जय हो लंड देवता चुदाई सिखा दी


hindi porn kahani, desi sex stories,antarvasna

मैं मेरठ के कॉलेज में पढ़ता हूं। वहां से मैं इंजीनियरिंग कर रहा हूं। मेरा नाम विजय है। मैं मेरठ का ही रहने वाला हूं। मेरी उम्र 22 साल है। मुझे पहले से ही इंजीनियर बनना था तो इसलिए मैंने यहां पर एडमिशन लिया क्योंकि वह कॉलेज काफी अच्छा कॉलेज है। यहां से प्लेसमेंट भी हो जाती है। इस वजह से मैंने यहीं पर एडमिशन लिया और मेरे घर वाले भी चाहते थे कि मेरा एडमिशन इसी कॉलेज में हो। मैंने यहां का एंट्रेंस एग्जाम दिया था। जिसमें मैं निकल गया और मैंने यहां पर एडमिशन ले लिया। अब जब मैं यहां एडमिशन ले चुका था तो मैं यहां कॉलेज में नया-नया आया था।

कॉलेज में मेरे कुछ लड़कों से दोस्ती हो गई। जो कि मेरठ के ही रहने वाले थे। तो वह यही कहता है कि यह कॉलेज काफी अच्छा है। हमारा एडमिशन यहां पर हो गया है फिर कुछ दिन कॉलेज में इंट्रोडक्शन ही चला। उसके बाद हमारी पढ़ाई शुरू हुई। जब हमारी कॉलेज की पढ़ाई शुरू हुई।  हमारे सारे टीचर एक एक करके आते गए। हमें अपना इंट्रोडक्शन देते हुए पढ़ाई करवाते रहें। मेरी पढ़ाई अच्छे से चल रही थी। मैं हमेशा क्लास जा रहा था। हमारे कॉलेज में एक रूल था कि यदि कोई कॉलेज नहीं आता है तो उसे घर पर नोटिस भेज दिया जाता था। जिससे सारे लड़के कॉलेज हमेशा आते थे। कोई भी बंक नहीं मारता था। यह कॉलेज के लिए काफी अच्छी बात थी। कॉलेज में हंड्रेड परसेंट रिजल्ट ही रहता था सबका।

loading...

हमारे कॉलेज में एक मैडम थी उनका नाम माधुरी था। वह काफी अच्छी थी और सबको अच्छे से पढ़ाती थी लेकिन मैं उनकी बड़ी बड़ी गांड को देखा करता था। जब वह साड़ी पहन कर आती थी। उनकी गांड साफ साफ दिखाई देती थी। मैं उनकी तरफ सेक्स को लेकर काफी अट्रैक्ट होता रहता था। जब वह मेरे पास आती तो उनकी गांड मेरे से टच हो जाती  तो मेरा मन करता कि मैं इनको यहीं पर लेटा कर चोद दूं लेकिन वह मेरी टीचर थी इसलिए मैं ऐसा नहीं कर सकता था। जिस दिन वह सूट पहन कर आ जाती तो भी उनकी गांड साफ साफ दिखाई देती थी। सारे लड़के यही बात करते रहते थे कि माधुरी मैडम की बड़ी अच्छी गांड है। सब लड़के सोचते रहते थे कि गांड मारने का मौका मिल जाए तो हम एक बार भी नहीं छोड़ेंगे। मैंने ठान लिया था कि मैं मैडम की गांड को मार कर ही रहूंगा चाहे इसके लिए कुछ भी करना पडे। मैंने मैडम का फोन नंबर कहीं से ले लिया। उन्हें फोन पर पहले तो मैसेज किया करता था। पहले तो काफी टाइम तक उनका कोई रिप्लाई नहीं आया। लेकिन एक टाइम बाद उनका रिप्लाई आया और उन्होंने मुझसे पूछा कौन बोल रहा है। मैंने उन्हें अपना गलत नाम बता दिया। फिर हमारी बातें बढ़ने लगी। वह मुझसे बातें करने लगी थी फोन पर मैं शाम को घर जाता मैं फोन करता वह भी काफी बातें करने लगी थी।

मुझे मालूम पड़ा कि उनके पति उनसे प्यार नहीं करते हैं। मैंने उसका फायदा उठाते हुए। उन्हें यह दिखाने की कोशिश की कि मैं उनसे प्यार करता हूं। वह मेरी तरफ अट्रैक्ट हो गई लेकिन वह मुझे मिली नहीं थी। हमारी सिर्फ फोन पर ही बात होती थी। तो मैंने फोन में पूछ लेता था। आपका फिगर क्या है अपना फिगर बताया मैंने उन्हें कहा कि आपकी गांड का साइज़ तो बहुत बड़ा है। वह कहने लगी बस  मेरे पति ने मेरी गांड बहुत मारी है। इस वजह से मेरी गांड थोड़ा उठ गई है। मैंने कहा तब तो बहुत अच्छी बात है। मुझे भी अपनी गांड मारने दोगी। वह कहती हां जब मिलोगे तो कर लेना लेकिन मैं उनसे मिलने से डरता रहता था। मुझे यह था कि कहीं पता चल गया और उन्होने मेरे घर पर बता दिया तो मुझे कॉलेज से निकाल दिया जाएगा। इस वजह से मैं डर रहा था लेकिन ऐसा कुछ नहीं था।

एक दिन रात को हम दोनों काफी अश्लील बातें कर रहे थे। मैंने उनसे बात करते-करते मुट्ठ मार दिया। अब मुझसे भी रहा नहीं जा रहा था। मैं सोच ही रहा था कि मैं उनसे कैसे मिलूं लेकिन मुझे मिलना तो था ही तो मैंने भी सोच लिया कि मैं उनसे मिलने के लिए जाता हूं।

मैं एक दिन उनके ऑफिस में गया और कहने लगा मैडम फोन में आपको करता हूं। उसके लिए मैं आपको सॉरी बोलना चाहता हूं। माधुरी मैडम कहने लगी यार इसमें सॉरी बोलने की बात नहीं है। कोई बात नहीं ऐसा होता रहता है। जवानी की जोश में लेकिन मै नहीं छोड़ना चाहता था। मैंने उन्हें कहा कि मुझे वाकई में आपकी गांड बहुत प्यारी लगती है तो वह कहने लगी ठीक है।

तुम एक काम करना जब कॉलेज छूट जाता है। उसके बाद मुझे कॉलेज के पीछे झाड़ियों में मिलना मैं समझ गया था कि इनका भी मन हो गया है। मेरे लंड से अपनी गांड मरवाने का जैसे ही कॉलेज खत्म हुआ। तो मैं वही पर रुक गया और कॉलेज के पीछे झाड़ियों में चला गया। जैसे मैं झांडी में गया मैंने देखा वहां पर मैडम खड़ी हो रखी है। मैडम ने मुझे कहा जल्दी से करो नहीं तो कोई आ जाएगा या किसी को मालूम पड़ जाएगा। मेरी बदनामी हो जाएगी मैंने कहा मैडम मैं जल्दी-जल्दी कर लूंगा। ज्यादा टाइम नहीं लूंगा। उसके बाद उन्होंने अपनी साड़ी उठाई और मैंने उनकी बड़ी सी गांड को पहले चाटना शुरु किया। जैसे जैसे मैं चाट रहा था उन्हें अच्छा लग रहा था। फिर मैंने उनकी गांड के छेद में जीभ लगाकर पूरा गीला कर दिया। मैंने आपने लंड को भी थूक से गीला कर लिया और उनकी गांड में घुसेड़ दिया। जैसे ही मैंने लंड को छेद मे डाला तो उन्हें काफी अच्छा लगा और वह कहने लगी तुम्हारा तो बहुत मोटा है। मुझे अच्छा लगा मैंने बड़ी तेजी में किया और मेरा वीर्य गिर गया उनकी गांड में जैसे ही मेरा वीर्य गिरा। वो समझ गई और कहने लगी मुझे कुछ गरम गरम लग रहा है। मैंने कहा मैडम मेरा गिर चुका है। उन्होंने कहा आज तो चलते हैं। लेकिन तुम एक काम करना कल मेरे घर पर आ जाना। मेरे पति घर पर नहीं होंगे। मैंने उन्हें कहा ठीक है कल मैं आपके घर पर आ जाऊंगा।

अगले दिन मै उनके घर पर गया तो मैंने देखा कि वह एक लंबे से गाऊन में थी। वह बहुत ही सेक्सी लग रही थी। उनकी बड़ी बड़ी गांड उनके गाऊन से साफ झलक रही थी। उन्होंने जाते ही मेरा लंड पकड़ लिया और मै उनके स्तनों को चूसने लगा जैसे ही मैने उनके बड़े बड़े स्तनों का रसपान कर रहा था। उन्हें अच्छा लग रहा था। उनके स्तन पर एक तिल भी था। जिसको देखकर मैं काफी मोहित हो रहा था। मुझे अच्छा लग रहा था। मैं उनके निप्पल को अपने मुंह में लेता और फिर बाहर निकालता। अब उन्हें अच्छा लगने लगा था। मैंने अपने लंड के योनि में डालना शुरू किया। जैसे-जैसे मेरा लंड जाता उनका गीला हो गया। मैंने कम से कम 200 झटके मारे जिससे मेरा वीर्य पतन हो गया। लेकिन उनकी योनि अभी भी टाइट थी जिसमें उन्हें काफी अच्छा लगा और उन्होंने मुझे कहा दोबारा तुम ऐसा ही करो दोबारा से मैने उनकी योनि में अपना लंड डाला और धक्का मारना शुरू किया।

इस बार वह काफी जोरो से चिल्ला रही थी और उन्होंने मेरे पैर को अपने पैरों से जकड़ लिया था। मैं तेज तेज धक्के मारते जाता और वह चिल्लाती जाती। ऐसा करते-करते मेरा दोबारा से वीर्य पतन हो गया। मैंने इस  बार उनकी योनि में गिरा दिया। मैंने उन्हें कहा मुझे तो सिर्फ आपकी गांड पसंद है। मुझे तो वही मारनी है उन्होंने मेरे लंड को अपने मुंह में लिया। उसके बाद उन्होंने सरसों का तेल मेरे लंड पर अपने हाथों से लगाया और थोड़ा सा अपने हाथों से अपनी गांड के छेद पर मलने लगी। जैसे ही वह बोल रही थी मैंने उनके हाथों से तेल लिया और उनकी अपनी उंगली से उनकी गांड के अंदर डाल दिया। जिससे कि लंड डालने में आसानी हो। मैंने अपने लंड को गांड के छेद में डाला और उनकी बड़ी गांड को पकड़ना शुरू किया। जैसे जैसे में धक्का मारता जाता मुझे अच्छा लगता। मैडम अपनी गांड को पीछे की तरफ कर कर मेरे लंड से सटा देती थी और दोबारा से मुझे कहती दोबारा मेरी गांड मारो 10 मिनट तक ऐसा करते हुए मेरे लंड से माल निकलने लगा। इस बार मैंने उनकी गांड में माल डाल दिया और जैसे ही मैंने बाहर निकाला तो उनकी गांड से मेरा वीर्य टपक रहा था। उन्हें काफी अच्छा लग रहा था।