लंड का द्वार सबके लिए खुला है


desi chudai ki kahani, hindi sex stories

हेल्लो दोस्तों कैसे हो आप सब मेरा नाम है बाबा और मैं बस भागता रहता हूँ क्यूंकि मेरा शौक है भागना | मैंने कभी अपनी लाइफ में नहीं सोचा था कि मैं कुछ बन पाऊंगा पर मैंने ये सब हासिल किया अपने दम पर | दोस्तों मैंने जो अपने दम पर हासिल किया है उसके बारे में आपको बता देता हूँ | एक साइकिल और एक घर वो भी टूटा फूटा | दोस्तों आज के समय में अपने सिर के ऊपर छत होना बहुत बड़ी बात है पर वो अलग बात है मेरे सिर के ऊपर छत नहीं है मैंने पन्नी डाल रखी है | हाँ एक और चीज़ है जो मैंने हासिल की पर वो मेरी हो ना सकी | जी हाँ दोस्तों मैं चूत की बात कर रहा हूँ | साला मैंने जिसको चोदा वो भाग गयी किसी और के साथ | मतलब मेरे पास कंडोम के पैसे नहीं थे तो बता देती मैं कर्जा करके कंडोम ले आता पर मादरचोद भाग गयी | चलो ठीक है भाग गयी मुझे उसकी कोई चिंता नहीं मेरा खर्चा कम हो गया एक चाय का पर ये तो बता देती कि उसके पेट में मेरा बच्चा कब से था | चलो अब मेरा पाप किसी और के सिर पर होगा मुझे क्या |

दोस्तों अब मैं अपने बारे में आपको बता देता हूँ कुछ | तो ऊपर सब पढके आप ये समझ तो गए होंगे कि मैं बिलकुल बेकार फदाली इंसान हूँ | मेरे आगे पीछे कोई नहीं है और जो कोई भी है वो मुझसे मतलब नहीं रखता | वैसे मैं महाराजा के खानदान से हूँ | जी हाँ मुझे हलके में मत लेना मेरा बाप महाराजा के घर में टट्टी साफ़ करता था | देखा इतनी कूबत है क्या किसी के पास | मैं असम में रहता हूँ और दारु पीके कहीं भी पड़ा रहता हूँ और मुझसे कोई किसी चीज़ की उम्मीद नहीं कर सकता क्यूंकि मैं हूँ ही बेकार | तो दोस्तों अब मैं आपको बताता हूँ कैसे मेरी तकदीर बदली और मैं टट्टी से बाथरूम तक पहुँच गया | जी हाँ वो भी महारानी के साथ और उनकी बेटी के साथ और उनकी बहु के साथ भी | अब बताओ दोस्तों किस्मे है दम | अब तो मैं ये सोच रहा था कि मैं ये सब कभी ना छोड़ पाऊं बस ऐसे ही गरीब बनके टट्टी साफ़ करता रहूँ | और किस्मत मुझपर इतनी मेहरबान कि मैंने जो सोचा वो हो भी गया |

loading...

तो दोस्तों अब मैं आपको मुद्दे की बात बताने जा रहा हूँ की ये सब हुआ कैसे | दोस्तों ये बात आप किसी को बताना मत कि महाराजा का लंड छोटा है और उसको चोदने में कोई दिलचस्पी नहीं है | हाँ यार वो गांडू है साला अपनी गांड मरवाता है | दुनिया के सामने ऐसा बना रहेगा जैसे साला बहुत बड़ी तोप हो पर असलियत में गांडू ही है | उसकी बीवी, बेटी, बहन, और बहु सब ये बात जानती हैं और वो सारी क्या माल हैं | मतलब उनकी चूत चोदना और तीर्थ करना एक बराबर है | ऊपर से उसका लौंडा भी ऐसा ही है गांडू साला उसका लंड तो बड़ा है पर साला चुदाई में कमज़ोर है और दो मिनट में झड़ जाता है | अब दोस्तों देखने वाली बात ये है साला नाम बड़े और दर्शन छोटे | इससे अच्छा तो लोग मुझे महाराजा बना देते कम से कम मेरे लंड में तड है और दम तो अपार है | इसलिए घर की बात घर में रहे इसकी खातिर घर की औरतों ने एक प्लान बनाया जिसमे बकरा मैं था | क्यूंकि महल में ना जाने कहाँ कहाँ कैमरे लगवा रखे है |

साला सबसे पहले तो वो महाराजा है हर कैमरे में दूसरों का लंड देखता रहता है जिसका भी अच्छा लगा उसको अपने ऑफिस में बुलाया और खोल दी अपनी गांड | अब बेचारा इंसान क्या करे या तो गांड मारेगा या खुद मरेगा | इस धर्मयुद्ध में फसते फसते अं भी बच गया था क्यूंकि महाराजा ने मेरा बड़ा फौलादी लंड देख लिया था | उसने मुझे बुलाया और कहा ये लो सेवक मेरी गांड फाड़ दो अपने दमदार लंड से | मैंने कहा महाराजा आज मेरे पास तेल नहीं है पर मेरा पैंतरा फ़ैल हो गया | पर वो कहते हैं ना विज्ञान में हर चीज़ का इलाज है | इसलिए मैंने अपना फोन चालु किया और उसकी नज़र जैसे ही हटी वैसे ही मैंने अपने फोन को कान पे लगाया और बात करने लगा फ्री की | मैंने फोन पे कहा क्या तुझे गांड में दिक्कत हो गयी पर तू तो मेरे लिए तेल लायी थी | फिर मैं कुछ देर रुका और कहा क्या तेरा मतलब मेरे लंड में बिमारी है इसलिए तुझे खुजली हो गयी | मैंने कहा रुक मादरचोद अभी एक की गांड मारता हूँ और देखना उसे कुछ नहीं होगा |

महाराजा ने कहा सुनो आज रहने दो मैं फिर कभी तुमसे अपनी गांड मरवा लूँगा | मैंने कहा अरे नहीं महाराजा आज तो इज्ज़त पे बात आ गयी है | लाइये अपनी गांड मैं बिना थूक के अपना लंड अन्दर करता हूँ | उसे कहा नहीं मुझे कही जाना है फिर कभी करना और मुझे बाहर भेजते हुए कहा ड्राईवर को भेज देना | मैं भी ख़ुशी से बाहर गया और ड्राईवर से कहा जा भाई तेरी मरम्मत होने वाली है | अब जब भी महाराजा दिखते तो मैं इशारे से पूछता चलूँ क्या और वो गांड दबा के भाग जाता | बस ऐसा ही चल रहा था कि एक दिन मेरे पास खबर आई कि रानी साहिबा ने तुम्हे बुलाया है | मैंने कहा ठीक है मैं अभी आ रहा हूँ | मैंने सोचा होगा कोई साफ़ सफाई का काम इसलिए याद किया होगा और मैं एपने औजार लेके पहुँच गया | जैसे ही मैं गया तो चारों वहां बैठीं थी और उसके बाद उन्होंने कहा चलो अपना लंड दिखाओ | मैं एक दम से चौंक गया और कहा क्या ? तो उन्होंने कहा चलो दिखाओ वरना तुम जानते हो क्या हो सकता है तुमाहरे साथ |

मैंने अपना लंड खोला शर्माते हुए और कहा आप चारों आओगी या एक एक करके | उन्होंने कहा आज तुमाहरा पहला दिन है इसलिए तुम बताओ किसको चोदोगे | मैंने कहा जी मैं राजा जी की बीवी को चोदना चाहता हूँ | वो उठी और मेरे पास आई और मुझे बाथरूम में ले गयी | वहां उसने मेरा लंड पकड़ा और शावर चालु कर दिया और कहा अब से बन ठन के रहना | इतना कहते हुए उसने मेरे पूरे बदन पे साबुन मॉल दिया और फिर धीरे धीरे मेरे लंड को पकड लिया | उसने कहा मस्त लंड है पर काम करता है क्या ? मैंने कहा आजमा लो जानेमन तो वो मेरे लंड को आगे पीछे करने लगी | 5 मिनट बाद भी जब मेरा माल नहीं निकला तो उसने कहा दम तो है | फिर उसने मेरा लंड मुँह में लिया और कहा मेरा पति नामर्द है अबसे यही लंड मेरा है और यही मुझे वारिस देगा | वो जोर जोर से मेरा लंड चूसने लगी और मेरे मुँह से आहा ऊनंह ऊम्म्ह आहाआ ऊंह ऊम्मंह अह़ा ऊनंह ऊमंह ऊनंह आहा ऊनंह ऊम्म्ह आहाआ ऊंह ऊम्मंह अह़ा ऊनंह ऊमंह ऊनंह आहा ऊनंह ऊम्म्ह आहाआ ऊंह ऊम्मंह अह़ा ऊनंह ऊमंह ऊनंह की आवाज़ निकलने लगी |

उसने कहा मज़ा आया ना तो मैंने कहा हाँ बहुत आ रहा है और करो तो वो और जोर से मेरा लंड चोसने लगी और मैं बस आहा ऊनंह ऊम्म्ह आहाआ ऊंह ऊम्मंह अह़ा ऊनंह ऊमंह ऊनंह आहा ऊनंह ऊम्म्ह आहाआ ऊंह ऊम्मंह अह़ा ऊनंह ऊमंह ऊनंह करते हुए उसका साथ दे रहा था | करीब आधे घंटे चूसने के बाद मैंने कहा बस अब मेरी बारी और मैंने उसको वहीँ वॉश बेसिन पर बैठाया और उसकी चूत चाटने लगा | वो आहा ऊनंह ऊम्म्ह आहाआ ऊंह ऊम्मंह अह़ा ऊनंह ऊमंह ऊनंह आहा ऊनंह ऊम्म्ह आहाआ ऊंह ऊम्मंह अह़ा ऊनंह ऊमंह ऊनंह आहा ऊनंह ऊम्म्ह आहाआ ऊंह ऊम्मंह अह़ा ऊनंह ऊमंह ऊनंह करते हुए कहने लगी आज तक मेरे साथ ऐसा नहीं हुआ और करो मैं बस तुमाहरी हूँ | मैंने भी उसकी चूत को जमके चाटा और उसका सारा पानी पी लिया | उसकी चूत को चाटने के साथ साथ ऊँगली से भी चोद रहा था पर वो आहा ऊनंह ऊम्म्ह आहाआ ऊंह ऊम्मंह अह़ा ऊनंह ऊमंह ऊनंह आहा ऊनंह ऊम्म्ह आहाआ ऊंह ऊम्मंह अह़ा ऊनंह ऊमंह ऊनंह करते हुए उचक रही थी | उसके बाद उसने कहा बस अब लंड पेल दो मेरी चूत में |

मैंने उसकी चूत में लंड टिकाया और एक झटके में अन्दर कर दिया और वो चुप हो गयी जैसे उसके गले तक लंड चला गया हो | फिर उसने धीरे से कहा मेरी चूत फाड़ दी | मैंने कहा अब देख और जोर जोर से धक्के मारके चोदने लगा उसे | थोड़ी देर बाद वो भी मस्त हो गयी और आहा ऊनंह ऊम्म्ह आहाआ ऊंह ऊम्मंह अह़ा ऊनंह ऊमंह ऊनंह आहा ऊनंह ऊम्म्ह आहाआ ऊंह ऊम्मंह अह़ा ऊनंह ऊमंह ऊनंह करते हुए चुदवाने लगी | एक घनता चोदने के बाद मेरा माल उसके मुँह में था और बाहों में महाराजा की बीवी |

अब समझ गए ना |