मेरे चुदाई की तड़प खत्म हुई


sex stories in hindi , desi kahani

हाय गाइस, मेरा नाम प्रथम है और मैं झांसी का रहने वाला हूँ | मेरी उम्र 45 साल है और मैं सरकारी नौकरी करता हूँ | मैं एक शादी शुदा आदमी हूँ | मेरी वाइफ निर्जला दिखने में खूबसूरत है और उसका फिगर भी अच्छा है | हमारे तीन बच्चे हैं – एक हमारी प्यारी सी गुडिया रानी, दूसरा बेटा रोहन और सबसे बड़ा बेटा शेखर है | मेरे तीनों बच्चे एक ही स्कूल में पढ़ते हैं और तीनों केंद्रीय विद्यालय में पढ़ते हैं | दोस्तों मैं इस चुदाई की साईट को बहुत समय बाद खोल कर अपनी एक निजी कहानी लिखने जा रहा हूँ वैसे जब मेरी शादी नहीं ही थी और मैं जवान था तब से मैं चुदाई की कहानिया पढ़ना ब्लू फिल्म देखना ये सब करता था और ये सब करते हुए मुझे मुट्ठ मारना बड़ा ही पसंद था | जैसे ही मेरा माल झड़ता था तो ऐसा लगता था जैसे कोई बहुत भारी बोझ उतर गया हो | पर जब से मेरी शादी हुई और मेरे तीन बच्चे हो गए तब से मैं चुदाई के लिए तरसने लगा | जब भी मैं चुदाई करने के बारे में सोचता तो मेरी बीवी बच्चो के पास चले जाती और मेरी बेटी गुडिया अभी काफी छोटी है इसलिए मेरी बीवी उसे अपने पास ही सुलाती है | मैं बहुत अजीब सा फील करने लगा था मुझे चुदाई करने का मौका नही मिल रहा था और इसी चीज़ से मैं बहुत परेशान हो चुका था | मुझे महीने दो महीने में एक बार चुदाई करने का मौका मिलता था और चाहता था कि मुझे रोज ही चुदाई मिले | पर काश ऐसा मेरी किस्मत में होता | चलो ये तो रही मेरी बाते वो भी दुःख भरी वाली | अब मैं आप को कहानी में बताता हूँ कि कैसे मैंने अपनी जिन्दगी को रंगीन किया | तो अब मैं अपनी कहानी लिखना चालू करता हूँ |

मैं जिस डिपार्टमेंट में काम करता था वहां पर कई साईं लड़कियां भाभियाँ भी जॉब करती थी | मेरे साथ में काम करने वाली एक शादीशुदा महिला थी उसका नाम अंजना था और वो दिखने में मेरी बीवी से कम सुन्दर थी लेकिन उसका फिगर मेरी बीवी से बहुत ज्यादा मस्त था | उसके दूध का शेप अच्छा नुकीला था और वो ज्यादातर ऐसे सूट पहनती थी जिससे उसके दूध उभरे हुए दिखते थे | पहले बस हम नार्मल बाते किया करते थे लेकिन अभी कुछ समय से हमारी बहुत अच्छी बाते होने लगी थी और कभी कभी हम दोनों रात की शिफ्ट पर भी काम करते थे क्यूंकि रात की शिफ्ट करने से पैसे भी ज्यादा मिलते हैं और ओवरटाइम का भी पैसा बन जाता है | एक दिन हम दोनों ने रात के श्फित के लिए बात किये अपने मैनेजर से और उसने भी अनुमति दे दिया | अब रात में मैं ऑफिस आया तो वो भी मुझे वहीँ मिल गई | उस दिन अंजना बहुत ही सुन्दर दिख रही थी और मैंने भी उसकी तारीफ किया तो वो भी खुश हो कर मुझे थैंक यू कहा | फिर हम दोप्नो अपना अपना काम करने लगे | जब हम दो ओ के डिनर करने का टाइम हुआ तो हम दोनों डिनर करने के लिए साथ में मेरे केबिन आये | उसके बाद हम दोनों हम खाना खाने लगे और साथ में बात करने लगे तभी एक दम से उसने मुझसे पूछा कि आप को नाईट शिफ्ट की क्या जरुरत आप भी तो शादीशुदा हो ? तो मैंने उससे कहा कि यार मेरी मज़बूरी है रात को मैं घर में रहता हूँ तो मुझे अपनी बीवी को प्यार करने की बहुत इच्छा होती है लेकिन मुझे प्यार नसीब नहीं हो पाता है क्या करूँ बच्चे हमे समय ही नही देते कि मैं और मेरी बीवी साथ में वक़्त बिता सकते हैं और उसके बाद मैंने उससे पूछा कि आपको नाईट शिफ्ट की जरुरत क्यूँ ? तो उसने कहा कि मेरे साथ ऐसा तो नहीं है लेकिन मेरे पति मुझे ठीक से प्यार नहीं कर पाते और मैं प्यासी ही रह जाती हूँ |

loading...

मैंने कहा हम दोनों के हालत जब एक जैसे ही हैं तो क्यूँ न एक दुसरे के साथी बन कर एक दुसरे की मदद कर दें | उसने पूछा कि वो कैसे हो सकता है ? तो मैंने कहा देखो मुझे प्यार नहीं मिलता और तुम्हे प्यार मिलता तो है मगर तुम्हे प्यार में संतुष्टि नहीं मिलती तो क्यूँ हम दोनों ही एक दुसरे के साथ सेक्स एक दुसरे को संतुष्ट कर दे | उसने कहा चलो मेरा खाना हो गया है मैं काम पर दुबारा जाती हूँ | मैंने कहा ठीक है पऔरर इस बारे में सोचना जरुर | वो चले गई और मैं भी अपना खाना ख़त्म कर काम में लगा गया | मेरे केबिन में ठन्डी हवा नही आती क्यूंकि उसमे ऐसी लगा हुआ है और ठण्ड में मुझे कोई दिक्कत नहीं होती तो रात को जब मैं सोने जा रहा था तभी अंजना आई और मुझसे कहा कि क्या मैं यहाँ सो सकती हूँ ? तो मैंने कहा हाँ जरुर | उसके बाद हम सोने लगे और मैंने दरवाजा लगा दिया | उसके बाद उसने कहा कि मैंने सोच लिया कि मैं आपके साथ सेक्स करूँगी | ये बात सुन कर मैं खुश हो गया और उसे अपने सीने से लगा लिया | थोड़ी देर तक तो हम दोनों एक दुसरे की बांहों में रहे और उसके बाद मैंने उसके होंठ से अपने होंठ को लगा कर उसको किस करने लगा और वो भी मेरा साथ देते हुए मुझे किस करने लगी | मैं उसको किस करते हुए उसके चूतड़ मसल रहा था और वो मुझे किस करते हुए मेरे लंड को पेंट के ऊपर से ही सहलाने लगी |

उसके बाद मैंने उसके कुरते को उतार दिया और उसके मम्मों को दबाने लगा तो उसके मुंह से आहा उन्नह ऊम्ह आहा उन्नह ऊम्ह आहा उन्नह ऊम्ह आहा उन्नह ऊम्ह आहा उन्नह ऊम्ह आहा उन्नह ऊम्ह की सिसकियाँ निकलने लगी | फिर मैंने उसे ऊपर से पूरी नंगी कर दिया और उसके मम्मों को अपने मुंह में भर कर चूसने लगा और वो आहा उन्नह ऊम्ह आहा उन्नह ऊम्ह आहा उन्नह ऊम्ह आहा उन्नह ऊम्ह आहा उन्नह ऊम्ह आहा उन्नह ऊम्ह करते हुए मेरे सिर के बाल को सहलाने लगी | मैं उसके मम्मों को जोर जोर से मसल कर बारी बारी से चूस रहा था और वो आहा उन्नह ऊम्ह आहा उन्नह ऊम्ह आहा उन्नह ऊम्ह आहा उन्नह ऊम्ह आहा उन्नह ऊम्ह आहा उन्नह ऊम्ह करते हुए आन्हे ले रही थी | उसके बाद मैंने उसके पायजामे को भी उतार दिया और अब वो मेरे सामने बस एक ही कपडे में बची थी और फिर मैंने उसे भी उतार दिया और नंगा कर के उसे लेटा दिया नीचे और उसकी टैंगो के बीच जा कर उसकी चूत को जीभ फेरते  हुए चाटने लगा और वो आहा उन्नह ऊम्ह आहा उन्नह ऊम्ह आहा उन्नह ऊम्ह आहा उन्नह ऊम्ह आहा उन्नह ऊम्ह आहा उन्नह ऊम्ह करते हुए मचलने लगी | मैं उसकी चूत को चाटते हुए उसके मम्मों को भी जोर जोर से मसल रहा था और वो आहा उन्नह ऊम्ह आहा उन्नह ऊम्ह आहा उन्नह ऊम्ह आहा उन्नह ऊम्ह आहा उन्नह ऊम्ह आहा उन्नह ऊम्ह करते हुए मेरे मुंह को अपनी चूत में दबा रही थी | उसकी चूत चाटने के बाद उसने मुझे भी नंगा कर दी और मेरे लंड को अपने हाँथ में ले कर जीभ फेरते हुये चाटने लगी और और मैं आहा उन्नह ऊम्ह आहा उन्नह ऊम्ह आहा उन्नह ऊम्ह आहा उन्नह ऊम्ह आहा उन्नह ऊम्ह आहा उन्नह ऊम्ह करते हुए मजे लेने लगा | वो मेरे लंड के हर एक हिस्से को बड़े ही प्यार से चाट रही थी और मैं आहा उन्नह ऊम्ह आहा उन्नह ऊम्ह आहा उन्नह ऊम्ह आहा उन्नह ऊम्ह आहा उन्नह ऊम्ह आहा उन्नह ऊम्ह करते हुए कुर्सी पर बेथ गया | फिर उसने मेरे लंड को अपने में डाल कर चूसने लगी और मैं आहा उन्नह ऊम्ह आहा उन्नह ऊम्ह आहा उन्नह ऊम्ह आहा उन्नह ऊम्ह आहा उन्नह ऊम्ह आहा उन्नह ऊम्ह करते हुए उसके मुंह में अपना लंड पेलने लगा |

वो मेरे लंड को जोर जोर से उपर नीचे करते हुए चूस रही थी और मैं आहा उन्नह ऊम्ह आहा उन्नह ऊम्ह आहा उन्नह ऊम्ह आहा उन्नह ऊम्ह आहा उन्नह ऊम्ह आहा उन्नह ऊम्ह करते हुए उसके मुंह को अपने लंड पर दबा रहा था | उसके बाद मैंने उसे लेटा दिया और उसकी चूत में अपना लंड घुसेड कर चोदने लगा और वो आहा उन्नह ऊम्ह आहा उन्नह ऊम्ह आहा उन्नह ऊम्ह आहा उन्नह ऊम्ह आहा उन्नह ऊम्ह आहा उन्नह ऊम्ह करते हुए जोर जोर से सिस्कारियां लेने लगी | मैं जोर जोर से उसकी  चूत को शॉट मारते हुए चोद रहा था और वो आहा उन्नह ऊम्ह आहा उन्नह ऊम्ह आहा उन्नह ऊम्ह आहा उन्नह ऊम्ह आहा उन्नह ऊम्ह आहा उन्नह ऊम्ह करते हुए अपनी गांड उचका उचका कर चुदाई में साथ दे रही थी | कुछ देर की चुदाई के बाद मैंने अपना वीर्य उसकी चूत के ऊपर ही झड़ा दिया | अब मैं भी खुश रहता हूँ और वो भी और अब मुझे चुदाई की भी तलब नहीं लगती |