मेरी प्यारी भाभी


हैल्लो दोस्तों, मेरा नाम सुप्रीत है और मैं झाँसी का रहने वाला हूँ | मेरी उम्र 21 साल है और मैंने अभी एक साल पहले इंजीनियरिंग की पढाई से ग्रेजुएशन किया हूँ | मेरी कद काठी ज्यादा अच्छी तो नही है पर ज्यादा छोटी हाईट भी नही है और पतला दुबला नही हूँ | मेरा लंड 8 इंच लम्बा और 4 इंच मोटा है | मेरे घर में मैं हूँ, मेरे मम्मी पापा, भैया ( शंकर ) भाभी ( दिव्यानी ) और उनका एक साल का बेटा ( नीरज ) रहते हैं | मेरे भैया बैंगलोर में रह कर जॉब करते हैं | मम्मी और पापा दोनों एक सरकारी स्कूल में टीचर हैं | मम्मी मैथ्स की टीचर हैं और पापा इंग्लिश टीचर है | मेरे भैया भी इंजीनियरिंग की पढाई किये हैं इसलिए वो सॉफ्टवेर इंजिनियर हैं | दोस्तों, आज जो मैं कहानी लिख रहा हूँ ये मेरी पहली कहानी है | वैसे मुझे कहानी लिखनी तो नही चाहिए क्यूंकि ये मेरे घर से सम्बन्धित है पर मैं ये बात किसी को बता नही सकता इसलिए अपने दिला का बोझ कम करने के लिए कहानी लिख रहा हूँ | मैं आशा करता हूँ कि आप सभी को मेरी ये कहानी जरुर पसंद आयगी | तो अब मैं ज्यादा वक़्त बरबाद न करते हुए अपनी कहानी शुरू करता हूँ |

मेरे भैया बाहर शहर में जॉब करते हैं जिस वजह से वो कम ही घर आते हैं | भैया की शादी को दो साल हो चुके हैं | मेरी भाभी दिव्यानी बहुत सुन्दर हैं और इतनी गोरी हैं कि उनकी एक एक नस साफ साफ दिखती है | वो धुप की रौशनी में दूध जैसी चमकती हैं | उनका फिगर काफ़ी मस्त है | उनके बड़े बड़े दूध हैं और बड़ी गांड है जो कि उठी हुई है | वैसे मैंने कभी भाभी को उस नजर से नही देखा पर भाभी की वजह से मुझे उस नजर से देखना पड़ता है | मेरे मम्मी और पापा दोनों स्कूल के लिए 7 बजे ही घर से निकल जाते हैं और वो 3 बजे तक घर आते हैं | घर में, भाभी और उनका बेटा ही घर पर रहते हैं | भाभी एक डेढ़ साल तक तो ठीक रही पर पता नही अचानक से उनका रवैया मेरे प्रति बदल सा गया | जब भी वो मेरे पीछे बाइक पर बैठती तो मुझसे एक दम चिपक कर बैठती जिससे उनके दूध मेरी पीठ पर गड़ते | मुझे अच्छा भी लगता और मेरा लंड भी खड़ा हो जाता पर तब भी मैं ये सोचता कि शायद भाभी ऐसे ही बैठती होंगी | वो मुझसे चिपकने का कोई भी मौका नही छोडती थी | नाश्ते के वक़्त वो झुक कर देती जिससे उनके बड़े बड़े दूध उनके गाउन से लटकते हुए दिखते तो मैं नजरे फेर लेता | ये सब भाभी मेरे साथ रोज करती थी | थोडा थोडा मेरे समझ में आने लगा था कि भाभी को लंड नही मिलता इसीलिए वो चाहती हैं कि मैं उन्हें चोद कर उनकी चूत की प्यार बुझाऊ | पर मैंने अपने आपको बहुत कण्ट्रोल किया लेकिन जवान लौंडा हूँ कब तक कण्ट्रोल कर पाता | एक दिन की बात है मैं सुबह सो कर उठा तो फ्रेश होने गया और मैं नहाते हुए ही ब्रश करता हूँ ये मेरी आदत है |

मैं फ्रेश हो कर निकला और तुरंत बाथरूम में घुस गया | मैंने देखा कि भाभी नंगी खड़े हो कर नहा रही थी | ये देख कर मैं उन्हें सॉरी बोलते हुए बाहर निकला | मेरा जोर जोर से दिल धडकने लगा और मैं मन में सोचने लगा कि यार कितनी बड़ी गलती हो गयी है मुझसे | जब भाभी नहा कर निकली तो मैं तुरंत बाथरूम गया | उसी वक़्त भाभी ने मेरा हाँथ पकड़ा और मुझे रोकते हुए बोली कि तू इतना घबराया हुआ क्यू है ? उस समय भाभी ने टॉवल लपेटा हुआ था | मैंने भाभी से कहा कि भाभी मैंने आप को बिना कपड़ो के देखा इसलिए मैं बहुत शर्मिंदा हूँ | तो भाभी ने मुझसे कहा कि देख जान बूझकर तो तूने गलती किया नही है तो शर्मिंदा होने की क्या जरुरत है | तो मैंने कहा कि भाभी मुझे ऐसे नही आना चाहिए था | तो भाभी ने अपने टॉवल को अपने बदन से अलग कर दिया और उनका नंगा बदन मेरे सामने था | मैंने भाभी से कहा कि भाभी आप ये क्या कर रहे हो ? टॉवल लपेटो | मेरा लंड तो खड़ा हो ही चुका था उनको देख कर पर मैं अपने आपको कण्ट्रोल कर रहा था | भाभी ने मुझसे कहा कि सुन मेरी बात | देख तेरी भाभी को कई महीनो से लंड खाने को नही मिला है | मेरी भी कुछ इच्छाए हैं मेरी भी तो कुछ अनातार्वसना है | मैं एक लेडी हूँ मुझे सेक्स करने का मन होता है | तेरे भैया इतने दूर हैं मैं उनसे कैसे सम्भोग कर सकती हूँ | तू मेरा देवर है अपनी भाभी को चोद कर उसे संतुष्ट नही कर सकता क्या ? मैं भाभी की फीलिंग्स समझ रहा था | तो मैंने भाभी से कहा कि भाभी आप चाहते क्या हो ? तो भाभी ने मुझसे कहा कि मुझे तेरा प्यार चाहिए बस | तो मैंने उनसे पूछा कि कैसा प्यार चाहिए भाभी ? तो उन्होंने मुझसे कहा कि मुझे तेरा लंड चाहिए | तो मैंने कहा ठीक है भाभी मैं आपका साथ दूंगा पर मुझे अभी नहाने जाने दो | मैंने तो अभी ब्रश भी नही किया है | उसके बाद मैं नहाते हुए ब्रश करने लगा | मैं नहाते हुए सोच रहा था कि भाभी के साथ सेक्स करू या न करू | अगर किसी को इस बारे में पता चल गया तो | मैं नहा कर आया तो देखा कि भाभी नंगी ही सोफे पर बैठ कर टीवी देख रही है | मैं समझ गया कि भाभी चुदवाने के ही मूड में हैं आज इनकी गर्मी निकाल ही देता हूँ |

loading...

मैं भी नंगा उनके पास गया अपना खड़ा लंड ले कर | भाभी मेरे लंड को देखते हुए बोली कि तेरा लंड तो तेरे भैया से भी ज्यादा बड़ा और मोटा है | आज तुझसे चुदवा कर मैं अपनी चूत की प्यास बुझाउंगी | फिर भाभी खड़ी हुई और मेरे होंठ के ऊपर अपने होंठ रख दिए और मेरे होंठ को खींच खींच कर चूसने लगी | मुझे अच्छा लग रहा था तो मैं भी उनका साथ देते हुए उन्हें किस करने लगा | फिर भाभी मेरे छाती को चूमते हुए मेरे लंड पर आ  गयी | अब भाभी मेरे लंड प्यार से जीभ से चाटने लगी तो मेरे मुंह से आआहाआ ऊऊन्न्ह ऊऊम्म्ह ऊउम्म ऊउन्न्ह अहहाआअहाअ अहहहा हहहाआअ अहहहाआ ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह ऊनंह ऊउम्म्म्ह अहहहाआआअ आहाआआउन्ह ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह आहा आआआहा ऊउम्म्ह ऊउन्न्ह आअहाआअ की सिस्कारिया निकलने लगी | फिर भाभी ने मेरे लंड को पाने मुंह में डाल ली और ऊपर नीचे करते हुए चूसने लगी | वो मेरे लंड को चूसने के साथ साथ मेरे दोनों अन्टोले को भी चूस रही थी और मैं आआहाआ ऊऊन्न्ह ऊऊम्म्ह ऊउम्म ऊउन्न्ह अहहाआअहाअ अहहहा हहहाआअ अहहहाआ ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह ऊनंह ऊउम्म्म्ह अहहहाआआअ आहाआआउन्ह ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह आहा आआआहा ऊउम्म्ह ऊउन्न्ह आअहाआअ करते हुए सिस्कारिया ले रहा था | फिर भाभी बेड पर जा कर लेट गयी | मैं भी भाभी के पास गया और उनके मस्त दूध को अपने हाँथ से मसलते हुए चूसने लगा तो भाभी भी आआहाआ ऊऊन्न्ह ऊऊम्म्ह ऊउम्म ऊउन्न्ह अहहाआअहाअ अहहहा हहहाआअ अहहहाआ ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह ऊनंह ऊउम्म्म्ह अहहहाआआअ आहाआआउन्ह ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह आहा आआआहा ऊउम्म्ह ऊउन्न्ह आअहाआअ करते हुए सिस्करिया भरने लगी | फिर भाभी ने मुझसे चूत चाटने को कहा तो मैंने उनकी दोनों टांग को फैलाया और अपनी जीभ उनकी चूत में रख चाटने लगा रगड़ते हुए | भाभी आआहाआ ऊऊन्न्ह ऊऊम्म्ह ऊउम्म ऊउन्न्ह अहहाआअहाअ अहहहा हहहाआअ अहहहाआ ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह ऊनंह ऊउम्म्म्ह अहहहाआआअ आहाआआउन्ह ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह आहा आआआहा ऊउम्म्ह ऊउन्न्ह आअहाआअ करते हुए मचलने लगी | फिर भाभी ने मुझसे कहा कि सुप्रीत इतना मत तडपाओ अब सीधा चोद ही दो अपनी भाभी को | तो मैंने भी भाभी से कहा कि जो हुक्म मेरी प्यारी भाभी | फिर मैंने अपना लंड उनकी चूत में डाला तो उनकी चीख निकल गयी और भाभी ने अपनी टांगो से मेरी कमर पर लपेट ली |

अब मैं धक्के मारते हुए चोदने लगा और भाभी आआहाआ ऊऊन्न्ह ऊऊम्म्ह ऊउम्म ऊउन्न्ह अहहाआअहाअ अहहहा हहहाआअ अहहहाआ ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह ऊनंह ऊउम्म्म्ह अहहहाआआअ आहाआआउन्ह ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह आहा आआआहा ऊउम्म्ह ऊउन्न्ह आअहाआअ करते हुए चुदवाने लगी |  मैं अपनी स्पीड बढ़ाते हुए उनकी चूत को जोर जोर से चोदने लगा तो भाभी आआहाआ ऊऊन्न्ह ऊऊम्म्ह ऊउम्म ऊउन्न्ह अहहाआअहाअ अहहहा हहहाआअ अहहहाआ ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह ऊनंह ऊउम्म्म्ह अहहहाआआअ आहाआआउन्ह ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह आहा आआआहा ऊउम्म्ह ऊउन्न्ह आअहाआअ करते हुए अपनी गांड उठा उठा कर चुदवाने लगी | फिर मैंने भाभी को घोड़ी बनाया और उनके पीछे जा कर अपना लंड उनकी चूत में डाल कर फिर से जोर जोर से चोदने लगा | भाभी को भी मजा आ रहा था तो वो जोर जोर से आआहाआ ऊऊन्न्ह ऊऊम्म्ह ऊउम्म ऊउन्न्ह अहहाआअहाअ अहहहा हहहाआअ अहहहाआ ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह ऊनंह ऊउम्म्म्ह अहहहाआआअ आहाआआउन्ह ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह आहा आआआहा ऊउम्म्ह ऊउन्न्ह आअहाआअ करते हुए चुदवा रही थी | कुछ देर बाद मैंने अपना माल उनके मुंह के अन्दर डाला जो वो पी गयी |


error: