लड़की को पटा कर की चुदाई


Desi sex

हेल्लो दोस्तों मेरा नाम आलोक है | मैं रहने वाला पंजाब का हूँ | मैं आज सभी सेक्सी कहानी के पाठको के लिए एक कहानी लेकर आया हूँ | दोस्तों मैं भी सेक्सी कहानी का बहुत पुराना पाठक हूँ | मैं बहुत दिनों से अपनी कहानी लिखने के बारे में सोच रहा था | दोस्तों पर मुझे टाइम नही मिल पा रहा था | इसकी वजह ये है की मैं एक बाइक की शॉप पर काम करता हूँ और मुझे वहां से आते आते रात हो जाती और मैं थका हुआ होता जिससे मुझे नीद आ जाती और मैं सो जाता | आज मैं टाइम निकल पाया हूँ तो आप लोगो तक अपनी कहानी पहुचाने जा रहा हूँ | मैं अपनी कहानी शुरू करने से पहले अपने बारे में बता देता हूँ | दोस्तों मेरी उम्र 24 साल है और मैं एक गरीब परिवार से हूँ जिसकी वजह से पढाई नही कर सका | मैंने पढाई सिर्फ 12 तक ही की है | मेरा रंग गोरा है और मेरी हाईट 6 फुट 4 इंच है | मेरी बॉडी भी ठीक ठाक है जिससे मैं स्मार्ट लगता हूँ | मैं आज जो कहानी आप लोगो के सामने प्रस्तुत करने जा रहा हूँ | ये मेरी पहली कहानी है तो मैं आप सभी लोगो से उम्मीद करता हूँ की आप सभी लोगो को मेरी कहानी पसंद आयेगी और इस कहानी को पढने में मज़ा भी आयेगा | मैं अब ज्यादा समय न लेता हुआ सीधे कहानी पर आता हूँ |
दोस्तों जब मैंने पढाई छोड़ दी थी तो मैं एक बाइक की दुकान पर काम करने लगा था | मैं उस दुकान पर काम करते करते काफी दिन हो गए और मैं बाइक के बारे में सब जान गया | मैं अब पूरी बाइक बनाने के बारे में जान गया था | मैं सब जानने के बाद उस दुकान पर कुछ दिन तक काम करता रहा | फिर कुछ दिन बाद जब मेरे पास कुछ रूपये हो गए तो मैंने अपनी खुद की बाइक रिपेयरिंग की दुकान खोल ली | कुछ दिन तक तो मेरी दुकान ठीक नही चली | फिर कुछ दिनों के बाद मेरी दुकान ठीक ठाक चलने लगी | कुछ दिनों तक तो मैंने खुद ही काम किया | उसके बाद मेरी दुकान पर एक लड़का काम सिखने के लिए आने लगा | अब मैं और वो लड़का दोनों ही काम देखते | इस तरह से मुझे दुकान खोले 2 -3 महीने हो गए | अब मेरी दुकान एकदम मस्त चल रही थी और मैं मस्ती से काम करता था |
एक दिन की बात है जब मेरी दुकान पर एक कॉलेज की लड़की अपनी स्कूटी बनवाने आई | मैंने उसकी स्कूटी बनाई और उसकी स्कूटी में ज्यादा तो कुछ नही था बस एक तार निकल गया था जिससे उसकी स्कूटी स्टार्ट नही हो रही थी | मैंने उसकी स्कूटी सही की और उसने मुझसे पूछा कितने रूपये | मैंने कहा 200 उसने रूपये निकाले और दे दिए | वो उस दिन चली गयी और दोस्तों दुसरे दिन फिर वो स्कूटी लेकर आ गयी | मैंने देखा तो वही तार फिर निकला हुआ था | मैंने उस दिन उस तार को कसके बंद दिया और उसने मुझसे रूपये पूछे तो मैंने कहा ठीक है कल जो दिए थे उसी में बना दिया है | वो लड़की बोली थैंक्स मैंने भी कह दिया मोस्ट वेलकम | वो मुझे देखकर हँसती हुई चली गयी | दोस्तों मुझे उस दिन तो कुछ समझ नही आया पर उसके तीसरे दिन जब वो फिर स्कूटी लेकर आई | मैं उस दिन समझ गया की ये स्कूटी बनवाने नही मुझसे बात करने आती है | मैं उस दिन अन्दर बैठा रहा और छोटू से बोला की स्कूटी में देख क्या कमी है | छोटू उठ कर गया और स्कूटी में देखने लगा की क्या हुआ है | उसे कुछ समझ नही आया तो उसने मुझे कहा उस्ताज ये स्टार्ट नही हो रही है | मैंने उससे कहा की बोल दो नही बन पायेगी ले जाये | वो लड़की बोली ठीक है मैं वेट करती हूँ | वो वहीँ बींच पर बैठ गयी और मेरे आने का इंतजार करने लगी | वो कुछ देर तक बैठी रही | तब मैं गया और उसकी स्कूटी सही की | फिर मैंने उससे कहा तुम्हरा नाम क्या है | उसने अपना नाम कोमल बताया | दोस्तों वो दिखने में बिलकुल डॉल की तरह थी | वो दिखने में बहुत सुन्दर थी | फिर वो बोली आपका क्या नाम है | मैंने अपना नाम बता दिया | उसके बाद उसने मेरा नम्बर माँगा और मैंने उसे अपना नम्बर दे दिया | वो मेरी तरफ देखती हुई चली गयी | दोस्तों उस रात को उसने फ़ोन किया और उस रात को मैंने उससे पहली बार बात की | उस रात मैं और कोमल ने 1 घंटे तक बात की | उस दिन के बाद वो मेरी दुकान पर रोज आती और मुझे बैठ कर बाते करती | मैं उसकी स्कूटी में ऐसे ही कुछ न कुछ किया करता की कोई सक ने करे | उसके कुछ दिन बाद की बात है जब उसने मुझसे घुमने के लिए कहा | पहले मैंने तो माना कर दिया और कहा अगर तुम्हारे घर के किसी आदमी ने देख लिया तो क्या होगा | तब उसने मुझसे कहा की मेरे घर पर आज कोई नही है और सब लोग शादी में यहाँ से बाहर गए हुए हैं | वो सब लोग 2 दिन बाद आयेंगे |
