घर की चुदाई आखिर बाहर के लंड से बेहतर है


हाय फ्रेंड्स, मेरा नाम सतीश है, और मैं झारखंड रांची से हूँ | मेरी उम्र 19 साल है और मैं अभी कॉलेज की पढाई करता हूँ  | मेरी हाईट 5 फुट 7 इंच है | मेरे घर में सिर्फ मैं और मम्मी ही है और मम्मी जॉबलेस हैं | पापा की डेथ बहुत पहले चुकी थी तब मैं 5 साल का था | मम्मी ज्यादा पढी लिखी नही है और ये मेरी सौतेली मम्मी है क्यूंकि मेरे पापा ने दूसरी शादी किये थे | दोस्तों ये मेर पहली कहानी है जो मैं आप के सामने रख रहा हूँ | अगर मुझसे कुछ गलती होती है तो मुझे माफ़ करना | अब मैं कहानी शुरू करता हूँ |

ये घटना देड साल पहले की जब मैं 12 वी कक्षा का बोर्ड एग्जाम दे चुका था और रिजल्ट आने का इंतज़ार करने लगा था | मैं शुरू से ही बिगड़ा लड़का था क्यूंकि मैं जहाँ पढता था वहाँ के बच्चे गुटका खाना सिगरेट पीना अन्य गंदे शौख रखते थे | पर मुझे इन सब चीज़ में कोई भी रूचि नहीं थी पर हाँ रूचि थी मुझे तो सिर्फ ब्लू फिल्म देखने में | मैं बहुत सारी ब्लू फिल्म्स देखता था और उन्हें देख कर मैं मुठ भी मारा करता था | मुझे सिर्फ चुदाई देखना पसंद था क्यूंकि मैंने कभी चुदाई नहीं की थी और मुझे नहीं पता था कि चुदाई कैसे करते है ?

एक दिन की बात है दोस्तों, मैं घर से बाहर रात में अपने दोस्तों के साथ एक पार्टी में गया था और वहाँ से आ कर बहुत थक गया था | जब मैं घर में घुस ही रहा था तो देखा कि घर के बाहर एक गाड़ी खड़ी हुई है मुझे वो गाड़ी जाने पहचानी सी लग रही थी पर मैं ठीक से याद नहीं कर पा रहा था | मैं पीछे से खिड़की के पास गया और वहाँ से देखने कि कोशिश करने लगा की आंखिर इतनी रात में कौन मेरे घर आया होगा | तो जैसे ही मैंने देखा की मम्मी और वो अंकल ( मेरे पापा के बहुत जिगरी दोस्त हुआ करते थे जिनका नाम राजू बड़े था ) वो नंगे हैं और उनकी गांड मुझे दिखाई दे रही थी | मैं समझ नहीं पा रहा था कि अन्दर माजरा क्या चल रहा है | मुझे हलकी हलकी अहहहाआआ अहहहाआअ उऊंन्ह्ह ऊउम्म्म्ह उऊंन्ह्ह अहहाआअ ऊमम्म्म अहहाआआ अहहाआआ हहहहाआ हहाआआआ आआअह्ह्हाअ उऊंन्ह्ह ऊउम्मम्म ऊउन्न्ह अहहहहहाआ अहहहाआ उऊंन्ह्ह ऊउम्म्म अह्हाआअ उऊंन्ह्ह ऊउम्म्ह अहहहाआअ करने की आवाजे सुने दे रही थी | ये आवाज़ किसी और की नहीं बल्कि मेरी मम्मी की आवाज थी जो उनके चुदवाने से आ रही थी | ये देख कर मैं दंग रह गया कि साला मेरी मम्मी ऐसा कैसे कर सकती हैं | मैं उनके जाने का इंतजार करने लगा 20 मिनट तक मैं उनकी चुदाई देखता रहा | जैसे ही वो अंकल घर से निकले मैं तुरंत सामने चला गया था |

loading...

अंकल की गांड फट गई थी मुझे देख कर और वो तुरंत अपनी बाइक उठाये और जल्दी से चले गये मम्मी डर रही थी मुझसे तो वो भी अन्दर चली गई थी अपने रूम में | फिर मैं अन्दर गया घर के और दरवाजा लॉक किया और मम्मी के रूम की तरफ गया और दरवाजा खटखटाया तो मम्मी का कोई भी जवाब नहीं मिला मुझे | तो मैंने मम्मी से कहा कि मम्मी बाहर आइये मुझे आपसे कुछ बात करनी है 5 मिनट के बाद मम्मी बाहर आई रोते हुए | तो मैंने मम्मी से पूछा कि मम्मी क्या था ये सब ? आप उन अंकल से क्यूँ चुदाई करवा रहे थे |

तब मम्मी रोते हुए बोली बेटा मैं क्या करती मैं मजबूर हो चुकी थी | जब तेरे पापा गुजर गये थे तब इन्होने ही मुझे सहारा दिया था तुझे तो पता ही होगा कि पेंशन को  चालु होने में 6 महीने लगते है तब इन्होने ही हमारा खर्च उठाया था 6 महिने | मेरा इनके साथ ऐसा कुछ नही था पहले पर मैं भी आंखिर कब तक अपनी अनातार्वसना को रोक पाती | जब तू 10 साल का था तब से मैं इनके साथ सेक्स कर रही हूँ | बेटा मुझसे बहुत बड़ी गलती हो गई है मैं तुझसे माफ़ी मांगती हूँ मुझे माफ़ कर दे बेटा | फिर मैंने मम्मी को कुछ नहीं कहा और साफ साफ बोल दिया था कि अब ये सब हरकत दोबारा नही होना चाहिए | फिर मम्मी हाँ बोल के अपने रूम में चली गई थी रोते हुए |

मैं अगली सुबह लेटा हुआ था अपने कमरे में तो सुबह मम्मी मेरे रूम में आई | और मेरी हमेशा से आदत थी मैं कभी अपने रूम का दरवाजा बंद करके नहीं सोता था | मम्मी मेरे रूम में आई और मेरे बगल में बैठ गई थी और मेरे सिर पर हाँथ फेरने लगी थी | पर मैं मम्मी से नराज़ था इसलिए मैं चुपचाप सोने का नाटक करने लगा | फिर मम्मी उठ के जाने लगी और फिर तुरतं पलट कर देखी कि मेरा लोअर उठा हुआ था | तो मम्मी फिर मेरे बगल में बैठ गयी और लोअर उतारने लगी | मैंने कुछ नही बोला बस देखना चाहता था कि अब ये करती क्या है ? फिर धीरे धीरे मेरे लोअर को घुटने तक उतार लिया और फिर चड्डी | जैसे ही चड्डी उन्होंने उतारी तो मेरा सांप जैसा फनफनाता हुआ लम्बा लंड उनके सामने तन के खड़ा हो गया था | तो वो उसे पकड़ के ऊपर नीचे करने लगी, मुझे अच्छा लगने लगा था अपर मैं देखना चाहता था कि ये और क्या क्या करती हैं मेरे लंड के साथ | फिर 5 मिनट तक वो मेरे लंड को ऊपर नीचे करती रही फिर उन्होंने मेरे लंड के टोपे को खींचा और अपनी जीभ से उसपे फेरने लगी |

मुझे बहुत अच्छा लग रहा था उनका ऐसा करना फिर वो मेरे लंड के टोपे के ऊपर जीभ से गोल गोल घुमाने लगी अब मुझसे रहा नहीं जा रहा था तो मैं उठ गया और उनसे कहा कि मम्मी आप ये क्या कर रहे हो ? तो उन्होंने कहा मुझे माफ़ कर दे बेटा गलती हो गई तो फिर मैंने कहा करते रहिये अच्छा लग रहा है | तो वो फिर से मेरे लंड को चाटने लगी और मैं अहहहाआआ अहहहाआअ उऊंन्ह्ह ऊउम्म्म्ह उऊंन्ह्ह अहहाआअ ऊमम्म्म अहहाआआ अहहाआआ हहहहाआ हहाआआआ आआअह्ह्हाअ उऊंन्ह्ह ऊउम्मम्म ऊउन्न्ह अहहहहहाआ अहहहाआ उऊंन्ह्ह ऊउम्म्म अह्हाआअ उऊंन्ह्ह ऊउम्म्ह अहहहाआअ करने लगा था | वो बहुत अच्छे से मेरे लंड को चूस और चाट रही थी और मैं अहहहाआआ अहहहाआअ उऊंन्ह्ह ऊउम्म्म्ह उऊंन्ह्ह अहहाआअ ऊमम्म्म अहहाआआ अहहाआआ हहहहाआ हहाआआआ आआअह्ह्हाअ उऊंन्ह्ह ऊउम्मम्म ऊउन्न्ह अहहहहहाआ अहहहाआ उऊंन्ह्ह ऊउम्म्म अह्हाआअ उऊंन्ह्ह ऊउम्म्ह अहहहाआअ कर रहा था | 10 मिनट मेरा लंड चूसने के बाद मेरा माल उनके हाँथ में गिर गया था फिर उन्होंने मुझसे कहा कि तेरा माल तो बहुत गाढ़ा है और तेरा लंड भी बहुत लम्बा और मोटा है | तो फिर मैंने कहा कि क्या फायदा ऐसे लंड का जब मुझे चूत नही मिली कभी चुदाई के लिए और मैं बस मुठ ही मार के रह जाता था |

फिर मम्मी ने कहा तू चिंता मत कर अब तुझे चूत भी मिलेगी और मुझे लंड भी मिलेगा | जब घर में ही लंड और चूत है तो बाहर चुदाई करने का क्या मतलब और इतना बोल के मैं और मम्मी एक दूसरे को किस करने लगे थे | 10 मिनट किस करने के बाद मम्मी ने अपने पूरे कपडे उतार दिए थे और मैंने भी अपने कपडे उतार दिया था | फिर उन्होंने मेरा लंड फिर से चूसना चालू कर दिया था और मैं अहहहाआआ अहहहाआअ उऊंन्ह्ह ऊउम्म्म्ह उऊंन्ह्ह अहहाआअ ऊमम्म्म अहहाआआ अहहाआआ हहहहाआ हहाआआआ आआअह्ह्हाअ उऊंन्ह्ह ऊउम्मम्म ऊउन्न्ह अहहहहहाआ अहहहाआ उऊंन्ह्ह ऊउम्म्म अह्हाआअ उऊंन्ह्ह ऊउम्म्ह अहहहाआअ करने लगा था | और उन्होंने मजे से मेरा लंड चूस चूस कर फिर लोहे जकी तरह सख्त कर दिया और मेरालंड 15 मिनट तक चूसा | फिर मैंने उनके दूध पकड के जोर जोर दबाने लगा और जोर जोर से चूसने लगा था और वो अहहहाआआ अहहहाआअ उऊंन्ह्ह ऊउम्म्म्ह उऊंन्ह्ह अहहाआअ ऊमम्म्म अहहाआआ अहहाआआ हहहहाआ हहाआआआ आआअह्ह्हाअ उऊंन्ह्ह ऊउम्मम्म ऊउन्न्ह अहहहहहाआ अहहहाआ उऊंन्ह्ह ऊउम्म्म अह्हाआअ उऊंन्ह्ह ऊउम्म्ह अहहहाआअ करने लगी थी | मैं बीचे बीच में निप्पल भी काट लेता था 10 मिनट तक | दूध पीने के बाद मैंने उनकी चूत चाटना चालू कर दिया था और वो मजे के साथ अपनी चूत चटवाते हुए अहहहाआआ अहहहाआअ उऊंन्ह्ह ऊउम्म्म्ह उऊंन्ह्ह अहहाआअ ऊमम्म्म अहहाआआ अहहाआआ हहहहाआ हहाआआआ आआअह्ह्हाअ उऊंन्ह्ह ऊउम्मम्म ऊउन्न्ह अहहहहहाआ अहहहाआ उऊंन्ह्ह ऊउम्म्म अह्हाआअ उऊंन्ह्ह ऊउम्म्ह अहहहाआअ कर रही थी |

15 मिनट तक मैंने उनकी चूत चाटा और फिर मैंने उनकी चुदाई करते हुए अपना माल उनकी चूत में ही डाल दिया था | अब दोस्तों ऐसा हो गया था कि मैं रोज उन्हें चोदता था और जब भी हम घर में रहते थे तो कपडे पहन कर नहीं रहते थे | अब वो मुझसे खूब मजे ले कर चुदवाया करती थी और मैं भी मजे से चोदता था |

तो दोस्तों ये थी मेरी कहानी और ऐसे चालू हुई थी हमारे बीच चुदाई की दास्ताँ | मैं उम्मीद करता हूँ की आप लोगों को मेरी ये कहानी पसंद आई होगी और मैं आगे भी ऐसी ही कहानियां लिखता रहूगा |