पड़ोसन भाभी की सिसकियाँ


bhabhi sex stories, hindi porn stories

हेल्लो दोस्तों, कैसे हैं आप लोग ? मेरा नाम मनीष है और मैं दिल्ली का रहने वाला हूँ | दोस्तों मैं भी आप लोगों की तरह Hindi Sex kahaniyan पर सेक्स कहानियां पढ़ता हूँ और मुठ मारता हूँ | मेरा कद 5 फुट और 10 इंच है और मेरा शरीर मेरी हाइट के हिसाब से फिट है | चलिए अब और ज्यादा टाइम न खराब करते हुए मैं मुद्दे की बात पर आता हूँ |

दोस्तों, मैंने गर्लफ्रेंड तो बहुत चोदी थीं लेकिन कभी किसी भाभी को नही चोदा था | माफ़ करना मैं बताना भूल गया की मेरे पापा जॉब करते है और मम्मी कॉलेज में पढ़ाती हैं | मेरा एक भाई है जो की बंगलौर में इंजिनियर है | कहने का मतलब ये है की मैं घर में सारा सारा दिन अकेला पड़ा बोर  रहता हूँ | मेरा रूम ऊपर की मंजिल पर है | मैं कभी गेम खेल कर टाइमपास कर लेता हूँ तो कभी इस वेबसाइट पर चुदाई की कहानियां पढ़ कर |

एक दिन की बात है मैं अपने कमरे में बैठा ही था और सोच रहा था की क्या करून था तभी मेरी नजर एक भाभी पर पड़ी जो ठीक मेरे रूम के सामने वाले घर में किराए से रहती हैं | मैंने देखा कि वो नहा कर निकली और अपना बदन पोछने के लिए जो टॉवल पहना था वो उतार कर अपने नंगे जिस्म को पोछने लगी | ये देख कर मेरा लौड़ा खड़ा हो गया तो मैं लंड निकाल कर उसे देख कर मुट्ठ मारने लगा | उसका बदन बहुत ही सेक्सी था और उसके बड़े चुच्चिया और बड़ी गोल गांड उसके शरीर का आकर्षण केंद्र थी | दोस्तों, उसे देखकर ही कईयों का माल निकल जाए | मेरा वीर्य निकलने ही वाला था कि उसने पर्दा लगा लिया | मेरा मुठ झड़ गया था और मुझे उसकी चूत का दर्शन नहीं हो पाए | फिर मैं वहीँ बैठ गया अपने बिस्तर पर और उसके कमरे की तरफ देखने लगा | जब आधे घंटे तक वो नहीं आई तो मैं समझ गया कि शायद वो नहीं आयगी |  फिर मैं थक गया था इसीलिए सो गया |

उस समय सुबह का टाइम था | थोड़ी देर बाद मैं उठा तो मैंने उसके रूम की तरफ देखा तो पर्दा सरका हुआ था | मैं उसके रूम की तरफ ताड़ने लगा | कुछ देर देखने के बाद वो मुझे दिखी और उसने एक बहुत सुन्दर सा गाउन पहना हुआ था जिसमे फूल की डिजाईन थी | वो गाउन उसके बदन से एक दम चिपका हुआ था और घुटनों तक ही था | फिर मैंने सोचा कि यार अभी तो मुट्ठ मारा है मैंने इसीलिए आज और नही मारूंगा | कल सही टाइम पर देखूंगा | अगले दिन जब मैंने उसे देखा तो मेरा लंड एक दम तन के खड़ा हो गया और मैं मुट्ठ मारने लगा | फिर अपने बेड पर लेट गई और उसका सिर मेरी तरफ था | वो अपनी चूत को ऊँगली से जोर जोर से रगड़ रही थी | मुझे भले ही उसकी चूत नही दिख रही थी लेकिन मजा जरुर आ रहा था | मैं भी उसे देख कर जोर जोर से मुट्ठ मार रहा था | 15 मिनट बाद मेरा मुठ निकल गया लेकीन वो तब भी अपनी चूत पर जोर जोर से ऊँगली कर रही थी | दस मिनट के बाद वो उठी और फिर से बाथरूम चली गई और मैं वहीँ निढाल हो कर लेट गया |

जब मैं उठा तो फिर से उसके घर का पर्दा लगा हुआ था | अब मेरा रोज का यही काम हो गया था बस जब मम्मी की छुट्टी रहती थी तब नहीं कर पाता था | फिर एक दिन बुधवार का दिन था और मम्मी के कॉलेज में कुछ प्रोग्राम था तो उस दिन वो कॉलेज से लेट आने वाली थी | मैं अपने रूम में फिर से उसे देखने लगा और उस दिन वो फिर से अपनी चूत रगड़ रही थी | फिर पता नहीं अचानक वो उठी और पर्दा लगाने के लिए उसने हाँथ बढाया और रुक गई | वो मुझे ही देख रही थी | मैं अपना लंड हिला रहा था और वो मुझे देख कर मुस्कुराने लगी | उसने मेरी तरफ हाँथ हिलाया और उसके घर आने के लिए कहा | मैं तुरंत कपडे पहन कर उसके घर को चला गया | जब मैं वहां पंहुचा तब भी वो नंगी ही थी | मैं समझ गया कि आज मैं चूत का रस चखने वाला हूँ | उसने मुझे अन्दर बुलाया और मेरा नाम पूछा तो मैंने उसे अपना नाम बताया और उसका पूछा तो उसने अपना नाम तारा बताया | मैंने उससे कहा कि आपका फिगर बहुत ही सेक्सी है |

जोश में वो भी बोली की उसे मेरा लंड पसंद आया इसलिए उसने मुझे बुलाया | मैंने उससे पूछा कि आप यहाँ अकेले रहती हो ? उसने कहा हाँ यहाँ मैं अकेले रहती हूँ और मेरे पति कुछ समय के लिए दुबई गए हुए हैं | कुछ देर ऐसे ही हम बात कर रहे थे तो उसने कहा यहाँ मैंने तुम्हे चुदाई के लिए बुलाया है बकरचोदी करने के लिए नहीं | मैंने इतना सुना और तुरन्त ही उसे अपनी बांहों में ले कर उसके होंठ में अपने होंठ रख कर जोरदार किस करने लगा | वो भी गर्म थी, मेरा पूरा साथ देने लगी | मैंने अब उसके होठों को चुसना शुरू कर दिया | धीरे धीरे मैं उसकी गर्दन और उसके आस पास किस करने लगा | वो मस्त हो कर सिसकियाँ लेने लगी | मैंने अब उसको बिस्तर पर लिटाया और अपनी टीशर्ट उतार कर के उसके ऊपर आ गया | वो मेरे इरादे समझ गयी और बोलने लगी शराफत से बस किस करो और जाओ.. बाकी फिर कभी | मैंने कहा अच्छा किस तो करने दो अच्छे से | वो बोली ठीक है, लेकिन सिर्फ किस | मैंने बोला ओके | अब मैं उसके होठों पर किस करने लगा | किस करते करते मैंने उसकी गर्दन पर किस करना शुरू कर दिया | किस करते करते मैं अपना एक हाथ उसके बूब्स पर ले गया | उसने मेरा हाथ वहीँ झटक दिया | अब मैंने उसको फिर से किस करना शुरू कर दिया और अपना हाथ उसके बूब्स पर ले जाने लगा | उसने मेरा हाथ अपने बूब्स से हटाया और अपने हाथों से पकड़ लिया | अब मैंने उसके कान के पास किस करना शुरू कर दिया | उसको मजा आने लगा और उसने मेरे हाथ की पकड़ ढीली कर दी | अब मैंने थोडा सा जोर लगाया और उसके बूब्स पर हाथ ले गया | अब मैं उसके बूब्स दबाने लगा | वो मजे से आह्ह्ह ह ह हह हह ह ह ऊऊ ऊ ऊ उ उमम उम्म्म उम् करने लगी |

अब मैंने उसके कपडे के ऊपर से उसके बूब्स पर किस करने लगा | वो मस्ती में सिसकियाँ लेने लगी | अब मैंने उसका टॉप ऊपर कर दिया और ब्रा को साइड करके उसके बूब्स चूसने लगा | उसके बड़े बड़े गुलाबी निप्पल चूस रहा था | दोस्तों उसके छोटे बूब्स में जो मजा था वो आज तक मुझे किसी के भी बूब्स चूस कर भी नही आया | उसके बूब्स मुझे मीठे से लग रहे थे | मैंने अबी उसका दूसरा दूध अपने हाथ में लिया और चुसना शुरू कर दिया | मुझे मजा आ रहा था | अब मुझसे रहा नही गया और मैंने एक हाथ सीधा उसकी लोअर के अन्दर घुसेड कर उसकी चूत को सहलाना शुरु कर दिया | वो गुस्सा दिखाने लगी | मैंने उसको थोडा सा किस किया और उसके बूब्स को जोर जोर से किस करने लगा | अब वो भी गर्म हो चुकी थी थोड़ी सी | मैंने अब उसकी चूत में अपनी ऊँगली घुसेड दी और अन्दर बाहर करने लगा | उसकी चूत कसी थी और हलकी सी गीली भी | वो सिसकियाँ लेने लगी और आह हह हह हह ह हह ह्ह्ह ह्ह्ह हह ह्ह्ह ह ह्ह्ह्हह ह ह्ह्ह ह ह्ह्ह हह उम् मम मम म्मम्मम्म म मम मम उम् मम उम् म उम् अह अहह करने लगी |

मैंने अब उसका लोवर उतार दिया और उसकी पैंटी भी | अब मैंने ज्यादा देर करना सही नही समझा | मैंने अब सीधा लंड उसकी चूत पर टिकाया और एक ही झटके में घुसेड दिया | वो चिल्ला पड़ी | मैंने तुरंत ही उसका मुंह बंद किया की कहीं कोई सुन न ले | अब मैंने झटके देने शुरू कर दिए | वो भी मजे लेने लगी | थोड़ी देर बाद वो झड गयी | मैंने भी अपना लंड उसकी चूत से निकाल कर बेड पर सारा मुठ झाड दिया |

उस दिन के बाद हम अक्सर चुदाई करते थे जब तक की उसका पति आ नही गया वापस | दोस्तों, ये थी मेरी चुदाई की कहानी |


error: