नौकर बना लंड सप्लायर


हैल्लो फ्रेंड्स, कैसे हैं आप सभी ? मैं उम्मीद करता हूँ कि आप सभी अपनी अपनी व्यस्तता भरी जिन्दगी में चुदाई के लिए वक़्त निकाल ही रहे होगे | चूत को लंड और लंड को चूत तो मिल रहे हैं न ? अगर नही मिल रहे हैं तो कृपया बड़े लंड वालो मेरे इस नंबर पर सम्पर्क करना जो मैं कहानी के आखिरी में दूंगी | मेरा नाम रेशमा है और मैं सतना की रहने वाली हूँ | मेरी उम्र 34 साल है और मैं शादीशुदा गृहणी हूँ | मेरा फिगर काफ़ी अच्छा है ऐसा लगता है जैसे खुदा ने बड़ी फुर्सत से मुझे बनाया होगा | मेरा गोरा रंग ही काफी है किसी मर्द को आकर्षित करने के लिए | बाकि फिगर तो ऐसा है कि जब भी कोई मुझे चलते हुए देख ले तो वो अपना लंड मसलते रह जाता है | आज जो मैं आप लोगो के सामने अपनी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ | ये मेरी पहली कहानी है और मैं आशा करती हूँ कि आप सभी को मेरी ये कहानी जरुर पसंद आयगी | तो अब मैं आप लोगो का ज्यादा समय न लेते हुए अपनी कहानी पर आती हूँ |

दोस्तों, मेरे घर में मै हूँ मेरे पति हैं और मेरी एक बेटी है जो कि स्कूल में पढाई करती है | हमारे अलावा हमारे घर में एक नौकर भी जिसका नाम शम्भू है | वो गाँव का रहने वाला है और बहुत ही ज्यादा इमानदार है | हम उसके भरोसे अपना घर खाली छोड़ जाते हैं पर एक चीज़ भी इधर से उधर नही होती | वो हर काम मेहनत और लगन से करता है | उसकी उम्र 19 साल है और वो अभी एक जवान लड़का है | उसका बदन मजदूर जैसा है और गँठीला है | उसका नेचर, बात करने का तरीका बहुत ही अच्छा है | उसकी आवाज में एक जादू सा है अगर वो कुछ भी प्यार से बोलता है तो कोई उसे किसी चीज़ के लिए मना नहीं कर पाता | एक दिन मेरे पति घर आये तो उन्होंने मुझे कहा कि यार मेरा मुम्बई ट्रान्सफर हो रहा है | तो मुझे एक साल तक तो मुंबई में रहना पड़ेगा | पर ये है कि मेरी पगार 20000 रूपए बढ़ गयी है | ये बात सुन कर मुझे ख़ुशी भी हुई और बहुत्र दुःख भी हुआ क्यूंकि अब मेरी चूत प्यासी रह जाने वाली थी | उनके जाने के बाद मैंने कुछ दिन तो बड़े आराम से काट लिए पर बाकि दिनों मेरी हालत बहुत ख़राब रहने लगी | मुझे चुदाई के बगैर बिलकुल अच्छा नही लग रहा था और मेरी चूत को एक लंड की आवश्यकता पड़ने लगी | मैं अब बहुत बेचैन रहने लगी और सोचने लगी कि अब मैं अपनी चूत की प्यास कैसे बुझाऊ ? कहाँ से मुझे लंड मिलेगा | कौन मुझे चोदेगा ? तभी मुझे याद आया कि मेरा नौकर तो है क्यू न मैं इससे ही अपनी चूत की प्यास बुझा लूं ?

फिर मैंने शम्भू को को पटाना चालू कर दिया | अब मेरा मिशन था शम्भू का लंड | मैं शम्भू को अब कभी अपने दूध के दर्शन कराने लगी | तो कभी उसे ऐसी नजरो से देखती कि उसे ये लगे मैं चुदासी हो रही हूँ और मुझे लंड की जरुरत है | पर वो कभी मुझे उस नजर से देखता ही नही था | मैं परेशान रहने लगी कि यार ये तो मुझसे पट ही नही रहा है | अब मैं इसे और किस तरह से उकसाऊ कि वो मुझे चोद दे ? फिर मुझे ख्याल आया कि ये तो नौकर है और इससे मैं जो भी कहूँगी तो ये तो मेरी बात तो जरुर मानेगा | फिर मैंने शम्भू को आवाज दे कर बुलाया अपने पास | उस समय मैं और वो ही घर में अकेले थे | बेटी स्कूल गयी हुई थी | जब वो आया तो मुझसे कहा कि मालकिन आपने मुझे बुलाया ? तो मैंने कहा हाँ शम्भू काम है तुझसे थोडा | तो उसने मुझसे पूछा कि क्या है मालकिन ? मैं कर दूंगा | तो मैंने कहा कि तू मेरे पैरो की मालिश कर दे | सुबह से बहुत जोर से दर्द कर रहे हैं | तो उसने कहा कि हाँ मालकिन मैं तेल गरम कर के लाता हूँ और अच्छे से आपके पैरो की मालिश कर दूंगा | मैंने उससे कहा ठीक है | जब वो मेरे पास तेल गरम के के आया तो उसकी आँखे फटी की फटी रह गयी | क्यूंकि मैं एक दम नंगी हो कर बिस्तर पर लेते हुई थी | उसने मुझसे कहा कि मालकिन आपने अपने पूरे कपडे क्यू उतार दिए | तो फिर मैंने उससे कहा कि तू तेल रख और इधर आ और मेरी बात ध्यान से सुन | हाँ मालकिन बोलो फिर मैंने कहा कि तू अपनी बनियान उतार | तो उसने अपनी बनियान उतार दी | फिर मैंने कहा कि अब तू अपना पेन्ट उतार | फिर उसने अपना पेन्ट उतारा | फिर मैंने कहा कि अब तू अपनों चड्डी भी उतार | तो जैसे ही उसने अपनी चड्डी उतारा तो मेरी गांड फट गयी | बाप रे उसका लंड 6 इंच का था वो भी सोते हुए | फिर मै खड़ी हुयी और उसके होंठ में अपने होंठ रख कर किस करने लगी | वो भी मेरा साथ देते हुए मुझे किस करने लगा | किस करने के बाद मैं अपने घुटनों के बल जमीन पर बैठ गयी और उसके लंड को हाँथ में ले कर चाटने लगी | अब उसका लंड खड़ा हो कर 9 इंच लम्बा और 4 इंच मोटा हो चुका था | उसका मूसंड लंड मैं अपनी जीभ से रगड़ते हुए चाटने लगी तो उसके मुंह से आआहाआ ऊऊन्न्ह ऊऊम्म्ह ऊउम्म ऊउन्न्ह अहहाआअहाअ अहहहा हहहाआअ अहहहाआ ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह ऊनंह ऊउम्म्म्ह अहहहाआआअ आहाआआउन्ह ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह आहा आआआहा ऊउम्म्ह ऊउन्न्ह आअहाआअ की सिस्कारिया निकलने लगी |

loading...

फिर मैंने उसके लंड को चाटते हुए उसके दोनों अन्टोलो को अपने मुंह से चूसते भी जा रही थी | वो आआहाआ ऊऊन्न्ह ऊऊम्म्ह ऊउम्म ऊउन्न्ह अहहाआअहाअ अहहहा हहहाआअ अहहहाआ ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह ऊनंह ऊउम्म्म्ह अहहहाआआअ आहाआआउन्ह ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह आहा आआआहा ऊउम्म्ह ऊउन्न्ह आअहाआअ करते हुए लगातार सिस्कारिया ले रहा था | फिर मैंने उसके लंड को अपने मुंह में भर ली और आगे पीछे करते हुए उसके लंड को चूसने लगी और वो आआहाआ ऊऊन्न्ह ऊऊम्म्ह ऊउम्म ऊउन्न्ह अहहाआअहाअ अहहहा हहहाआअ अहहहाआ ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह ऊनंह ऊउम्म्म्ह अहहहाआआअ आहाआआउन्ह ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह आहा आआआहा ऊउम्म्ह ऊउन्न्ह आअहाआअ करते हुए आन्हे भरने लगा | करीब 10 मिनट तक मैंने उसके लंड को चूसी | उसके बाद मैं बेड पर जा कर लेट गयी | अब वो भी गरम हो चुका था और मेरे पास आ कर मेरे दोनों दूध को अपने मुंह में ले कर चूसने लगा तो मेरे मुंह से आआहाआ ऊऊन्न्ह ऊऊम्म्ह ऊउम्म ऊउन्न्ह अहहाआअहाअ अहहहा हहहाआअ अहहहाआ ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह ऊनंह ऊउम्म्म्ह अहहहाआआअ आहाआआउन्ह ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह आहा आआआहा ऊउम्म्ह ऊउन्न्ह आअहाआअ की सिस्कारिया निकलने लगी | वो मेरे दोनों दूध को जोर जोर से मसलते हुए निप्पलस को भी चूस रहा था और मेरे मम्मो को भी और मैं आआहाआ ऊऊन्न्ह ऊऊम्म्ह ऊउम्म ऊउन्न्ह अहहाआअहाअ अहहहा हहहाआअ अहहहाआ ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह ऊनंह ऊउम्म्म्ह अहहहाआआअ आहाआआउन्ह ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह आहा आआआहा ऊउम्म्ह ऊउन्न्ह आअहाआअ करते हुए उसे सहला रही थी |  फिर उसने मेरी दोनों टाँगे फैला दिया और अपनी जीभ को मेरी चूत में रख कर रगड़ रगड़ कर चाटने लगा तो मैं आआहाआ ऊऊन्न्ह ऊऊम्म्ह ऊउम्म ऊउन्न्ह अहहाआअहाअ अहहहा हहहाआअ अहहहाआ ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह ऊनंह ऊउम्म्म्ह अहहहाआआअ आहाआआउन्ह ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह आहा आआआहा ऊउम्म्ह ऊउन्न्ह आअहाआअ करते हुए मचलने लगी | वो मेरी चूत को चाटते भी जा रहा था और ऊँगली से चोद भी रहा था | वो मुझे डबल मजा दे रहा था और मैं आआहाआ ऊऊन्न्ह ऊऊम्म्ह ऊउम्म ऊउन्न्ह अहहाआअहाअ अहहहा हहहाआअ अहहहाआ ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह ऊनंह ऊउम्म्म्ह अहहहाआआअ आहाआआउन्ह ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह आहा आआआहा ऊउम्म्ह ऊउन्न्ह आअहाआअ करते हुए उसके सिर को अपने चूत में दबा रही थी |

फिर उसने अपने मूसंड लंड को मेरी चूत में टिकाया और धीरे धीरे मेरी चूत में अपने लंड को उतारता चला गया | अब उसका लंड मेरी चूत में पूरी तरह समा चुका था और वो मुझे धक्के मार कर चोदने लगा तो मेरे मुंह से आआहाआ ऊऊन्न्ह ऊऊम्म्ह ऊउम्म ऊउन्न्ह अहहाआअहाअ अहहहा हहहाआअ अहहहाआ ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह ऊनंह ऊउम्म्म्ह अहहहाआआअ आहाआआउन्ह ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह आहा आआआहा ऊउम्म्ह ऊउन्न्ह आअहाआअ की जोर जोर से सिस्कारिया निकलने लगी क्यूंकि उसका लंड बड़ा और मोटा है | फिर उसने अपनी चुदाई की रफ़्तार बढ़ा दी और जोर जोर से मेरे दूध को मसलते हुए चोदने लगा तो मैं भी आआहाआ ऊऊन्न्ह ऊऊम्म्ह ऊउम्म ऊउन्न्ह अहहाआअहाअ अहहहा हहहाआअ अहहहाआ ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह ऊनंह ऊउम्म्म्ह अहहहाआआअ आहाआआउन्ह ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह आहा आआआहा ऊउम्म्ह ऊउन्न्ह आअहाआअ करते हुए अपनी गांड उठा उठा कर चुदवाते हुए साथ देने लगी | करीब आधे घंटे की चुदाई के बाद उसने मेरे मुंह के ऊपर ही अपना वीर्य निकाल दिया |

अब मैं उससे रोज चुदवाने लगी हूँ | बस जब पति आते हैं तो उनसे चुदवाती हूँ और बाकी मेरा शम्भू तो है ही मेरी चूत की प्यास बुझाने के लिए | मेरे पति को ये बात अभी तक नहीं पता चली |