लागा चूत में दाग


hindi sex stories

हैलो, मेरा नाम आशीष सिंह है और मैं भुवनेश्वर में रहता हूँ | मेरी उम्र 34 साल है और मैं एक सेल्समेन होने के साथ साथ योगा भी सिखाता हूँ वो भी प्राइवेट में | दोस्तों योग के बहुत फायेदे है जैसे मुझे ही ले लो मैं 34 साल का हो गया हूँ लेकिन दिखता बिलकुल नहीं हूँ और मैं अपनी जितनी भी क्लाइंट से अपनी उम्र पूछता हूँ, तो वो ज्यादातर 26 या 27 ही बोलती है | वैसे मैं शादीशुदा हूँ लेकिन आपको तो पता है लडको का दिल कितना बड़ा होता है, वो कभी भी आने वाली चीज़ को न नहीं करते और जब बात लड़की और औरत की हो, तो हम तो बाहें फैलाये खड़े मिलते है | तो आप तो समझ ही गए होंगे कि मैं ठरकी हूँ लेकिन इतना भी नहीं क्यूंकि अभी कुछ दिन पहले ही मैंने दो लड़कियों को योग सिखाने के लिए मना किया है क्यूंकि वो बिलकुल भी माल नहीं थी | चलिए ये तो होगी मेरी तारीफ अब मैं आपको अपने कुछ अनुभव बताता हूँ |

पिछले साल 21 जून को योग का बहुत बड़ा समारोह हुआ जिसमें मुझे बुलाया गया योग करवाने के लिए और इसका आयोजन बड़े पैमाने पे हुआ था, तो लोग बहुत आये थे | मैंने अपना काम किया और चला गया लेकिन उसके बाद से मुझे योग सिखाने के ऑफर बहुत मिलने लगे | मैंने भी कुछ चुनिंदा लोगों को ही सीख दी, मेरा मतलब सैक्सी लड़कियों और औरतों से है | तो मैं सिर्फ ऐसे लोगों को सिखाता था जो मुझे पसंद आते थे और मैंने जितनों को सिखाया है उनमें से सिर्फ एक को छोड़ के बाकी सब को चोदा है | वो एक इसलिए बच गई थी क्यूंकि उसको सिखाने मैं उसके घर जाता था और घर में कोई न कोई होता ही था और वो मुझसे पट भी नहीं पाई थी | चलो उसको जाने दो मैं आपको बाकी सब के बारे में बताता हूँ | मुझे एक दिन कॉल आया और उसने अपना नाम दीपिका बताया और कहा मैं योग सीखना चाहती हूँ क्या आप मेरे घर आके सिखा सकते है ? तो मैंने एड्रेस लिया और उसके घर पहुँच गया | जब मैं उससे मिला तो मेरी आँखें फटी रह गई, वो बहुत ही सुन्दर औरत थी लेकिन थोड़ी सी मोटी थी | मैंने उसको दो महीने सिखाया और उसकी चर्बी थोड़ी कम हो गई और वो बहुत गज़ब की लगाने लगी |

loading...

एक दिन जब मैं उसको योग करवा रहा था तभी उसका थोडा सा बैलेंस बिगड़ा और मैंने उसको पकड़ा तो मेरा हाँथ उसके दूध पर चला गया और मैंने उसके दूध दबा दिए | मुझे बिलकुल भी अजीब सा नहीं लगा लेकिन वो शर्मा गई, तो मैंने उसको दूसरा आसन करवाया और उसकी गांड पे अपना अपना लंड दबाने लगा | मेरा इतना सब करने के बाद भी वो कुछ नहीं बोल रही थी और बस शर्मा रही थी, तो मैं समझ गया और उसको बाहों में पकड़ के कहा बस बहुत हो गया योग और उसको किस करने को किया, तो उसने नहीं किया | तो मैंने पूछा क्या हुआ मैं तुम्हें पसंद नहीं हूँ क्या ? तो उसने कहा ऐसा नहीं है मेरा पति है और बच्चे भी | तो मैंने कहा वो तो मेरे भी है, तो उसने कहा लेकिन, तो मैंने उसके होंठों पे ऊँगली रख दी और कहा किसी को कुछ पता नहीं चलेगा और फिर उसको किस किया तो वो भी शुरू हो गई | फिर किस करते हुए मैंने उसकी लैगी में हाँथ डाला और उसकी गांड दबाने लगा | फिर मैंने उसकी लैगी उतार दी और उसकी चूत चाटने लगा | मैंने उसकी चूत चाटी और उसके बाद अपना पजामा उतार के उसको लंड चुसना शुरू कर दिया |

वो मज़े से हिला हिला के मेरा लंड चूसने लगी और चूसने के बाद कहा ये मेरे पति से बड़ा और मोटा है डाल दो इसको और घोड़ी बन के खड़ी हो गई | मैंने भी लंड उसकी चूत के छेद पर रखा और अन्दर डाल दिया और उसकी गांड पकड़ के उसको चोदना शुरू कर दिया | मैं उसकी चूत मार रहा था और वो अह्ह्ह अह्ह्ह ह्ह्ह ह्ह्ह अह्ह्ह आआ आया ह्ह्ह्ह ह्ह्ह अह्ह्ह अह्ह्ह अह्ह्ह्ह आआ आआअ कर रही थी | मैंने थोड़ी देर तक उसकी चूत मारी और उसके बाद वो घुटनों पर बैठ गई और मेरा लंड अपने दूध के बीच में दबा के हिलाने लगी | किसी ने पहली बार अपने दूध के बीच में दबा के मेरा लंड हिलाया था और सच में इसमें बहुत आनंद आता है | फिर उसने लंड मुंह में डाल के चूसना शुरू कर दिया और थोड़ी देर बाद मेरा मुट्ठ उसके मुँह में ही निकल गया | उसके बाद जब भी मैं उसको सिखाने जाता था और घर पर कोई नहीं होता था तो हम योग के बजाए चुदाई ही किया करते थे |

ये तो हो गई एक की कहानी मैं आपको एक और सुनाता हूँ | एक दिन जब मैं दीपिका के घर गया तो उस दिन उसकी सहेली रूपाली भी उसके घर आई हुई थी, तो हम तीनो ने साथ बैठके बातें की और उसने कहा आप मुझे भी सिखा दीजिये योगा मेरे घर आके | जब उसने ये कहा तो दीपिका ने मेरी तरफ देखा और ऐसी नज़र से देखा जैसे वो समझ गई हो की मैं इसको भी चोदूंगा | वो दिखने में दीपिका से ज्यादा अच्छो ती नहीं थी लेकिन उसका फिगर कातिलाना था और जितनी भी औरतों को मैंने चोदा है उनमें से सबसे ज्यादा टाइट चूत इसी की थी | तो मैंने रूपाली के घर जाकर उसको योगा कराना शुरू कर दिया | एक जब मैं उसको योगा करा रहा था तो मैंने उससे कहा खड़े खड़े अपने घुटनों तक झुको और वो झुकने लगी | मैं उसके पीछे ही खड़ा था और जब वो झुकी तो उसका पजामा नीचे हो गया और उसकी गांड की नाली दिखने लगी | मैं तो यही सोच के मचल पड़ा की इसने पैंटी नहीं पहनी ज्यादा कपड़े नहीं उतारने पड़ेंगे | तो मैंने उससे कहा फिर से झुको और जब वो झुकी तो मैंने पीछे से उसकी गांड पकड़ ली |

वो जल्दी से उठी और आगे हो गई और मुड़कर मुझसे पूछा ये क्या कर रहे हो ? तो मैंने कहा बस तुम्हारी मदद | तो उसने कहा ये कैसी मदद कर रहे हो मैं सब समझती हूँ, तो मैंने कहा ऐसा कुछ नहीं है तुम गलत समझ रही हो | तो उसने कहा अच्छा रुक जाओ और उसने आके मेरा लंड और गोटियाँ दबा दी | मुझे थोडा दर्द हुआ लेकिन जब उसने उसे पकड़ा वो एहसास ही मज़ेदार था | तो मैंने जवाब में उसके दूध दबा दिए और उसके बाद हमने एक दूसरे को देखा और किस करने लगे | हम दोनों चिपक चिपक के किस कर रहे थे और मैं उसको पकड़ा हुआ था और वो मेरे पजामे में हाँथ डालके मेरा लंड सहला रही थी | उसके बाद उसने मेरा पजामा उतारा और मेरा लंड पकड़ के कहा सही कहा था दीपिका ने बड़ा है इसका, मज़ा आयेगा आज और इतना कहकर लंड चूसने लग गई | उसने पहले मेरे लंड के टोपे पे जीभ फिराई और ऊपर से नीचे तक चाटा और उसके बाद चूसना शुरू किया | मुझे लंड चुस्वाने में बड़ा मज़ा आ रहा था इसलिए में आखें बंद करके खड़ा हुआ था और इसका आनंद ले रहा था | उसने थोड़ी देर तक मेरा लंड चूसा और फिर वो रुक गई |

मैंने उसको खड़ा किया और उसका टॉप उतारा और उसकी ब्रा भी फिर उसके दूध दबाते हुए चूसने लगा | मैंने उसके निप्पल चूसे और दूध जमकर दबाए और उसके दूध से जो दूध निकला उसे पिया भी | उसके बाद मैंने उसका पजामा उतारा और उसके बाद मैंने उससे पूछा अच्छा तुमने पैंटी क्यों नहीं पहनी ? तो उसने कहा मुझे पता था आज हमें ये करना है इसलिए | उसके बाद वो वहीँ ज़मीन पे बिछी गद्द्दी पे लेट गई और मैंने उसकी चूत चाटना शुरू कर दिया | उसकी चूत बिलकुल चिकनी थी जैसे आज सुबह ही  बाल बनाये हो | मैंने थोड़ी देर तक उसकी चूत चाटी और उसके बाद उसके ऊपर लेट गया और उसकी चूत में लंड डाल के उसको चोदने लगा | मैं उसको झटके मार रहा था और वो अह्ह्ह अह्ह्ह ह्ह्ह ह्ह्ह अह्ह्ह आआ आया ह्ह्ह्ह ह्ह्ह अह्ह्ह अह्ह्ह अह्ह्ह्ह आआ आआअ कर रही थी लेकिन इस तरह मैं उसे ठीक से नहीं चोद पा रहा था, तो मैंने उसको घोड़ी बना दिया और पीछे से उसकी चूत में लंड डाल के उसको चोदने लगा | वो अह्ह्ह अह्ह्ह ह्ह्ह ह्ह्ह अह्ह्ह आआ आया ह्ह्ह्ह ह्ह्ह अह्ह्ह अह्ह्ह अह्ह्ह्ह आआ आआअ करती रही और थोड़ी देर के बाद मेरा मुट्ठ निकल गया और मैंने उसके दूध के ऊपर गिरा दिया | उसके बाद उसने मेरा लंड चूसके उसे साफ़ किया और फिर हमने कपड़े पहने और मैं चला गया | फिर उसके बाद जब भी मैं उसको घर जाता था तो चुदाई ज़रूर करता था और उसी एक छोटी बहन भी थी बाकी आप समझदार हैं |