लुधियाना वाली भाभी की तड़प भाग २


अब में उनकी नाभि पर किस करता-करता उनकी पेंटी के पास आया और उनकी पेंटी उतार दी और वावववववऊऊ क्या स्मेल थी उनकी चूत की? मस्त गीली चूत में। फिर में उनकी चूत पर किस करने लगा और अब में अपनी जीभ से उनकी चूत को चाटने लगा। अब वो बहुत ज्यादा मदहोश होने लगी और कहने लगी कि ऐसा तो तुम्हारे भैया ने कभी मेरे साथ नहीं किया था। फिर मैंने भी भाभी से कहा कि मैंने आपको कहा था कि में आपको ऐसे खुश करूँगा कि आप कभी भी नहीं भूल पाओगी। फिर मैंने अपने शॉर्ट्स भी उतार दिए। अब भाभी मेरे लंड को देखकर डर गयी और कहने लगी कि इतना बड़ा लंड, तुम्हारे भैया का तो इससे आधा ही है, लगता है आज तुम मेरी चूत को फाड़ दोगे। फिर मैंने कहा कि भाभी आप चिंता ना करो, में आज आपको जन्नत की सैर कराऊंगा। अब भाभी ने एक पल भी देर ना करते हुए मेरे लंड को अपने मुँह में डालकर चूसने करने लगी और उनके सक करने से मेरा लंड और कड़क हो गया था।

अब मेरे लंड का पानी निकलने वाला था और मैंने बिना बताए भाभी के मुँह में ही उसको निकाल दिया।  अब भाभी भी उसको जूस की तरह पी गयी। फिर हम दोनों फिर से किस करने लगे और कुछ देर के लिए हम ऐसे चिपक कर लेटे रहे कि हम दोनों के बीच में से हवा भी ना निकल सके। फिर भाभी ने कहा कि अब और मत तड़पाओ बस मेरी आग बुझाओ। फिर मैंने अपना लंड भाभी की चूत पर रखा और ज़ोर से धक्का दिया, लेकिन मेरा लंड पूरा अंदर नहीं गया, क्योंकि भाभी 4 महीने से किसी से नहीं चुदी थी और ऐसा लग रहा था कि जैसे की उनकी चूत बिल्कुल नई है। मैंने फिर से एक ज़ोर का धक्का दिया तो इस बार मेरा पूरा लंड उनकी चूत के अंदर चला गया और भाभी ज़ोर से चिल्लाई और आाऊऊऊऊऊओक्ककचह बहुत ज़ोर से कहा। फिर में अपना लंड अंदर बाहर करने लगा और भाभी और ज़ोर से चिल्लाने लगी। फिर में अपनी स्पीड तेज करके भाभी को किस करने लगा तो अब उनकी आवाज़ आनी भी कुछ कम हुई और उस दिन में भाभी को 30 मिनट तक चोदता रहा और मैंने अपना सारा पानी भाभी की चूत में ही छोड़ दिया।

अब उनको बहुत मज़ा आया और हमारे इस सेक्स में हमें टाईम का पता ही नहीं चला। फिर डोर बेल बजी तो मैंने टाईम देखा तो मेरी बहन के आने का टाईम हो गया था। फिर में अपने रूम में अपने कपड़े लेकर भागा और भाभी भी जल्दी-जल्दी अपने कपड़े पहनकर दरवाजा खोलने चली गयी और हमारा सेक्स बीच में ही छूट गया, लेकिन यह भी ज्यादा देर तक नहीं छूटा और उस रात को हमने पूरी रात चुदाई की, क्योंकि मेरी बहन भाभी के साथ सोने चली गयी और मैंने भाभी को कह दिया था कि बहन के दूध में आज नींद की दवा मिला देना, तो भाभी ने भी ऐसा ही किया और जब मेरी बहन गहरी नींद में सो गयी तो भाभी मेरे रूम में आ गयी।

loading...

इस बार वो मेरे रूम में बिना कपड़ो के आ गयी, क्योंकि अब हमें किसी का डर नहीं था और अब में भी अपने कपड़े खोलकर पूरा तैयार था और आते ही भाभी ने मुझे किस करना स्टार्ट किया और हम दोनों ने अपना सेक्स शुरु किया। उस दिन मैंने भाभी को 5 बार चोदा और उनकी 4 महीने से तड़प रही चूत को शांत किया। अब भाभी तो इतनी खुश थी कि वो मुझे छोड़कर जाना ही नहीं चाहती थी और ऐसे ही हमारा यह सिलसिला 4 दिन तक चलता रहा और जो आज तक चल रहा है। अब जब भी में लुधियाना जाता हूँ तो भाभी की चूत को ज़रूर शांत करता हूँ ।।

धन्यवाद …