तब मैं और वो घुमने गये और उस दिन हम दोनों ने एक ही काफ में चाय पी | दोस्तों उस दिन उसने बिना किसी डर के कॉफ़ी शॉप में मेरी होठो पर किस कर दी | फिर हम दोनों साथ में अपनी शॉप पर आये और उसने मुझे अपने घर चलने को कहा और बोली मैं आज घर में अकेली ही हूँ | मैंने छोटू से कहा बंद करके घर चले जाना | मैं ये कहकर उसकी स्कूटी पर बैठ गया और वो मुझे अपने साथ अपने घर लेकर गई | फिर उसने मेरे लिए चाय बनाई और हम दोनों ने चाय पी | मैं उसके साथ बैठ कर बाते कर रहा था | हम दोनों ऐसे ही कुछ देर तक बात करते रहे | मैं उसको देख रहा था वो मुझे बहुत ही सेक्सी नज़रो से देख रही थी | मैं अपने हाथ को हल्के से उसके कंधो पर रख दिया और उसकी होठो पर अपनी होठो को रख कर चूसने लगा | वो भी मेरे साथ देती हुई मेरी होठो को चूसने लगी | मैं उसकी होठो को चूस रहा था और वो मेरी होठो को चूस रही थी | हम दोनों ऐसे ही कुछ देर तक एक दुसरे की होठो को चूस रहे थे | मैं उसकी होठो को चूसने के साथ में उसके बूब्स को कपडे के ऊपर से दबा रहा था | वो अब पूरी तरह से गर्म हो गयी थी और मेरे सर को सहला रही थी | मैं उसके बूब्स को दबाने के साथ उसके कपडे निकाल दिए |
वो मेरे सामने ब्रा और पैंटी में आ गयी | मैंने उसकी ब्रा भी खोल दी और एक दूध को मुंह में रख कर चूसने लगा | वो मेरे सर को अपने बूब्स पर दबाने लगी | वो मेरे सर को अपने बूब्स पर दबा रही थी और मैं उसके एक दूध को मुंह में रख कर चूस रहा था साथ में दुसरे वाले दूध के निप्पल को हाथ में पकड कर मसल रहा था | मैं उसके बूब्स को ऐसे ही 5 मिनट तक एक एक करके चूसता रहा | फिर मैंने उसकी पैंटी भी निकाल दी और उसकी टांगो को फैला कर उसकी चूत को चाटने लगा | मैं उसकी चूत को चाटने के साथ में उसकी चूत में अपनी ऊँगली भी घुसा कर अन्दर बाहर करने लगा | वो आ आ आ आ… ऊ ऊ ऊ ऊ…. सी सी सी सी… अह अह अह.. की सिसकियाँ लेने लगी | मैं उसकी चूत में ऐसे ही ऊँगली को जोर जोर से अन्दर बाहर कर रहा था | वो मस्त सेक्सी आवाजे कर रही थी | फिर मैंने अपने कपडे निकाल दिए और अपने लंड को उसके हाथ में पकड़ा दिया | वो मेरे लंड को हाथ में पकड कर मुंह में रख लिया और अन्दर बाहर करती हुई चूसने लगी | मैं अपने लंड को उसके मुंह में डाल कर ऐसे ही 4 मिनट तक चूसाता रहा | फिर मैंने अपने लंड को उसके मुंह से निकाल कर उसकी चूत में घुसा दिया | उसके मुंह से एक जोरदार चीख निकल गयी |
मैं उसकी चूत में लंड को घुसा कर जोरदार धक्को के साथ अन्दर बाहर करते हुए उसको चोदने लगा | वो मस्त सेक्सी आवाजे करती हुई चुद रही थी | मैं उसके दोनों बूब्स को अपने हाथो में पकड कर जोरदार धक्को के साथ अन्दर बाहर करते हुए चोद रहा था | वो सोफे को हाथ में पकड कर जोर जोर से आ आ आ… ऊ ऊ ऊ ऊ.. ई ई ई ई… सी सी सी सी… अ अ अ अ… की सिसकियाँ पर सिसकियाँ ले रही थी | मैं उसकी चूत में अपने 6 इंच के लंड को घुसा कर जोरदार धक्के मार रहा था | कुछ ही देर में मैंने धक्को की स्पीड इतनी तेज कर दी की धक्को की और उसकी सिसकियाँ की आवाज जोर जोर से आने लगी | वो मस्त होकर अपनी चूत को सहला रही थी | मैं उसकी चूत में जोरदार धक्को के अन्दर बाहर करते हुआ चोद रहा था | मैं उसकी चुत में ऐसे ही 14 मिनट तक जोरदार धक्के मारता रहा और फिर उसकी चूत से लंड को निकाल कर झड़ गया | उसके बाद मैंने अपने कपडे पहन लिए और उसने अपने कपडे पहन लिए | फिर हम दोनों बैठ कर एक दुसरे से कुछ देर तक बात करते रहे | मैं कुछ देर बात करने के बाद उसकी होठो पर किस की और अपने घर चला आया |
धन्यवाद…………..


error: