जय हो लंड देवता चुदाई सिखा दी


hindi porn kahani, desi sex stories,antarvasna

हैलो दोस्तों मेरा नाम सौरभ है और मैं रांची का रहने वाला एक शरीफ सा मादरचोद लड़का हूँ | मेरे घर में मेरे मम्मी पापा और एक छोटा भाई है | मेरी मम्मी हाउसवाइफ है, छोटा भाई स्कूल में पढ़ता है और पापा बिल्डर है | हमारे घर में पैसे की कमी नहीं और जिससे मेरी अईयाशी में भी कोई कमी नहीं होती | मैं आये दिन नई नई लड़कियाँ पटाता हूँ और उनको चोदता हूँ | अब मेरे पास पैसा है तो दिखता भी है इसलिए बहुत सी लड़कियाँ मेरे पास खुद आती है पटने के लिए और मेरा दिल तो बहुत बड़ा है वैसे बड़ा तो और कुछ भी | चलिए मैं आपको अपनी एक दो कहानियां बताता हूँ जिसको पढ़के आपको मज़ा और प्रेरणा दोनों मिलेगी |

तो अभी मैं कॉलेज में हूँ और ये मेरा आखिरी साल है, लेकिन पिछले तीन सालों में मैंने बहुत कांड किये है | पहले सेमेस्टर की ही बात है हमारी लैब थी और मैं लैब जा रहा था | जैसे ही मैं लैब पहुंचा और बैग रखने लगा तो मेरी नज़र सामने बैठी लड़की पर पड़ी | वो मेरे क्लास की ही थी लेकिन कभी हमारी बात नहीं हुई थी | मैंने बैग से कॉपी निकाली और जैसे ही उसके पास से गुज़रने को हुआ तो उसने कुर्सी खिसका दी मेरे बैठने के लिए | फिर मैं अपने के पास न जाके उसके पास ही बैठ गया और उससे बात करने लगा | हम फॉर्मल हाय हैलो से बात शुरू की और फिर नाम पूछा, उसका नाम वर्षा था और वो बहुत क्यूट लगती थी | उसकी हाइट भले ही कम थी लेकिन दिखती बहुत प्यारी थी | फिर उसने मुझसे पूछा तुम कहाँ रहते हो ? तो मैंने उसे बताया और फिर उसने मुझे अपना घर बताया | वो यहाँ हॉस्टल में रहती थी लेकिन उसको वहां प्रॉब्लम थी इसलिए उसको एक नया रूम चाहिए था | मैंने भी दोस्तों से जुगाड़ लगाई और उसको एक मस्त रूम दिलवा दिया | तब तक तो हम अच्छे दोस्त बन चुके थे और जिस दिन उसने रूम शिफ्ट किया तो उस दिन मुझे प्रोपोस भी कर दिया | अब भाई मैं मना कैसे कर सकता था ? एक तो लड़की क्यूट और ऊपर से रूम में अकेले रहने वाली, ऐसा मौका कौन छोड़ना चाहेगा |

loading...

हम दोनों क्लास में साथ नहीं बैठते थे क्यूंकि मैं दोस्तों के साथ बैठके मुँहचोदी करता रहता था | इसलिए मुझे उसके साथ कॉलेज के बाद दो तीन घंटे उसके साथ रूम में गुज़ारने पड़ते थे | लगभग दो हफ्ते बीत चुके थे और हमने किस भी नहीं किया था लेकिन उस दिन हम दोनों बैठे के मूवी देख रहे थे और मूवी में आया सैक्स सीन | बस मैंने मूवी बंद कर दी, तो उसने कहा अरे चालू करो न, तो मैंने कहा नहीं पहले एक किस दो तभी | उसने कहा नहीं तो मैंने कहा ठीक है मत देखो मूवी मेरा क्या है | तो उसने मुझे जल्दी से गाल पे किस कर दिया | तो मैंने कहा ये नहीं तो वो भी शरमाते हुए मेरे करीब आई और कहा आखें बंद करो | तो मैंने आँखें बंद की और उसके बाद किस करने लगे | किस करने के बाद मैंने उसको पकड़ा और बिस्तर पर लिटा दिया और उसके ऊपर लेट गया और किस करने लगा | किस करते करते मैंने उसकी टी-शर्ट उठा दी और उसके दूध दबाने लगा | वो मुझे रोकते हुए कहने लगी नहीं सौरभ ये सही समय नहीं है, तो मैंने कहा नहीं बेबी यही समय है और फिर उसका ब्रा भी ऊपर करके उसके दूध चूसने लगा | दूध चूसने के बाद मैंने उसके शॉर्ट्स उतारे और देखा कि उसने पैंटी भी नहीं पहनी थी | उसकी चूत पर हलके हलके बाल थे और उसकी चूत थोड़ी थोड़ी काली भी थी |

मैंने फिर अपनी पैंट उतारी और उसके बाद अपने लंड के ऊपर थूक लगाया और उसकी चूत में डाल दिया | पहले मेरा लंड ठीक से अन्दर नहीं गया लेकिन जितना भी गया, मैं उतने से ही उसको चोदता रहा और वो अह्ह्ह अह्ह्ह अह्ह्ह ह्ह्ह अह्ह्ह हाह्ह अहा आआ अह अह्ह हाहा अह करती रही | उसकी चूत बहुत टाइट थी लेकिन फिर भी चुदाई के वक़्त खून नहीं निकला | थोड़ी देर उसको चोदने के बाद जैसे ही मेरा माल निकलने को हुआ तो मैंने लंड बहर निकाल दिया और उसके ऊपर लेट गया | मुट्ठ वहीँ चद्दर पर गिर गया और मैं उसके ऊपर लेटा रहा | थोड़ी देर बाद हमने किस की और उसके बाद मैं वापस चला गया | दूसरे सेमेस्टर में वर्षा फेल हो गई और उसने कॉलेज छोड़ दिया और अपने घर चली गई |

मेरी क्लास में एक और लड़की थी जिसका नाम यशी था और वो रंडी थी | सब जानते थे कि वो रंडी है और ऐसी लड़की तो हर क्लास में होती है जो शकल से ठीक ठाक होती है लेकिन उसके दूध और गांड बहुत मस्त होते है | अब सबको पता था कि मैं रहीस हूँ इसलिए वो मेरे पास पैसे उधार लेने के लिए और मैंने दे दिए | मैंने उसको 6000 दिए थे और उसने मुझे टाइम पे पैसे नहीं दिए और मुझे बहुत दिन तक लटका के रखा | एक दिन मुझे गुस्सा आई तो मैंने उससे कहा तू या तो पैसा दे या फिर और कुछ दे | तो उसने मुझसे कहा अरे मेरे पास देने के लिए कुछ नहीं है, तो मैंने कहा क्या बात कर रही हो और उसकी कमर पे हाँथ रखकर कहा तुम तो बहुत कुछ दे सकती हो | उसने कहा क्या मतलब ? तो मैंने कहा अरे पैसे मत देना बस जब मैं बुलाऊं आके मुझे खुश कर देना और मैं और पैसे भी दूंगा, बोलो क्या बोलती हो | अब वो मुझे मर तो सकती नहीं थी क्यूंकि पहले से उधार था और मुझसे चुदने के उसको और पैसे भी मिलते, तो उसने भी सही दावं खेला और मान गई | अब मैंने भी वही रूम किराये से ले लिया जिसमें वर्षा रहती थी | दो दिन बाद मैं उसको लेकर उस रूम में गया | जैसे ही हम अन्दर गए उसने कहा कहाँ लगा है कैमरा ? तो मैंने कहा मुझे एन्जॉय करने का शौक है रिकॉर्ड करने का नहीं | तो उसने कहा मैं कैसे भरोसा करूँ ? तो मैंने कहा ठीक है जाओ हर रूम में और एक एक कोना चेक करो और अगर कुछ मिल जाये तो मैं तुम्हें हाँथ भी नहीं लगाऊंगा और तुम्हें अलग से पैसे भी दूंगा |

वो जाके जगह की तलाशी लेने लगी और मैं भी उसके पीछे पीछे घूमता रहा | उसको कुछ नहीं मिला और फिर मैं उसको पलंग के पास लेके गया और कहा हो गई तसल्ली अब झेल | मैंने उसका टॉप उतारा और जीन्स और ब्रा और पैंटी फाड़ दी | उसने कहा ये क्या कर रहे हो ? तो मैंने कहा चुप साली | फिर मैंने उसको पीछे से ज़ोर से पकड़ा और उसके दूध ज़ोर ज़ोर से दबाने लगा | मैं ज़ोर ज़ोर से उसके दूध दबाता रहा और वो ज़ोर ज़ोर से सांसें लेती रही | उसके बाद मैंने उसको बिस्तर पर धक्का दिया और अपने कपड़े उतारने लगा | जब मैं अपने कपड़े उतार रहा था तो वो मुझे देखकर अपनी चूत रगड़ रही थी | मैंने उसको अपनी तरफ खींचा और उसके मुँह में लंड डाल दिया और उसके मुँह को ही चोदने लगा | उसके बाद मैंने लंड निकाला और उसकी चूत में डाल दिया और उसको चोदने लगा और वो अहह अह्ह्ह अह्ह्ह अहह अह्ह्ह आआअ अह्ह्ह ह्ह्ह अह्ह्ह्ह य्ह्ह्ह यहह याआआअ य्ह्ह्ह य्ह्ह्ह य्ह्हाआअ करती रही | मैं ज़ोर ज़ोर से उसको चोद रहा था वो भी उसकी कमर पकड़ के और उसकी चीख़ निकाले पड़ा था | फिर मैंने लंड बाहर निकाला तो उसने कहा हो गया, तो मैंने मुस्कुराया और कहा इतनी जल्दी क्या है ? अभी तो मैंने स्टार्ट किया है और फिर उसकी गांड में लंड डालने लग गया |

जैसे ही मैंने उसकी गांड में लंड डाला, उसके मुँह से एक ज़ोरदार चीख़ निकली | फिर मैंने धीरे धीरे उसकी गांड मारना शुरू किया और वो चीखती रही | थोड़ी देर बाद मैंने ज़ोर ज़ोर के झटके मारकर उसकी गांड मारना शुरू कर दिया और वो पहले से ज्यादा ज़ोर से चिल्लाने लगी और कहने लगी नहीं मत करो प्लीज़ लेकिन मैं फिर भी लगा रहा | थोड़ी देर उसकी गांड मारने के बाद मैंने उसके दूध के ऊपर मुट्ठ गिरा दिया और वहीँ उसके बाजू में बैठ गया | वो लेटी लेटी ज़ोर ज़ोर से हाफ्ती रही और मैं उसको देखता रहा | वो थोड़ी देर तक ऐसे ही डली रही और उतनी देर में मेरा फिर से मूड बन गया तो मैंने उसको फिर से चोदा और फिर उसकी गांड मारी और उसकी चीखें निकाल डाली | उसके बाद मैं फिर उसके बाजू में बैठ गया और वो उसी तरह फिर बहुत देर तक लेटी रही | फिर जब वो उठी तो उससे ठीक से चलते नहीं बन रहा था लेकिन फिर भी वो घर चली गई |