मेरी टाइट चूत से कई साल बाद भी खून निकला


desi sex stories, hindi sex stories

मेरा नाम पारुल है और मेरी उम्र 28 वर्ष है लेकिन मेरे घर में कोई भी मुझसे अच्छे से बात नहीं करता है। मेरे भाई भी मुझसे अच्छे से बात नही करते और ना ही मेरे माता-पिता। क्योंकि मैं एक आदर्श लड़की हूं और वह चाहते हैं कि मेरी शादी जल्दी से जल्दी हो जाए लेकिन मेरी शादी कहीं भी नहीं हो रही है। जब भी कोई लड़का मुझे देखने के लिए हमारे घर पर आता है तो वह साफ मना कर देते हैं। इस वजह से मेरे घर में कोई भी मुझसे अच्छे से बात नहीं करता है और मैं अपने कमरे में ही रहती हूं। मैं भी ज्यादा किसी से बात नही करती। मैं जब भी बाहर कहीं जाती हूं तो वहां पर भी मुझे इन बातों का सामना करना पड़ता है। यदि कोई रिश्तेदार हमारे घर पर आ जाते हैं तो उस समय मेरी खैर नहीं। वह सब मुझे इतनी बद्दुआएं देते रहते हैं कि कई बार तो मेरा मन बहुत ज्यादा खराब हो जाता है और मुझे अपने आप पर बहुत ही ज्यादा गुस्सा भी आता है लेकिन फिर भी मैं कुछ नहीं कर सकती।

मैं सोचती रहती हूं कि किस तरीके से मैं अपने आपको थोड़ा अच्छे से मेंटेन कर पाऊं लेकिन मुझसे होता ही नहीं है। मैं अपने घर में ही रहती हूं और जब मेरे दोस्त मेरे घर पर आते हैं तो वह अपने बॉयफ्रेंड के बारे में बताते हैं। या फिर अपने पति के बारे में बताते है। मुझे भी कभी कबार लगता है कि मुझे भी किसी के बारे में उन्हें बताना चाहिए लेकिन ना तो मेरा कोई बॉयफ्रेंड है और ना ही मेरी शादी की बात कहीं चल रही है। इस वजह से मैं उनके सामने भी अपने आप को बहुत ज्यादा शर्मिंदगी भरा महसूस करती हूं। इसी वजह से ना तो मेरा कोई स्कूल में अच्छा दोस्त था और ना ही मेरे कॉलेज में भी कोई अच्छा दोस्त था जिसे मैं अपने बारे में सब बता पाऊं। मुझे भी कभी लगता है कि मैं किसी से बात करूं या फिर कोई मुझे समझ पाए लेकिन कोई भी मुझे समझने को तैयार नहीं है। मेरी मां मुझे बहुत ज्यादा ताने देने लगी थी। अब मैं उससे बहुत परेशान हो गई। मैंने सोचा कि मैं अब कहीं जॉब कर लेती हूं। यदि घर में रहूंगी तो मुझे बहुत ज्यादा परेशानी हो जाएगी।

इस वजह से मैंने एक जगह नौकरी करनी शुरू कर दी। जब मैं वहां नौकरी कर रही थी तो तब भी मुझे अपने आप के अंदर बहुत कमी महसूस होती थी। मेरे कॉन्फिडेंस लेवल भी बिल्कुल कम हो चुका था। इस वजह से मैं किसी से अच्छे से भी बात नहीं कर पा रही थी। फिर एक दिन मैं जहां काम करती थी वहां मेरी मुलाकात एक लड़के से हुई। उसका नाम जिगर था। वह बहुत ही हैंडसम था। मैंने उससे पहले तो कुछ बात नहीं की लेकिन जब वह अपने आप ही मुझसे बात करने लगा तो मैंने भी उससे बात करनी शुरू कर दी। अब हम लोगों की फोन पर बातें हो जाया करती थी। मैं जिगर से फोन पर ही बात किया करती थी लेकिन मेरी उससे इतनी भी बात नहीं होती थी कि मैं इसे अपने बारे में कुछ बता पाऊं। एक दिन वह मुझे ऑफिस के बाहर मिला और कहने लगा तुम कैसी हो। मैंने उसे बताया मैं ठीक हूं। बातों बातों में मैंने उसे बता दिया कि मुझे एक अच्छा लड़का देखना है। जिसके ना होने की वजह से मेरी समाज में बहुत ज्यादा परेशानी हो रही है और मेरे घरवाले भी मुझे बहुत हीन भावना से देखते हैं। अब मेरी बातों को वह समझ चुका था और उसने मेरी मदद की। वह कहने लगा कि मेरी कुछ दोस्त है। मैं तुम्हे उनसे मिलवाऊंगा। वह उनके पास मुझे लेकर गया।

उनके साथ रहकर धीरे-धीरे मैं अपने आप को बदलने लगी और मैंने अपने आप को इतना बदल लिया था कि मैं पहले जैसी बिल्कुल भी नहीं दिखती थी। इन सब के पीछे जिगर का ही हाथ था। अब मेरी और जिगर की बातें बहुत होने लगी। क्योंकि उसने मेरी बहुत ही मदद की वह हर बार मेरी मदद किया करता था। जिगर के पिताजी का अपना ही बहुत बड़ा कारोबार है। वह भी उनके ही काम संभालता है। मेरे दिल में भी जिगर के लिए अब कुछ फीलिंग आने लगी थी लेकिन अब मेरे घर वाले मेरे लिए कुछ ज्यादा ही रिश्ते देखने लगे। अब मैं भी पहले से अच्छी दिखने लगी थी और मेरे घर में सब लोग मेरे पीछे पड़े हुए थे। तभी कुछ दिनों बाद मेरे लिए एक लड़के का रिश्ता आया। मेरे घरवाले उस रिश्ते के लिए मान गए और कहने लगे कि तुम्हें उस लड़के से सगाई करनी पड़ेगी लेकिन मैंने उन्हें कहा कि मुझे अभी थोड़ा समय चाहिए। मैं अभी शादी नहीं करना चाहती लेकिन वह मेरे पीछे पड़े रहे और कहने लगे कि तुम शादी क्यों नही करना चाहती। अब तुम्हारी उम्र भी बहुत हो चुकी है और बाद में तुमसे कोई भी शादी नहीं करने वाला। जब उन्होंने यह बात मुझसे कही तो मेरे मन में जिगर का ख्याल आया। क्योंकि मैं अब जिगर से शादी करना चाहती थी और मेरे घर वालों ने मेरे लिए कहीं और लड़का देखा हुआ था। परंतु मैं उस रिश्ते के लिए बिल्कुल भी तैयार नहीं थी। मेरे पिताजी मेरे पीछे ही पड़े हुए थे और कहने लगे कि तुम्हें तो यह रिश्ता करना ही पड़ेगा  मुझे भी अब लग रहा था कि मैं जिगर से इस बारे में बात कैसे करूं। क्योंकि मेरी हिम्मत नहीं हो रही थी कि उससे इस बारे में बात करू। वह मुझे अपना एक बहुत ही अच्छा दोस्त मानता था लेकिन मुझे भी लग रहा था कि अगर मैंने उसे यह बात बताई तो उसे कहीं इस बात का बुरा ना लग जाए। इस वजह से मैंने उसे यह बात नहीं बताई। उसके बाद जब मेरी सगाई हो गई तो मैंने अपनी सगाई की बात जिगर को बताई। जिगर इस बात से बहुत ही गुस्सा हो गया और कहने लगा कि तुमने मुझे अपनी सगाई के बारे में कुछ भी नहीं बताया और मुझे अपने घर भी नहीं बुलाया। मैं अब भी जिगर के लिए अपने दिल में ख्याल ढूंढ रही थी लेकिन मैंने उसे अब भी नहीं बताया की मेरे दिल मे उसके लिए क्या है और ऐसे ही समय बीत रहा था।

मैंने एक दिन सोचा कि मैं उसे सब कुछ बता देती हूं। मैं उसके घर चली गई मैंने उसे सब कुछ बता दिया तो वह कहने लगा कि तुमने मुझे पहले क्यों नहीं बताया। तुम बहुत अच्छी लड़की हो और मैं भी तुमसे शादी करना चाहता हूं। जब उसने यह बात कही तो मैं बहुत खुश हो गई उसने तुरंत ही मुझे अपने गले लगाते हुए किस करना शुरू कर दिया और मुझे वहीं जमीन पर लेटा दिया। वह मेरे नरम होठों को बहुत ही अच्छे से चूस रहा था और मेरे चूत को भी दबा रहा था। उसने मेरे कपड़ों को उतार कर फेंक दिया और थोड़ी देर तक मैं उसके लंड को चुसती रही मुझे बहुत मजा आया जब मैंने उसको अपने मुंह में लिया। उसके बाद उसने मेरे स्तनों को बहुत ही अच्छे से चूसा जिससे मेरी उत्तेजना बहुत बढ़ गई और जब उसने मेरी योनि के अंदर अपने लंड को डाला तो मेरी चूत से खून की पिचकारी निकल गई और वह बहुत खुश हुआ। मुझे कहने लगा तुम्हारी सील आज तक किसी ने नहीं तोड़ी।

मैंने उसे कहा इतने सालों से मुझे लड़कों ने नहीं छुआ तो सील कौन तोड़ेगा। अब यह बात सुनकर वह और भी तेज मुझे चोदना लगा। मुझे वह इतनी तीव्र गति से चोद रहा था कि मेरा शरीर पूरा हिलाने लगा और मुझे बहुत ही आनंद आने लगा। मेरे अंदर से सेक्स का कीड़ा भी बाहर आ गया।  मैं भी बड़ी तेज तेज आवाज में चिल्लाने लगी मैं अपनी मादक आवाज में चिल्लाती जा रही थी। जिससे वह और उत्तेजित होने लगा और कहने लगा तुम तो बहुत ही सेक्सी हो तुम्हारा फिगर तो बहुत सेक्सी है। वह मुझे ऐसे ही झटके देते जाता जिससे कि मेरा शरीर पूरा हिलने लगा और वह मेरे स्तनों को अपने मुंह में बड़े ही प्यार से ले लेता। बहुत देर तक उसने मुझे ऐसे ही चोदना जारी रखा जिसके बाद उसने मेरी चूत के अंदर अपना वीर्य को गिरा दिया। उसने बाद उसने मेरे मुंह में लंड डाल दिया। मैंने उसे चूसने लगी और वह मुझे कहता कि तुम बहुत ही अच्छे से मेरे लंड को सकिंग कर रही हो। मुझे बहुत ही मजा आ रहा है जब तुम उसे अपने मुंह में लेकर चूस रहे हो। मैंने बहुत देर तक उसको अपने मुंह में लेकर चूसना जारी रखा और उसका मेरे मुंह के अंदर ही माल गिर गया।

मैं भी बहुत खुश थी और मैंने यह बात अपने घर में बताई और जिगर ने भी मेरे घर में बात की तो मेरी सगाई टूट गई और उसके बाद जिगर और मेरी शादी हो गई अब हम दोनों बहुत खुश हैं।


error: