कश्मीरी गर्लफ्रेंड को गांड चुदाई के लिए मनाया -2


girlfriend sex kahani, anal sex stories in hindi

 

हेल्लो दोस्तों, हैं फिर से हाजिर हूँ सेक्स कहानी लेकर जिसके पिछले भाग में मैंने आप लोगों को अपनी हॉट गर्लफ्रेंड के बारे में बताया था | अब आगे :

मैं खुश हो गया | अब मैंने उसको पीछे मोड़ दिया और उसकी गांड के निचे 2 तकिये लगा दिए | अब उसकी गांड का छेद मेरे सामने था | मैंने उस पर वो लुब्रिकेंट लगाया थोडा सा और फिर अपनी एक ऊँगली घुसेड़ी | उसे दर्द तो हुआ लेकिन वो झेल ले गयी | मैं थोडा सा गैप बना कर दूसरी ऊँगली भी डाल दी और अन्दर बाहर करने लगा | उसे काफी दर्द हो रहा था लेकिन वो मुझे सच में बहुत प्यार करती थी इसीलिए झेल ले गयी | अब मैं बोला – बेबी, जरा अपनी इसको ढीली छोड़ दो और थोडा सा कण्ट्रोल करना | एक बार पूरा घुस जाने देना उसके बाद भी तुम्हे सही न लगे तो मैं निकाल लूँगा | वो मान गयी | अब मैंने लुब्रिकेंट की आधी बोतल उसकी गांड के ऊपर उड़ेल दी अपना लंड उसपर टिका दिया | मुझे पता था की उसे बहुत दर्द होने वाला है इसीलिए मैंने उसको किस करना शुरू किया पीठ पर और लंड पर हलके से धक्का दिया | मेरा लंड पूरा खडा होने के बावजूद थोडा सा भी अन्दर नही घुसा | मैं समझ गया की अब काम ऐसे नही बनेगा | मैंने फिर से उसकी गांड में ऊँगली डाली और पूरी 2 उँगलियाँ अन्दर तक घुसेड दी | वो चीखने लगी | मैंने उसकी पीठ पर किस करना जारी रखा और उँगलियों को धीरे धीरे अन्दर बाहर करने लगा | वो जोर जोर से आह्ह्ह ह ह्ह्ह्हह ह्ह्ह ह ह्हूऊऊउ ऊ उ उ ऊ ऊऊ इ ई ईई इ इ ई ईई इ ई इ ईई इ इ ई ई ई ई ईई ई इ इ करने लगी | मैंने पोर्न मूवीज में देखा था की गांड को खोलने के लिए अगर चूत में भी ऊँगली की जाए तो लड़की को जोश आ जाता है वो वो दर्द झेल जाती है | मैंने वैसे ही किया | मैंने अब 2 उँगलियाँ उसकी गांड में और 2 उँगलियाँ उसकी चूत में घुसेड दी और अन्दर बाहर करने लगा |

थोड़े इंतजार के बाद आखिर मुझे लगा की हाँ, अब उसकी गांड थोडा खुल गयी है | मैंने अब फिर से लंड टिकाया और जोर का धक्का दिया | इस बार मेरे लंड का टोपा उसकी गांड के अन्दर घुस चूका था | वो दर्द झेल नही पायी और जोर जोर से रोने लगी | मैंने उसको कण्ट्रोल करने की कोशिश की लेकिन वो रोये ही जा रही थी | मैंने पीछे देखा तो उसकी गांड से खून आ रहा था | मैं समझ गया की ये क्यूँ रो रही है इतना | मैंने लंड उसकी गांड से निकाल लिया और बोला – बेबी, रो मत प्लीज | कुछ भी नही कर रहा मैं, पक्का | इतना कह कर मैंने उसको सामने की तरफ मोड़ कर अपनी बाँहों में ले लिया और किस करने लगा | वो अब भी रो रही थी | मैंने उसके आंसूं पोछे और बोला – प्लीज बेबी, रो मत न | नही कर रहा कुछ भी | काफी देर बाद उसने रोना बंद किया | कुछ भी हो, मुझे उसकी ख़ुशी अपनी फंतासी से ज्यादा प्यारी थी इसीलिए मैंने अपना लंड को शांत किया और उसको अपनी बाँहों में लेकर नंगे ही सो गया |

सुबह जल्दी ही मेरी नींद खुल गयी | मैंने उसको माथे पर किस किया तो वो भी उठ गयी और मुझे हग करके बोली – आई लव यू बेबी | मैंने आई लव यू टू बोला | फिर हम दोनों ने किस किया | वो अचानक से बोली – बेबी, चलो करते हैं | मैंने बोला – क्या ? वो बोली – वही जो रात में अधुरा रह गया था | मैं बोला – नही बेबी, तुम्हे इतना दर्द हुआ रात में.. अब मैं नही करूंगा | वो बोली – इट्स ओके बेबी, तुम मुझे इतना प्यार करते हो की मेरी ख़ुशी के लिए 2 साल पुरानी फंतासी को छोड़ दिया | क्या मैं तुम्हारी ख़ुशी के लिए थोडा सा दर्द भी नही झेल सकती ? मैं बोला – अरे ऐसा नही है बेबी, लेकिन आपको दर्द देना मुझे अच्छा नही लगता | वो बोली – अच्छा अगर मेरी ख़ुशी भी इसी में हो तब भी नही करोगे ? मैं बोला – बेबी, तुम्हारी ख़ुशी के लिए तो मैं कुछ भी कर सकता हूँ | वो बोली – तो बस, चलो करते हैं |

फिर हम दोनों ने किस करना शुरू कर दिया और बूब्स वगैरह दबाते हुए मैंने फिर से उसकी गांड में ऊँगली करना शुरू कर दिया | अब वो रात के मुकाबले कम सिसकियाँ ले रही थी | मुझे महसुस हुआ की शायद उसे कम दर्द हो रहा है | मैंने अब लंड पर वो लुब्रिकेंट लगाया और बाकी बचा सारा लुब्रिकेंट उसकी गांड पर लगा दिया | अब उसकी गांड पर अपने लंड को टिका कर मैंने एक धीरे का धक्का दिया | इस बार भी मेरे लंड का टोपा ही घुसा बस लेकिन उतना दर्द नही हुआ उसे जितना रात में हुआ था | शायद ये मेरे प्यार का असर था | अब मैंने उसकी गर्दन पर किस करते हुए दूसरा धक्का दिया | इस बार आधा लंड उसकी गांड में घुस चूका था | वो दर्द से कराहने लगी | मैंने बोला – बेबी, निकाल लूं क्या ? वो बोली – नही बेबी, मैं ठीक हूँ | थोड़ी देर मैंने ऐसे ही रखा और फिर एक और जोर का धक्का दिया और इस बार पूरा लंड उसकी गांड में घुसेड दिया | वो रोने लग पड़ी | मैंने लंड को निकालना शुरू किया तो उसने मेरा हाथ पकड़ कर रोते हुआ बोला – बेबी, निकालो मत, थोडा दर्द कुछ भी नही है |

इतना दर्द झेलने के बावजूद भी उसका ये कहना सुन कर मेरी आँखों में ख़ुशी के आंसूं आ गये | मैंने अपना लंड उसकी गांड में ही रखते हुआ कहा – बेबी, शादी करोगी मुझसे ? वो रोते हुए भी खुश हो गयी और बड़ी ख़ुशी से बोली – हाँ, जरुर बेबी | तुम्हे कभी खोना नही चाहती मैं | मैं बोला – बेबी, हम जल्दी ही शादी कर रहे हैं | वो खुश हो गयी | अब मैंने उसकी गर्दन पर किस करना शुरू किया और थोड़ी देर बाद अपने लंड को उसकी गांड में धीरे धीरे अन्दर बाहर करना शुरू कर दिया | उसे दर्द तो हो रहा था लेकिन मेरे इस शादी वाली बात से जो ख़ुशी उसे मिली थी उसके सामने वो दर्द शायद कम था | वो अपनी गांड को आराम से मुझसे चुदवा रही थी |

मैंने अब धक्के थोड़े तेज किये तो उसकी सिसकियाँ भी तेज हो गयीं और वो जोर जोर से आह्ह ह ह्ह्ह ह हह ह हह हह हह हह ह ह्ह्ह्हह ह हह हह ऊ ऊ उ ऊ ऊ ऊऊ उ ऊ ऊऊ उ उई ईई इ ईई इ ई इ ईई ईईई ईई ई ईईइ इओह हह ह ह करने लगी | मैंने थोड़ी देर बाद उसकी गांड से लंड निकाला और खुद लेटकर उसको मेरे ऊपर आने को कहा | वो मान गयी | अब वो मेरे ऊपर बैठ कर मेरे लंड को अपनी गांड में लेने लगी | लंड आसानी से जा नही रहा था तो मैंने अपने लंड को पकड़ा और उसकी गांड में ऊँगली करके फिर उस पर टिकाया और धक्के से अन्दर कर दिया | अब मेरा लंड उसकी गांड में पूरा घुस चूका था | अब वो मेरे लंड के ऊपर धीरे धीरे उछलने लगी थी | मुझे बहुत मजा आ रहा था | मैंने उसके बूब्स दबाने लगा और बीच बीच में उसको किस भी करने लगा |

करीब 15 मिनट तक ऐसे ही चुदाई के बाद मैंने उसकी कमर को पकड़ा और निचे से धक्के लगाने शुरू कर दिए | वो जोर जोर से आह हह ह हह हह हह ह हह हु ऊ ऊऊ ऊ ऊ उ ऊऊ उ उई इ ईई ई ई ईई इ ई इ ई इ ई ई इ ईई ई इ इ ओ हह ह्ह्ह हह ह हह ह हह ह्ह्ह ह हह करने लगी | लगभग 10 मिनट की और चुदाई के बाद मैं उसकी गांड में ही झड गया | हम दोनों ही थक चुके थे इसीलिए मैंने अब मुठ साफ़ किया और उसको बाँहों में लेकर सो गया | आज हम पति पत्नी हैं और घर वालों को बिना बताये शादी कर के दुसरे शहर में रहते हैं | चूत चुदाई के साथ साथ कभी कभी गांड चुदाई भी क्र लेते हैं हम लोग और अब उसे वो भी एन्जॉय करती है |

आशा है की आप लोगों को ये कहानी पसंद आई होगी | कहानी पढने के लिए धन्यवाद् दोस्तों |


error: