अगर आप बुरा न मनो तो मैं तुम्हे बता दूँ |
मैं – तुम्हारी बात का बुरा क्यूँ मानुगी ?
अलोक – ऐसी बात ही है |
मैं – चलो बताओ मैं किसी बात का बुरा नही मानूगी ?

फिर वो मुझसे बताने लगा की मैं जब अपनी बीबी के साथ मस्ती करता हूँ तो मैं पहले तो उसकी होठो को मुंह में रख कर कुछ देर तक चूसता हूँ और वो मेरी होठो को मुंह में रख कर चूसती है | मैं उसकी होठो को चूसने के बाद उसके और अपने कपडे निकाल देता हूँ जिससे वो मेरे सामने बिना कपड़ो के आ जाती है | मैं उसके मुंह से ये बाते सुनकर मदहोश हो रही थी और मेरी चूत में खुजली होने लगी थी | वो फिर मैं अपनी बीबी के जिस्म को चूमने लगता हूँ और वो मेरा साथ देती हुई सेक्सी आवाजे करने लगती है | मैं उसके जिस्म को चूमने के साथ उसके बूब्स को मुंह में रख कर चूसने लगता हूँ | जब वो मुझे ऐसे बताते हुए मुझे देखकर रहा तो मुझे कुछ अजीब सा फील हो रहा था जिससे मुझसे रहा नही जा रहा था | तब मैंने उससे कहा अलोक मुझे कुछ भी समझ नही आ रहा है तुम क्या कह रहे हो ? वो मुझसे बोला तो मैं कैसे बताऊँ आपको जो आपके समझ में आये |
मैं यार तुम मुझे करके बताओ मुझे अच्छे से समझ आ जयेगा | दोस्तों अब में गर्म हो चुकी थी और उसके साथ सेक्स करने के बारे में सोच रही थी | मैं उससे जैसे ही करके कहने को कहा तो वो मुझे अपनी बाँहों में भर लिया और चूमने लगा | वो जब मुझे चूमने लगा तो मैं उसका साथ देती हुई उसे चूमने लगी | मैं जब उसको चूमने लगी तो वो मुझे पकड कर अपनी बाँहों के कस लिया और मेरी होठो पर अपनी होठो को धीरे से रख दिया | दोस्तों जब उसने मेरी होठो पर अपनी होठो को रख दिया तो मुझे बहुत अच्छा लगा और मैं उसकी होठो को चूसने लगी | मैं उसकी होठो को मुंह में रख कर चूसने लगी तो वो मेरी होठो को चूसने के साथ मेरे बूब्स को कपडे के ऊपर से पकड लिए | जब उसने मेरे बूब्स को कपडे के ऊपर से पकड कर दबा दिया तो मैं मचल गयी और उससे लिपट गयी | फिर उसने मुझे बड़े प्यार से बेड पर लेटा दिया और मेरी लेगी तो पकड कर उतार दिया | उसने मेरी लेगी को उतारने के बाद मेरी कुर्ती को भी उतार दिया जिससे मैं उसके सामने ब्रा और पैंटी में लेती थी और वो मेरे जिस्म को चूमने लगा | वो मेरे जिस्म को चूमने के साथ पुरे जिस्म पर हाथ को घुमा रहा था जिससे मैं तेज सांसे ले रही थी | वो मेरे जिस्म को चूमने के बाद मेरी ब्रा को खोल दिया और मेरे बूब्स को मुंह में रख कर चूसने लगा | दोस्तों जब वो मेरे बूब्स को मुंह में रख कर चूसने लगा तो मैं बिस्तर को पकड कर जोर जोर से अन्हे भरती हुई उसके सर को सहलाने लगी | वो मेरे बूब्स को एक एक करके कुछ देर तक चूसता रहा फिर उसने मेरी चूत पर अपने हाथ को रख कर उँगलियों से मेरी चूत को फ़ैलाने लगा | वो जब मेरी चूत को फ़ैलाने लगा और अपनी मुंह को घुसा कर चाटने लगा | दोस्तों जब उसने मेरी चूत में जीभ को घुसा दिया तो मेरे मुंह से जोर की आहे निकल गयी और मैं उसके सर को पकड कर चूत में दबाने लगी |

loading...

मैं उस टाइम सेक्स के नशे में डूब चुकी थी और तभी उसने अपनी ऊँगली को मेरी चूत में घुसा कर अन्दर बाहर करने लगा | तब मैं मज़े में आ आ आ उह उई माँ..आह उह उई माँ… की आवाजे करने लगी | वो मेरी चूत को चाटने के साथ मेरी चूत में ऊँगली को जोर जोर से अन्दर बाहर कर रहा था और मैं सेक्सी आवाजे करती हुई चूत को सहला रही थी | फिर उसने अपने कपडे निकाल दिए और अपने लंड को मेरे हाथ में पकड़ा दिया | दोस्तों उसका लंड काफी बड़ा और मोटा था जिसको में हाथ में पकड मर मुंह में रख लिया और चूसने लगी | मैं उसके लंड को मुंह में रख कर चूसने लगी और वो मेरे सर को पकड कर लंड को कुछ देर तक चूसता रहा | फिर उसने अपने लंड के टोपे से मेरी चूत की पंखुडियो को फैला दिया और लंड के टोपे को अन्दर कर दिया | दोस्तों जब उसके लंड का तोप मेरी चूत में अन्दर गया तो मुझे बहुत अच्छा लगा और मैं अपनी चूत को सहलाने लगी | मैं अपनी चूत को सहला ही रही थी की उसने मेरी कमर को पकड कर एक जोरदार धक्का मारा जिससे उसका लंड मेरी चूत को फाड़ते हुए अन्दर चला गया | उसका लंड मेरी चूत में घुस गया था और मैं चीख पड़ी क्यूंकि मुझे उस टाइम ऐसा लग रहा था की मैं मार जाउंगी पर वो दर्द कुछ ही देर तक हुआ फिर वो मेरी चूत में अन्दर बाहर करने लगा जिससे मुझे मज़ा आने लगा था | जब मुझे मज़ा आने लगा तो मैं आ आ आ उई ऊ ऊ… आह उई माँ मई उई मई… की आवाजे करती हुई उससे बोल रही थी और तेज धक्के मारो | मैं उससे जितने जोर धक्के मारने को कह रही थी वो मेरे बूब्स को पकड कर मेरी चूत में उतने ही जोर धक्के मार रहा था | जिससे मैं उसके धक्को के मज़े लेती हुई चुद रही थी और वो मुझे जोरदार धक्को के साथ चोद रहा था | मैं उसके धक्को के मज़े ले रही थी | दोस्त वो मेरी चूत में इतने तेज धक्के मार रहा था की उसका लंड मेरी बच्चेदानी में रगड़ता था जिससे मेरे अन्दर आग लग जाती थी | वो मेरी चूत में ऐसे ही धक्के मारता रहा जिससे मेरी चूत से पानी निकाल गया और मैं झड़ गयी |
मेरे झड़ने के ठीक 2 मिनट बाद वो भी झड़ गया और फिर उसने मेरी होठो पर किस की और बोला कैसा लगा ? मैंने भी उससे कहा की मज़ा आ गया और उस दिन के बाद मैं उसके साथ रोज रात को चुदती थी और वो मुझे लंड के मज़े देता था |
धन्यवाद……….