कच्ची कलि से बनी गुलाब का फूल


hindi sex kahani, antarvasna

नमस्कार दोस्तों, खुश इवनिंग ! कैसे हो आप सब ? मैं आशा करता हूँ कि आप सब भले चंगे होगे और चुदाई तो आहा आहा आह चुदाई का नाम सुनते ही मेरे मुंह और लंड से लार टपकने लगती है | खैर वो सब छोड़ो ये तो सभी के साथ ही ऐसा होता है | मेरा नाम सुबोजीत है और मैं हरियाणा का रहने वाला हूँ | मेरी उम्र 28 साल है और मैं अभी जॉब करता हूँ | मेरी हाईट 6 फुट है और मेरा बदन थोडा पतला है लेकिन मेरा लंड 8 इंच लम्बा और 3 इंच मोटा है | मेरा रंग काला है | दोस्तों मैं इस साईट का दैनिक पाठक हूँ और मुझे चुदाई की कहानियां पढना बहुत अच्छा लगता है | मैं रोज चुदाई की कहानियां पढता हूँ और मुट्ठ मारना बहुत अच्छा लगता  है | दोस्तों आज जो मैं आप लोगो के लिए कहानी लिखने जा रहा हूँ ये मेरी पहली कहानी है और मेरे जीवन की सच्ची घटना है | मैं आशा करता हूँ कि आप सब को मेरी कहानी जरुर अच्छी लगेगी और पढ़ कर बहुत मजा भी आएगा तो अब मैं आप लोगो का ज्यादा समय नहीं लूँगा और अपनी कहानी लिखना चालू करता हूँ |

ये घटना कुछ समय पहली की है | मेरे घर में मैं और मेरे मम्मी पापा बस रहते हैं  | मेरा कोई भाई या बहन नहीं है | दोस्तों ये बहुत पहली की बात है उस समय ट्विंकल स्कूल में पढाई करती थी और मैं कॉलेज में पढाई करता था | वो मेरे घर के पास ही रहती है तो हमारा और उनका घर जैसा ही चलता था | मेरे पापा और उसके पापा दोनों बचपन के दोस्त थे तो हम कभी भी एक दूसरे के घर आ जा सकते थे | यही एक मौका था जिसने हम दोनों को प्यार के बंधन में बाँध दिया | उस कच्ची कलि को क्या मालूम था कि वो आगे चल कर बड़ा और मोटा लंड लेने के लायक हो जाईगी \ जब वो बालिग हो गई तब मैंने उसके निम्बू जितने दूध को दबाया करता था और उसक गुलाबी होंठ के रस को पिया करता था | मैं उसके और बड़े होने का वेट कर रहा था क्यूंकि वो जब बड़ी हो जायगी और मेरा लंड सहन करने लायक हो जाएगी तब ही मैं उसको चोदूंगा | फिर दिन उसने जिद करना शुरू कर दी कि मुझे चोदो मुझे चुदाई चाहिए | मेरी दोस्त लोग अपने बॉयफ्रेंड से चुद्वाती हैं और मेरी खूब खिल्ली उडाती हैं | फिर एक दिन मैंने सही मौका देख कर उसकी चूत को चोद कर खून निकाल दिया | उसके काफी दिनों तक दर्द रहा था लेकिन वो सब सहन कर गई | फिर क्या हमे जब भी मौका मिलता तो हम चुदाई कर लिया करते थे | लेकिन हमे तीन से साल से चुदाई नहीं मिल पा रही थी और हम दोनों ही चुदाई के लिए बहुत तड़प रहे थे | वो मुझसे रूठ चुकी थी क्यूंकि मैंने उसे तीन साल से नहीं चोदा था | फिर एक दिन मैंने उससे कहा कि तुम चिंता मत करो | मैं कुछ जुगाड़ करता हूँ |

फिर एक दिन मैंने उसे खुश खबरी सुनाया कि मैंने अपने दोस्त से रूम मांग लिया हूँ और तुम बताओ तुम कब फ्री हो पाओगी | तो उसने कहा कि अगले शनिवार को मैं एक दम फ्री रहूंगी और तुम्हे खूब चुदुंगी और अपनी गांड भी चुदवाउंगी | फिर शनिवार के दिन मैं उसे अपने दोस्त के रूम ले गया और उसका हाँथ पकड़ा और सीधा उसे अपने सीने से लगा लिया | वो मेरी बांहों में ऐसे लिपट गई और मेरी पीठ को सहलाने लगी और मैं भी उसकी पीठ को सहलाने लगा | उसके बाद मैंने अपने होंठ उसके होंठ से लगा दिया और उसके होंठ को चूसने लगा तो वो भी मेरा साथ देते हुए मेरे होंठ को चूसने लगी | मैं उसके होंठ को चूसते हुए उसके दूध को मसल रहा था और वो मेरे होंठ को चूसते हुए मेरे लंड को जीन्स के ऊपर से ही सहला रही थी | हम दोनों ने लगभग एक दूसरे को 15 मिनट तक किस किये | उसके बाद मैंने उसके टॉप को निकाल दिया और उसके ब्रा के उपर से ही उसके दूध को दबाने लगा तो उसको मजा आने लगी और उसके मुंह से आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह की सिस्कारियां निकलने लगी | फिर मैंने उसके ब्रा को ऊपर खिसका कर उतार दिया और उसके एक दूध को अपने मुंह में ले कर चूसने लगा और वो आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह करते हुए सिस्कारियां लेने लगी | फिर मैंने उसके दूसरे दूध को अपने मुंह में ले कर चूसने लगा और वो आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह करते हुए मेरे सिर पर हाँथ फेर कर सहलाने लगी |  उसके बाद मैंने उसके दोनों दूध को अपने मुंह में ले कर चूसने लगा मसलते हुए और वो आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह करते हुए बस आन्हे भर रही थी | फिर मैंने उसकी जीन्स को उतार दिया और फिर पेंटी भी उतार कर नीचे लेटा दिया और उसके पैरो को फैला कर उसकी चूत पर जीभ से सहलाते हुए चाटने लगा और वो आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह करते हुए मचलने लगी | मैं उसकी चूत को चाटते हुए उसकी चूत को ऊँगली से भी चोद रहा था और वो आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह करते हुए मेरे मुंह को अपनी चूत पर दबाने लगी |

फिर मैंने उके दोनों पैरो को फोल्ड कर के ऊपर कर दिया और उसकी गांड के छेड़ को भी चाटने लगा और वो आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह करते हुए अपने दूध को मसल रही थी | फिर मैंने अपने शर्ट और जीन्स को उतार दिया और उसने मेरे अंडरवियर को फाड़ कर मुझे नंगा कर के मेरे लंड को अपने हाँथ में ले कर हिलाने लगी | जब लंड तन के खड़ा हो गया तो वो अपनी जीभ से मेरे लंड को चाट कर गीला करने लगी तो मेरे मुंह से भी आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह की आवाज़ निकलने लगी | वो मेरे हर तरफ से गीला कर के चाट रही थी और मैं आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह की सिस्कारियां भर रहा था | जब मेरा लंड अच्छे से गीला हो गया तो उसने उसे अपने मुंह में भर कर चूसने लगी और मैं आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह करते हुए उसके निप्पलस को मसलने लगा | वो मेरे लंड को जोर से ऊपर नीचे करते हुए चूसने लगी और मैं आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह करते हुए सिस्कारियां ले रहा था | उसके बाद उसने मेरे दोनों कंचो को हाँथ में लेकर सहलाया और फिर उसको भी चूसने लगी | फिर मैंने अपने लंड को उसकी चूत में सेट किया और अन्दर डाल कर चोदने लगा और वो आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह करते हुए जोर जोर से सिस्कारियां लेने लगी | थोड़ी देर के बाद मैंने अपनी चुदाई की स्पीड तेज कर दिया और उसके दोनों दूध को दबाते हुए चोदने लगा और वो आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्हकरते हुए उछाल उछाल कर चुदवा रही थी \ फिर मैंने उसे घोड़ी बना दिया और उसके पीछे से मैंने अपने लंड को उसकी चूत में डाल दिया और उसकी कमर पकड़ कर चोदने लगा और वो आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह करते हुए अपनी गांड आगे पीछे करते हुए चुदवा रही थी | फिर मैंने अपने लंड को उसकी चूत से निकाल कर उसकी गांड में डाल दिया और उसकी गांड को चोदने लगा और वो आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह करते हुए अपनी गांड चुदवा रही थी | मैं जोर जोर से उसकी गांड को चोद रहा था और वो आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह करते हुए मजे ले रही थी | आधे घंटे की लगातार चुदाई के बाद मैंने अपना माल उसकी गांड के अन्दर ही छोड़ दिया |


error: