क्यूँ आई हो तुम


hindi sex stories

नमस्कार दोस्तों मेरा नाम अभिलाष है और मैं रायपुर का रहने वाला हूँ और अभी पुणे में काम करता हूँ | मेरे दो दोस्त है सूरज और जतिन | दोनों बड़े ही कमीने इंसान हैं जब देखो बस लड़की लड़की करते रहते है | दोस्तों आज मैं एक किस्सा बताने जा रहा हूँ जो हमारे साथ हुआ था जो बहुत मजेदार भी है | थोडा हम लोगो के बारे में भी बता दूँ तो हम तीनो एक आई.टी. कंपनी में काम करते है जहाँ हम तीनो बहुत बकचोदी करते है | अब आईये सीधा कहानी पर चलते है |

ये बात है चार महीने पहले की जब हमें दुसरे ऑफिस शिफ्ट किया गया था क्यूंकि हमारे ऑफिस में कुछ प्रोब्लेम्स थी | दुसरे ऑफिस छोटा सा था और उसके बाहर एक घर था जिसमें कोचिंग चलती थी | एक दिन हम तीनो काम कर रहे थे तभी एक लड़की निकली और हम तीनो की नज़र उस पर पड़ी | उसने काला सूट पहना हुआ था और दिखने में गज़ब की लग रही थी | हम तीनो दौड़ के दरवाज़े पर खड़े हो गए और उसको ताड़ने लगे | जब हमने उसे पास से देखा तो हम तीनो का दिल उस पर आ गया लेकिन बाद में हम तीनो में फैसला हुआ कि उसको पटायेगा तो केवल सूरज या जतिन में से कोई क्यूंकि मेरी पहले से ही एक गर्लफ्रेंड थी | तो मेरा चांस ख़त्म हो गया |

loading...

अगले दिन दोनों में शर्त लगी कि उसका नाम पता करना है तो पहले जतिन ने कहा पहले मैं जाऊंगा | तो हम तीनो फिराक में बैठे थे कब वो आयेगी और जतिन उसका नाम पता करेगा | थोड़ी देर बाद वो निकली और जतिन बाहर जाके खड़ा हुआ और सूरज से कहा मैं दरवाज़े पे खड़ा रहूँगा तू दरवाज़ा बाहर की तरफ खोलना जिससे में उससे टकरा जाऊंगा और फिर बात शुरू कर लूँगा | तो जतिन जाके बाहर दरवाज़े से टिक कर खड़ा हो गया और जैसे ही लड़की जतिन के सामने से निकली सूरज ने दरवाज़ा अन्दर की तरफ़ खोल दिया और जतिन अन्दर गिर गया | हम दोनों तो हँस ही रहे थे लेकिन उस लड़की ने भी जतिन की तरफ देखा और हँसते हुए चली गयी | अगले दिन सूरज की बारी थी उस चांस मारने की और वो पुरी तैयारी से बाहर खड़ा था | तभी वो बाहर निकली और गाड़ी पर अपनी दोस्त के साथ चली गयी | उस दिन मैं दोनों पर खूब हँस रहा था और उनके बहुत मज़े ले रहा था |

ऐसे हो दोनों उस पर चांस मारते रहते थे लेकिन उस हो नहीं पता था | एक दिन मेरी गर्लफ्रेंड का बर्थडे था और उनसे एक होटल में पार्टी रखी थी जहाँ पर मैं और उसके दोस्त आये थे | तभी मेरी नज़र उसी लड़की पर पड़ी | कसम से दोस्तों गज़ब की समान थी मतलब मेरी गर्लफ्रेंड तो कुछ नहीं थी उसके सामने | मैंने अपनी गर्लफ्रेंड से कहा अपने दोस्तों से तो मिलवाओ और वो एक एक करके सबसे मिलवाने लगी | उसने मुझे उस लड़की से भी मिलवाया और उसका नाम था श्रृष्टि | फिर पार्टी के बीच में मैंने उससे बात और पूछा तुम वहां कोचिंग जाती हो और तो उसने कहा हाँ मैंने देखा है आपको आप वहां काम करते है | ये बात सुनकर मुझे बहुत ख़ुशी हुई | मुझे लगा मेरा कुछ बन सकता है | अगले दिन हम तीनो अन्दर काम कर रहे थे तभी उसके आने का टाइम हुआ और मैं बाहर गया तभी वो भी बाहर आई और मैंने उसे हाँथ हिलाके हाय किया और उसने भी हाय किया | फिर वो मेरे पास आई बात करने लगी | हम दोनों बात कर रहे थे तभी मैंने अन्दर देखा तो दोनों मुझे कुत्ते की तरह घूर रहे थे |

फिर उससे बात करने के बाद मैं अकड़ कर अन्दर गया और बिना कुछ बोले अपना काम करने बैठ गया | तभी दोनों मेरे पास आये और मुझे पूछने लगे भाई ये सब कब हुआ ? तो मैंने उनको बताया की हम दोनों एक पार्क में मिले थे मैंने उसकी हेल्प की और मेरी उससे बात शुरू हो गयी और मुझे बस प्रोपोस मारने की देर है उसकी तरफ़ से तो हाँ है | दोनों मिलके मुझे मारने लगे बोलते हैं भोसड़ी के हमको एक नहीं मिल रही है और तू दो दो लेके घूम रहा है | तब फिर मैंने उनको असली बात बताई तब जाके मैं बच पाया | लेकिन मेरा मन बन चुका था कि उसको पटाना है | मैंने अगले दिन ही उसका नंबर ले लिया लेकिन दोनों को पता नहीं चलने दिया | मैंने दोनों से बोल दिया था कि मैं उससे अब बात नहीं करूँगा बस हाय हैलो की रहेगी और श्रृष्टि से बोल दिया था कि अपन ऑफिस के बाहर बात नहीं करेंगे वो दो लड़के बहुत ज्यादा ख़राब है | बस मेरा मामला सेट था |

मैं दिन में ज्यादातर उससे मोबाइल पर बात करता रहता था और उन दोनों को लगता था कि पहले वाली गर्लफ्रेंड से बात कर रहा हूँ | मैंने उसे प्रोपोस किया तो उसने कहा तुम्हारी तो गर्लफ्रेंड है ना तो मैंने कहा अरे नहीं यार वो तो सिर्फ फ्रेंड है मैं तो सिर्फ तुमसे प्यार करता हूँ और वो मान गयी | बस फिर क्या था मैं मन ही मन खुश हो रहा था | तभी एक दिन मेरा एक दोस्त मिला और बातों बातों में बात निकली तो उसने पूछा यार अभी कौन सी चला रहा है ? तो मैने उसको फोटो दिखाई | उसने अजीब सा चेहरा बनाया और कहा सच बता ये ? तो मैंने कहा हाँ क्यों ? तो उसने बताया ये पहले बहुतों से पट चुकी है 1000 लेती है एक बार का | मुझे थोडा अजीब लगा लेकिन मैंने भी तो उसे चोदने के लिए ही पटाया था |

मैं अगले दिन ऑफिस नहीं गया और श्रृष्टि को अपने रूम पर बुला लिया | वो आई और इतना शर्माने लगी जैसे बहुत भोली लड़की है लेकिन मैं तो अब उसके बारे में जान चुका था | तो मैंने उसका हाँथ पकड़ा और अपनी पास खींच लिया और उसकी कमर में हाँथ डालकर उससे कहा अब और मत तड़पाओ जानेमन और उसके गले पे किस करने लगा | पहले तो वो बोलती रही नहीं अभी नहीं लेकिन मैं चूमता रहा और फिर उसके होठों पर किस करने लगा और उसकी गांड दबा दी | बस लड़की गरम हो गयी और वो मुझसे जमके चिपक गयी और किस का मज़ा लेने लगी | फिर मैंने मोबाइल की रिकॉर्डिंग चालू की और एक जगह रख दिया और जाके उसके कपडे उतारने लगा | उसका फिगर कातिलाना था पतली कमर गोर गोर दूध और चूत में बाल भी नहीं थे जैसे चुदने के लिए ही साफ़ किये हो | मैंने उसके दूध चूसे और अपनी पैंट खोली और बिस्तर पर बैठ गया | वो घुटनों पर बैठी और मेरा लंड हिलाया और चूसने लगी | जिस तरह से वो मेरा लंड चूस रही थी मैं समझ गया था ये उच्च दर्जे की रंडी है | थोड़ी देर तक वो मेरा लंड चूसती रही और मज़े लेता रहा और फिर मेरा मुट्ठ उसके मुँह में निकल गया और उसने वो पी भी लिया |

फिर मैंने उसको बिस्तर पर लिटाया और उसके दूध चूसने लगा और थोड़ी देर दूध चूसने के बाद मैंने उसकी चूत चाटी और वो आह्ह्ह्हह्ह अह्ह्ह्हह्ह्ह्ह आआआअ आआआअ ह्ह्ह्हह अह्ह्हह्ह्ह्ह करती रही | मेरा लंड फिर से पूरी तरह खड़ा हो गया था तो मैंने अपने लंड पे कंडोम लगाया और उसकी चूत में डाल दिया | मैं धीरे धीरे उसे चोद रहा था और वो आह्ह्हह्ह अह्ह्ह्हह्ह ह्ह्हह्ह्ह्ह ह्ह्ह्हह्ह्ह्ह कर रही थी लेकिन बहुत धीरे धीरे | तो मैंने अपनी रफ़्तार बढ़ाई और जोर जोर के झटके मार मार के उसे चोदने लगा और फिर उसकी चीख निकलने लगी | फिर मैंने उसको घुमाया और उसकी गांड में लंड डाल दिया और चोदने लगा | उसकी गांड मस्त टाइट थी और उसे चोदने में भी मज़ा आ रहा था और वो जोर जोर से आह्ह्हह्ह्ह्ह अह्ह्हह्ह्ह्ह आआआअ आआआआअ ह्ह्ह्हह्ह्ह्ह हह्हह्ह्ह्हह आआआआअ चिल्ला रही थी | मैंने थोड़ी और देर तक उसको चोदा और मेरा माल झड़ गया और हम दोनों बिस्तर पर लेते थे | तो मैंने उससे पूछा क्या तुम सच में 1000 में मान जाती हो ? तो उसने मेरी तरफ देखा और कहा किसने कहा तुम्हें ? तो मैंने उसे सब बताया तो उसने कहा ज़रूरत थी |

अगले दिन मैंने दोनों को अपने चुदाई का विडियो दिखाया उनकी गांड जलाने के लिए | दोनों बहुत मायूस हो गए थे मेरे और श्रृष्टि के चुदाई का विडियो देखकर तो मैंने उनको एक खुशखबरी सुनाई कि वो लड़की 1000 में दे देती है | ये सुनकर दोनों के चेहरे खिल उठे और दोनों ने भी उससे बात की | पहले तो वो मान नहीं रही थी लेकिन जिस दिन मैंने उससे ब्रेकअप किया उसी दिन उसने जतिन को फ़ोन लगाया और कहा मैं तैयार हूँ और फिर सूरज और जतिन ने मिलकर उसे खूब चोदा | तो दोस्तों आशा करता हूँ आपको मेरी कहानी पसंद आई होगी |