मुझे चोदो और अपनी हवस मेरी चूत से बुझाओ


दोस्तों मेरा नाम आकाश है और मैं इटारसी का रहने वाला हूँ और मेरी उम्र २० साल है और मेरी लम्बाई ५ फीट ४ इंच है | चलो दोस्तों अब में अपनी कहानी आप सभी को बताने जा रहा हूँ जिसे पढ़कर आप सभी को अच्छा लगेगा |

दोस्तों जब में कक्षा १२वी में था तब मेरा एक दोस्त था | उसका नाम अतुल था जो मेरे ही साथ कक्षा १२वी में पढता था | हम दोनों बहुत अच्छे जिगरी दोस्त थे | वो रोज मुझे सेक्सी विडियो दिखाता था और सीडी भी दिया करता था | जिसके कारन हम दोनों कि दोस्ती मस्त हो गयी थी और हम दोनों जिगरी दोस्त बन गए |

अतुल कि एक बहन भी है जो दिखने में बहुत ही सुंदर है | उसका नाम सोनिया है और वो मेरे ही स्कूल में पढ़ती है | सोनिया की उम्र १६ साल थी | और वो देखने में मक्खन कि तरह दिखती थी और सोनिया का बदन बहुत ही ज्यादा गोरा था | सोनिया कि लम्बाई 5 फीट 2 इंच कि थी | और उसके होठ तो बिना लिपस्टिक लगाये इतने लाल दिखाते है कि बस मन करता है कि दिन भर उसके होंटो को चूमता रहूँ | सोनिया कि गांड ज्यादा मोटी नहीं है फिर भी देखने में अच्छी लगती है | और उसकी गांड थोड़ी सी ऊपर की ओर उठी हुई थी जिसके कारण वो और भी सुंदर माल दिख रही थी | सोनिया स्कूल पर मुझे बहुत देखा करती थी और देख देख कर बहुत मुस्कुराया करती थी | और उस टाइम में ज्यादा सोनिया की तरफ ध्यान नहीं देता था क्यूंकि वो मेरे जिगरी दोस्त अतुल की बहन थी |

फिर उसके बाद मेरे और अतुल के फ़ाइनल एग्जाम चालू होने वाले थे| फिर हम दोनों ने सोचा कि हमें पढाई स्टार्ट कर देनी चाहिए | क्यूंकि हम दोनों ने साल भर से कुछ भी नहीं पढ़ा था और फिर हम दोनों ने साथ में पढाई करने का सोचा और फिर उसके बाद अतुल ने मुझसे कहा कि हम दोनों पढाई उसके ही घर पर करेंगे | क्यूंकि हम दोनों के घर बहुत दूर दूर थे और अतुल के पास गाड़ी नहीं थी तो वो मेरे घर नहीं आ सकता था|

उसके बाद दुसरे दिन मैं अतुल के घर गया | अतुल के घर में उसके मम्मी पापा और उसकी बहन सोनिया रहती है | उसके घर के सभी लोग बहुत अच्छे थे | जब मैं उसके घर पंहुचा तो दरवाज़े बंद थे | फिर मैंने  दरवाज़े की रिंग बजाई तो जसे ही दरवाज़े खुला तो सोनिया को सामने देखा | सोनिया ने जींस और टीशर्ट पहनी थी | सोनिया कि टीशर्ट के उपर से मस्त दूध निकले हुए थे | सही में दोस्तों वो बहुत सेक्सी लग रही थी | वो नजारा देखने लायक था | फिर उसके बाद मैंने  सोनिया से पूछा अतुल घर पर है सोनिया ने मुस्कुरा कर मुझसे कहा कि हाँ भैया घर पर ही है और उपर अपने कमरे में है | फिर मैंने सोनिया से कहा कि आप बता सकती हो कि उपर अतुल का कमरा कौन सा है | तो उसने मुझसे बोला चलो मैं आपको भैया के रूम में लेकर चलती हूँ | फिर उसके बाद मैं सोनिया के साथ उपर जाने लगा और जसे ही मेरी नजर सोनिया कि गांड पे पड़ी तो मेरा मन मचलने लगा उसकी गांड बहुत मस्त लग रही थी |

सोनिया भी बहुत सेक्सी थी और उसके बाद तो मेरा मन ही बदल गया | फिर उसके बाद अतुल का कमरा आ गया और उसने अतुल को बुलाया और फिर जसे ही अतुल बाहर आया तो सोनिया चली गई | फिर उसके बाद मैं और अतुल साथ में पढने लगे हम दोनों ने मन लगा कर 2 से 3 घंटे तक पढाई कि उसके बाद मेरा मन फिर सोनिया कि तरफ गया और मुझे उसकी गांड याद आ गी तो फिर मैंने अतुल से कहा बस भाई आज के लिए इतना बहुत पढ़ लिया अपन दोनों अब कल पढेंगे | फिर उसके बाद में अतुल के साथ नीचे आया तो मेरी नजरे सोनिया को ही देख रही थी | लेकिन वो दिखी ही नहीं और फिर मैं अपने घर आ गया | घर जाने के बाद बार बार सोनिया कि गांड ही याद आ रही थी | मेरा मन बहुत मचल रहा था लग रहा था | बस सोनिया गांड मिल जाये मैंने सोचा और उस दिन मैंने पहली बार सोनिया कि याद में मुठ मारा था |

उसके बाद फिर मैं रोज 2 से 3 घन्टे उसके घर पढने के लिए जाने लगा | मुझे किसी न किसी काम से सोनिया को देखने को मिल ही जाता था | मैं सोनिया को देखने के लिए अतुल से पानी मंगाया करता था | अतुल सोनिया को पानी के लिए आवाज़ लगाता था और सोनिया पानी लेकर आती थी तो मैं उसे देख लेता था | वो मुझे देखकर बहुत मुस्कुराती थी | और जब भी सोनिया दिखती थी तो में उसके मस्त दूध और गांड देखता था और रोज 3 या ४ बार मुठ मारा करता था |

सोनिया मुझे हमेशा लाइन मारा करती थी और मुझे देखकर बहुत मुस्कुराया करती थी | मैं अतुल का दोस्त होने के कारन अपनी नजरे उससे हटा लेता था | लेकिन सोनिया को क्या मालूम था कि मैं उसे चोदना चाहता हूँ |

ऐसे ही एक एक दिन निकलते गए और उसके बाद मैं थोडा बहुत सोनिया से बात करने लगा | वो जब भी फ्री रहती थी तो मेरे पास आ जाती थी और बहुत बातें किया करती थी | हम दोनों एक दुसरे से बहुत खुल गए थे और बहुत बातें भी करते थे | कोई भी बात हो हम दोनों एक दुसरे से बताते थे | कभी कभी तो हम दोनों एक दुसरे से डबल शब्दो में भी बात किया करते थे | और वो जब भी स्कूल में मुझे मिलती थी तो मस्त सी स्माइल देकर चली जाती थी | फिर उसके बाद मुझे लगने लगा कि सोनिया के मन में भी मेरे लिए फीलिंग है | अब दुसरे दिन मेरे टेस्ट हो रहे थे तो मेरी कक्षा के सभी लड़के और लडकियों को रूम में बैठा दिया गया | रूम में भी मैं सबसे लास्ट पर बेठा हुआ था और टेस्ट दे रहा था तभी उसी समय पता नहीं किसी ने पीछे से मरे सर पर मारा और जेसे ही मैंने जल्दी से पीछे मुड़ कर देखा तो सोनिया थी और वो बहा से भाग गई | फिर मैंने तो सोच ही लिया था कि सोनिया अब तो जरूर चुदेगी |

फिर में दुसरे दिन अतुल के घर पढने के लिए गया तो देखा घर पर मम्मी पापा नहीं थे और शायद अतुल उपर था | और सोनिया मुझे किचन पर खाना बनाते हुए दिखी | तो एकदम से स्कूल वाली बात याद आई तो मुझे भी उस मजाक का बदला लेने का ख्याल आया | मैं धीरे से किचन में घुस गया और पीछे से उसकी गांड मैं धीरे से एक हाथ मारा तो वो उचक गई और जेसे ही मैंने सोनिया का चेहरा देखा तो बहुत लाल था | वो गुस्सा हो गई और भाग गई | मुझे भी बहुत डर लगने लगा और मैं भी घर चला गया| उस दिन पूरी रात नींद नहीं आ रही थी | लग रहा था कि कही सोनिया ने अतुल को सब कुछ बता तो नहीं दिया |

फिर दुसरे दिन अतुल का फ़ोन आया तो मैं उसका फ़ोन देख कर बहुत डर गया था | लेकिन जब मैंने  फ़ोन उठाया तो अतुल ने मुझसे कहा कि तू कल घर में पढने के लिए क्यों नहीं आया | मैंने उसे कह दिया कि मेरी बाइक ख़राब हो गयी थी | इसलिए मैं नहीं आ पाया फिर अतुल ने बोला ठीक है लेकिन आज तो आ रहा है न मैंने कहा हाँ मैं आज आऊंगा | फिर मेरे अंदर जान में जान आई और बहुत अच्छा लगा की सोनिया ने अतुल से कुछ नहीं बताया था | फिर में दुसरे दिन अतुल के घर पंहुचा तो मेरी सोनिया के सामने जाने में गांड फट रही थी | अतुल और सोनिया साथ में ही बठे थे | मैं जैसे ही अतुल के पास गया तो सोनिया मुझे बहुत गुस्से से देख रही थी और मैंने उसे हाय किया तो उसने मुझसे हाय तक नहीं की | फिर मैंने अतुल से पूछा अतुल मम्मी पापा नहीं दिख रहे है तो उसने बताया वो दोनों मार्किट गए हुए है | तभी उसी समय अतुल के पापा का फ़ोन आया कि सब्जी खरीदते समय वो अपनी कार से चाबी निकलना भूल गए थे | और कार अपने आप लॉक हो गई थी तो घर से अतुल को चाबी लाने को कहा | अतुल ने जल्दी से मेरी बाइक कि चाबी मांगी और बोला कि मैं अभी मार्किट से आता हूँ पापा को कार कि चाबी देकर |

उसके बाद मैं और सोनिया दोनों ही घर पर अकेले थे | मैंने सोनिया से सॉरी कहा वो बोली सॉरी बोलने कि जरुरत नहीं है में नाराज नहीं हूँ | फिर सोनिया ने बोला इतनी हिम्मत उस दिन कैसे आई तो उसके बाद मैंने उसके होटो पर किस कर लिया | वो शर्मा गई और जाने लगी मैंने उसका हाथ पकड़कर अपनी बाहों में ले लिया और किस करता रहा | वो मुझसे बार बार कह रही थी कि छोड़ो मुझे जाने दो लकिन मैं उसे अब कहा छोड़ने वाला था मैंने उसे पलंग पर पटका और और उसके हाथ पकडे और दूध दबाये | फिर सोनिया ने भी मुझे जम कर पकड़ा और अपनी तरफ खीचा और होट से होट मिलाये फिर मैंने  सोनिया कि टीशर्ट उतारी उसके मस्त दूध पिए और खूब दबाये सोनिया बहुत ऊऊ आःह्ह कर रही थी | फिर मैंने सोनिया का जीन्स उतारी और उसकी गांड चाटने लगा | सोनिया को बहुत मजा आ रहा था | फिर उसने मेरे लंड को पकड़कर अपने मुह में ले लिया और फिर मैंने अपना लंड उसके चूत में डाला और इतना चोदा कि वो आझ्ह्ह आःह्ह अहह कर रही थी और मुझे छोड़ नहीं रही थी | और में जम कर चोद रहा था |

फिर उसके बाद मैंने सोनिया से कहा …. आई लव यू ….सोनिया ने भी फिर मुझसे कहा .आई लव यू बेबी.. | उस दिन के बाद हमने कई बार चुदाई की |


error: