होली पर भाभी के साथ मस्ती


desi bhabhi sex, kamukta

हेल्लो दोस्तों, कैसे हैं आप लोग? आशा है की मस्त होंगे और अपने लंड को हाथ में लेकर हिला रहे होंगे | दोस्तों आज मैं आपको अपनी सच्ची कहानी बताने जा रहा हूँ | आशा है की आप लोगों को पसंद आएगी |

ये बात पिछले साल की है जब मैं होली पर गाँव गया हुआ था | मेरे पड़ोस में एक भैया रहते हैं जिनकी अभी अभी शादी हुई है | वो बाहर नौकरी करते हैं और अक्सर बाहर ही रहते हैं | होली के टाइम भी उन भैया को छुट्टी नही मिल पाई इसीलिए वो आ नही पाए | उनकी बीवी यानि की मेरी भाभी का नाम मालती था | मालती भाभी की उम्र मेरे बराबर ही होगी और वो काफी खुबसूरत थीं | उनके होठ ऐसे थे की देखते ही चूमने का मैन करने लगे और उनकी गांड मस्त थी | जब भी मैं उनकी गांड देखता था, मैन करता था की सीधा पकड लूं और दबा दूं | चलिए अब मुद्दे पर आता हूँ |

होली का दिन था और मेरा खड़ा था | मेरे गाँव में ज्यादा दोस्त नही हैं इसीलिए मैंने सोचा की क्यूँ न मालती भाभी के साथ ही खेल लूं | मैंने गुलाल लिया और उनके घर की तरफ चल दिया | भाभी किचन में थी और कुछ बना रही थी | मैंने आवाज़ दो तो वो आईं | मैंने बोला किचन से थोडा वक़्त निकाल कर मुझे भी दे दो | वो मुस्कुरा पड़ी | मैंने बोला अभी तो बस वक़्त दे दो, बाद में कुछ और भी डौगी तो बुरा नही मानूंगा और ये कहके मैंने आँख मार दी | भाभी शरमा पड़ी और हस भी दी | मैं समझ गया की सिग्नल रेड तो नही है | मैंने बोला की अब रंग बताओ कहाँ लगाऊं ? वो बोलीं सब तुम्हारा ही है, जहाँ मर्जी लगा दो | मैंने बोला चली फिर कमरे में, अच्छे से लगाता हूँ | वो बोली चलो |

फिर हम दोनों उनके कमरे में आ गये | अब मैंने उनके गालों पर गुलाल लगाना शुरू कर दिया | उनके गोरे गालों पर गुलाल बहुत अच्छा लग रहा था | मैंने शरारत में कहा- कहीं और भी लगा दूं? वो बोलीं – मैंने तो बोला की सब तुम्हारा ही है, जहाँ मन लगा लो | मैं समझ गया | मैंने अब गर्दन पर लगाना शुरू किया और धीरे धीरे ब्लाउज के अन्दर लगाने लगा | वो शरमा रही थीं लेकिन मना नही किया | उनके बूब्स को टच करके मजा आ गया मुझे | उनके मस्त बूब्स थे | मैंने बोला जरा ढंग से लगाने दो, देख देख के | वो बोलीं – पहले दरवाजा तो बंद कर लो | अब तो मैं पक्का समझ गया की आज मुझे मेरी सपनों की चुदाई का मौका मिलने वाला है | मैंने दरवाजा बंद किया और उनके ब्लाउज को उतार दिया | अब मैंने बता भी उतार दी और गुलाल को साइड में रख के उनके बूब्स दबाने लगा | वो बोलीं – इरादा रंग लगाने का था लेकिन काम तो कोई और हो रहा है | मैंने कहाँ – जिस काम में ज्यादा मजा आये वो ही करना चाहिए | वो हंस पड़ी | अब मैंने उनको कमर से पकड़ा और उनके होठों पर अपने होठ रख दिए | मैंने उनको ढंग से किस करने लगा और वो भी मेरा साथ देने लगीं |

किस करते करते मैं उनकी गर्दन की तरफ जाने लगा और उनकी गर्दन को चूमने लगा | उनकी गर्दन को चुमते हुए मैंने उनको बेड पर गिरा लिया और उनके ऊपर आ गया | अब मैंने फिर से उनकी गर्दन को चूमना शुरू कर दिया | मैं अब उनके बूब्स को चूसने लगा | वो मस्ती में मेरा सर पकड़ कर आह ओह  हह हह ह हह ह हह हह ह ह आराम से.. आह्ह हह ह हह ह ह हह ह हह ह ह ह हह ह ह हह ह ह हह ह ह ह हह ह ह ह हह ह ह ह ह ह ह्ह्ह ह हह ह ह्ह्ह ह ह ह्ह्ह हह ह हह ह ह हह ह ह करने लगीं | मैंने अब उनके एक दूध को चुसना और दुसरे को दबाना शुरू कर दिया | थोड़ी देर बाद फिर दुसरे वाले को चुसना और पहले वाले को दबाना शुरुर कर दिया | वो भी मजे से आआअह्ह हह ह हह ह ह हह ह ह हह ह ह हह ह ह हह ह ह हह ह ह हह ह हह हह ह ह ह ह हह ह हह ह ह ह हह ह ह हह ह ह्ह्ह ह ह हह ह हह ह हह ह ह ह ह हह ह ह करते हुए मेरा साथ दे रही थीं |

थोड़ी देर तक ऐसे ही उनके बूब्स के मजे लेने के बाद मैंने उनकी साड़ी ऊपर कर दी | उनकी पैंटी गुलाबी रंग की थी | मैंने वो भी निकल दी | अब उनकी झांटों वाली चूत मेरे सामने थे | बहुत ज्यादा नही लेकिन थोड़े से बाल थे उस पर | चूत कसी हुई लग रही थी देखने से | मैंने उनकी चूत पर अपना एक हाथ फेरा | उनकी चूत गीली हो चुकी थी | मैंने एक ऊँगली उनकी चूत में डाल दी | वो दर्द से आआअह्ह्ह्ह हह ह ह हह ह ह हह ह ह ह हह ह ह हह ह हह ह ह हह ह ह ह ह हह ह ह हह ह ह आराम से. अह्ह्ह्हह्ह ह ह ह हह हह ह ह हह ह ह ह हह ह हह ह ह हह ह ह हह ह ह ह ह हह ह करने लगीं | मैंने अब अपनी ऊँगली को अन्दर बाहर करना शुरू कर दिया | थोड़ी देर बाद मैंने उनकी चूत को अपनी ऊँगली से जोर जोर से चोदना शुरू कर दिया | वो मस्ती में जोर जोर से आआ आअ आआह्ह्ह ह हह ह ह हह ह ह ह हह ह ह ह हह ह हह ह्ह्ह ह उ ऊ ऊऊ ऊ उ उ ऊ उ उ ई इ ई इ इ ई इ इ इ इ ई इ इ ई ई इ ईई ई इ ई ईई ई इ इ ई इ ऊ उ उ उ ऊ उ उ ऊऊअ आःह ह ह हह ह ह ह हह ह हह ह ह हह ह ह हह ह ह ह हह ह ह हह ह ह हह ह ह हह ह ह ह ह्ह्ह हह ह ह्ह्ह ह हह हह हह ह ह्ह्ह हह ह ह ह ह करने लगीं |

मैंने अब और देर करना सही नही समझा | मैंने झट से अपनी पैंट निकाली और अपना लौड़ा उनकी चूत पर टिका दिया और एक जोर का झटका दिया | वो दर्द से बिलख थी और रोने लगी | मैंने एक और जोर का धक्का दिया और इस बार मेरा लंड पूरा घुस गया | वो दर्द से उई इ ई इ इ ई इ ईई ई इ इ ई इ इ इ ईई ई इ इ मर गयीई ई इ इ ई इ इ ई इ इ ई इ इ ई इ ई ईई ई इ ईई ई इ ईई इ ईईइ इ ईई ई ईई ई ई इ इ ईई इ इ इ आःह हह ह ह ह हह ह ह्ह्ह्ह ह ह्ह्ह ह्ह्ह्हह ह ह्ह्ह्हह ह ह्ह्ह्हह ह ह्ह्ह्ह ह ह्ह्ह्हह ही हह ह ह हह ह ह हह ह हह ह ह हह ह हह ह ह हह ह हह ह ह ह ह हह ह ह ह हह ह ह ह्ह्ह ह हह ह ह ह ह्ह्ह्हह ह ह हह हह ह ह हह ह करने लगीं | मैं थोड़ी देर रुका और फिर उनकी चूत को अपने लौड़े से चोदना शुरू कर दिया | शुरुआत में तो उन्हें ज्यादा दर्द हुआ लेकिन थोड़ी देर बाद वो मजे लेने लगी और आराम से आःह ह हह ह ह हह ह हह ह ह हह ह ह हह ह ह ह ह ह हह .. चोद दो मुझे.. आःह ह ह हह ह ह हह ह हह ह ह हह ह ह हह ह हह ह ह हह हह ह ह हह  बुझा दो मेरी प्यास.. ऊ उ उ ऊ ऊ उ ऊ उ ऊऊ ऊ ऊऊ उ उ ई ईई इ ईई इ ईई इ ईईइ इ ईई ई इ इ ई इ इ इ और जोर से चोदो.. आःह्ह ह हह ह ह हह ह हह ह ह ह हह ह ह हह ह हह ह ह हह ह ऊ उ ऊऊ इ इ इ इ ई इ इ इ ईई ई इ इ इ ई इ इ ई इ इ इ ईई ई इ इ ई इ इ इ ई इ इ ई ईई इ इ इ इ ई इ इ ई इ उ ऊ उ ऊऊ ऊ ऊऊउ उ उ ऊ ऊऊउ उ उ उ उ करने लगीं |

लगभग बीस मिनट की जोरदार चुदाई के बाद जब मेरा निकलने वाला हुआ तो मैंने अपना लंड उनकी चूत से निकाल कर उनके पेट पर अपना माल झाड दिया |

ये थी मेरी कहानी | आशा है आप लोगों को पसंद आई होगी |


error: