जिन्दगी किसी के काम आई


हैल्लो दोस्तों, आज में आपके सामने एक ऐसी कहानी लेकर आया हूँ जो आपको बहुत पसंद आयेगी। मुझे फेसबुक से राधिका शर्मा ने संपर्क किया। वो शादीशुदा थी और उम्र करीब 32 साल होगी। हम सब तरह की बातें करते थे। उन्होंने अपनी उम्र 32 साल बताई और मेरे पूछने पर उन्होंने अपना फिगर 34-32-36 साईज बताया था और उनकी हाईट 5 फुट 5 इंच थी। अब हमें बातें करते हुए 10-12 दिन हुए होंगे कि एक दिन वो बड़ी उदास थी और ठीक से बातें नहीं कर रही थी। फिर मैंने पूछा कि क्या हुआ? तो उन्होंने कहा कुछ नहीं।

में – कुछ तो हुआ है राधिका, आप उदास लग रही हो।

राधिका – नहीं, में ठीक हूँ।

loading...

में – लगता है आप मुझे अपना नहीं समझती हो, इतना घुलने मिलने के बाद भी आप मुझसे बातें छुपाती है।

राधिका – नहीं जय, ऐसी बात नहीं है।

में – फिर क्या बात है? प्लीज बताओ ना।

राधिका – आज मेरी मेरे पति से लड़ाई हो गयी, तो उन्होंने मुझे बहुत गालियाँ दी।

में – ओह, उन्होंने ऐसा क्यों किया? आपसे क्या ग़लती हो गयी?

राधिका – पता नहीं जय, वो किसी का भी गुस्सा किसी पर भी उतार देते है, ऑफिस में लड़ कर आए होंगे और मुझ पर बरस पड़े।

में – उन्हें ऐसा नहीं करना चाहिए था।

राधिका – मेरी सास भी उन्हें भड़काती रहती है।

में – आपकी सास को आपका काम पसंद नहीं आता क्या?

राधिका – नहीं, बात वो नहीं है।

में – फिर क्या बात है राधिका?

राधिका – छोड़ो रहने दो।

में – नहीं आप बताओ।

राधिका – मेरे कोई बेबी नहीं है तो इसलिए मेरी सास ताने मारती है।

में – ओह्ह, तो आपने किसी डॉक्टर को नहीं दिखाया।

राधिका – बहुत से डॉक्टर को दिखाया, सबने कहा कि में माँ बन सकती हूँ।

में – तो फिर।

राधिका – मेरे पति में कमी है, लेकिन मैंने उन्हें कभी बताया नहीं और सब अपने ऊपर ले लिया कि मेरे में ही कमी है।

में – राधिका जी, आपने ऐसा क्यों किया?

राधिका – में अपने पति से बहुत प्यार करती हूँ और में उनका दिल नहीं दुखाना चाहती हूँ, चाहे मुझे ज़िंदगीभर ही गालियाँ क्यों ना सुननी पड़े?

में – यू आर ग्रेट राधिका जी, काश आप जैसी वाईफ मुझे भी मिले, आजकल इस ज़माने में आप जैसी प्यार करने वाली वाईफ कहाँ मिलती है?

राधिका – आप बिना मतलब मेरी तारीफ कर रहे है।

में – नहीं राधिका जी, ये बात में दिल से कह रहा हूँ।

राधिका – थैंक यू जय।

में – राधिका जी, आप दिल छोटा मत करो भगवान ने चाहा तो आपके आँगन में भी किलकारियाँ गूंजेगी।

राधिका – थैंक यू जय, में भी ऐसा ही चाहती हूँ।

फिर उस दिन के बाद हम और नज़दीक आ गये और एक दूसरे से ज्यादा खुल गये। फिर मैंने एक दिन राधिका जी से मिलने को कहा, तो उन्होंने मना कर दिया और मैंने पूछा तो उन्होंने कहा कि मुझे डर लगता है कहीं तुम और लोगों की तरह ना निकलो। मैंने उनसे कहा कि हम पब्लिक प्लेस में मिलेगें और अगर में आपको पसंद नहीं आया तो में आपसे कभी मिलने को नहीं कहूँगा और आपकी ज़िंदगी से दूर चला जाऊंगा। फिर वो मेरी बात मान गयी और हमने रविवार को CP (दिल्ली) KFC में 12 बजे मिलने का प्लान बनाया। फिर मैंने राधिका से पूछा कि में आपको पहचानूँगा कैसे? तो उन्होंने कहा कि वो ब्लू कलर का सूट पहन कर आयेगी तो मैंने भी कहा कि में भी ब्लू कलर की शर्ट और जीन्स पहन कर आऊंगा। अब में राधिका से मिलने के लिए बहुत उतावला हो रहा था और फिर रविवार आ गया। अब में 11 बजे अपने घर से CP के लिए निकल गया और 11:55 पर CP पहुँच गया और CP में गया। तो अब मेरी निगाहें हर रंग को छोड़कर सिर्फ़ नीले रंग को ढूँढ रही थी। फिर मेरी नज़र एक कोने की टेबल पर जाकर रुक गयी, वहाँ ब्लू कलर के सूट में एक बहुत ही खूबसूरत लेडी बैठी थी और वो अपने मोबाईल पर कुछ लिख रही थी। तभी मेरे फोन पर मैसेज आया कहाँ हो आप? तो फिर में टेबल के पास गया और उन्हें कहा कि में आपके सामने ही तो हूँ।

(TBC)…