गांव में सुंदर कन्या को चोदने का मजा लिया


antarvasna, hindi sex stories

मेरा नाम राजेंद्र है मैं सरकारी स्कूल में अध्यापक हूं, मैं महाराष्ट्र के एक छोटे से कस्बे में कार्यरत हूं और यहां पर मुझे दो वर्ष हो चुके हैं। मैं जब स्कूल में पढ़ाने आया तो यहां पर पूरी व्यवस्थाएं नहीं थी इसलिए मैं बहुत परेशान हो गया, मैं सोचने लगा मैं कहां पर आ गया हूं लेकिन मैंने हार नहीं मानी और मैंने सोचा कि मुझे कुछ नया करना पड़ेगा। मैं जिस क्षेत्र में था वहां पर ज्यादा पढ़े-लिखे लोग नहीं थे इसीलिए मैंने अपने घर पर फ्री में ट्यूशन पढ़ाने की सोची, मेरे पास स्कूल के बच्चे आते थे और वह लोग मुझसे फ्री में ट्यूशन पढ़ते थे। मैं किसी भी बच्चे से कोई भी पैसा नहीं लेता था जिससे कि उनकी पढ़ाई में भी सुधार होने लगा। मेरे इस कार्य की सब लोग सराहना करने लगे और सब लोग मुझसे बड़े खुश रहने लगे। मैं अब सब लोगों के बीच में चर्चित होने लगा था और सारे लोग मुझे मास्टर जी कह कर बुलाते थे।

मैंने भी बचपन में बहुत ही परेशानियों के बीच में पढ़ाई की थी इसलिए मुझे भी यह ज्ञान था कि यदि मेरी वजह से किसी बच्चे का भला हो जाए तो उसका जीवन सुधार सकता है इसीलिए मैंने यह  फैसला लिया। सब बच्चो को मैं अच्छे से पढ़ाने लगा, जो भी बच्चा मेरे पास आता था वह बहुत ही अच्छे से पढ़ता था। उनके माता पिता मेरे लिए कुछ ना कुछ भिजवा देते लेकिन मुझे वह पसंद नहीं था, उसके बावजूद भी मुझे उनसे लेना पड़ता था क्योंकि वह लोग मुझे कहते कि यदि आप हमारे बच्चों के लिए इतना कुछ कर रहे हैं तो क्या हम आप के लिए इतना भी नहीं कर सकते। एक दिन मैं शाम के वक्त बच्चों को पढ़ा कर बाहर टहलने के लिए निकल रहा था, उस वक्त मैंने देखा कि वहां पर एक महिला और एक पुरुष का झगड़ा हो रहा है, मैं जब उनके पास गया तो वह दोनों एक दूसरे पर बहुत ही बुरी तरीके से चिल्ला रहे थे। मैंने उन दोनों को समझाते हुए शांत करवाया। वह लोग मुझे पहचान चुके थे इसलिए उन लोगों ने मुझे अपने घर में बैठा लिया। जब मुझे पता चला कि वह दोनों पति पत्नी है तो मैंने उन दोनों से पूछा कि तुम दोनों इतना क्यों झगड़ रहे हो तो वह कहने लगे कि मैं अपनी पत्नी से बहुत प्रेम करता हूं लेकिन उसके बावजूद भी यह हमेशा ही मुझसे झगड़ती रहती है और कहती है कि आप मेरी जरूरतों को पूरा नहीं कर पा रहे हैं।

मैंने उन दोनों को अपने पास ही बैठा लिया, मैंने उन दोनों को समझाते हुए कहा कि इसमें तुम दोनों की गलती नहीं है लेकिन यदि तुम इसी प्रकार से करोगे तो तुम्हारे बच्चों पर इसका बहुत ही बुरा असर पड़ेगा और मैंने उन महिला को भी समझाया कि जितना आपके पति कमाते हैं आपको उतने में ही संतुष्टि करनी चाहिए यदि आप ज्यादा के लालच में रहेंगे तो शायद आपके पति पर उस चीज का गलत असर पड़ेगा। वह भी मेरी बातों को समझ गए, उस दिन दोनों ने ही मुझे अपने घर पर रुकने के लिए कहा, मैंने उस दिन उन लोगों के घर पर ही भोजन किया। जब मैं अगले दिन अपने घर पर बैठा हुआ था तो मेरे पास कुछ महिलाएं आ गई और वह कहने लगे कि आप हमें भी थोड़ा बहुत पढ़ा दीजिए क्योंकि हम लोग भी ज्यादा पढ़े लिखे नहीं हैं। मुझे उन्हें पढ़ाने में कोई आपत्ति नहीं थी इसलिए मैंने उन्हें भी पढ़ाना शुरू कर दिया और जब मैंने उन्हें पढ़ाना शुरू किया तो मुझे बहुत ही मेहनत करनी पड़ रही थी क्योंकि उन लोगों ने काफी समय पहले ही स्कूल छोड़ दिया था इसी वजह से मुझे उन्हें पढ़ाने में बड़ी दिक्कत हो रही थी। उन्हें कुछ भी समझ नहीं आ रहा था लेकिन मैंने हिम्मत नहीं हारी और मैंने उन्हें पढ़ाने की पूरी कोशिश की। मैं अब उन्हें हमेशा ही शाम के वक्त पढ़ता था। गांव में मेरी सब लोग इज्जत करते थे। एक दिन मैं स्कूल से लौट रहा था, उस वक्त मुझे एक लड़की ने रोक लिया, वह लड़की दिखने में बहुत ही अच्छी लग रही थी और मुझे ऐसा लग रहा था जैसे वह किसी शहर की रहने वाली है। जब वह मेरे पास आई तो उसने मुझे अपना परिचय दिया, उसका नाम शीला है। मैंने शीला से पूछा क्या आपको मुझसे कुछ काम था, वह मुझे कहने लगे मुझे यहां लोगों से पता चला कि आप लोगों के लिए यहां पर बहुत अच्छा काम कर रहे हैं और उन्हें पढ़ा भी रहे हैं। मैंने शीला से कहा हां मैं उन्हें पढ़ाता हूं। शीला ने मुझे बताया कि मैं भी इसी गांव की रहने वाली हूं और मैं मुंबई में रहती हूं लेकिन मैं भी इसी गांव में रहकर कुछ करना चाहती हूं, मैंने उसे कहा कि क्यों ना फिर तुम यहां पर कोई ट्यूशन सेंटर खोल दो, मैं बच्चों को निशुल्क पढ़ाता हूं।

तुम भी यदि उन्हें पढ़ाओ तो तुम्हें भी अच्छा लगेगा। वह कहने लगी हां मैं भी यही सोच रही थी। उसने एक घर किराए पर ले लिया और वहां पर ही हम दोनों बच्चों को और महिलाओं को पढ़ाते थे। शीला एक बहुत ही अच्छी और समझदार लड़की है और मेरी नजरों में उसकी बहुत इज्जत है क्योंकि वह अपने गांव के लिए बड़ा अच्छा काम कर रही थी। एक दिन खाली वक्त में हम दोनों बैठे हुए थे, शीला मुझसे पूछने लगी कि क्या आपकी शादी हो चुकी है, मैंने उसे बताया कि मेरी शादी तो हो चुकी थी लेकिन मेरी पत्नी के साथ मेरा डिवोर्स हो गया है क्योंकि हम दोनों के विचार एक दूसरे से बिल्कुल भी नहीं मिलते इसीलिए हम दोनों ने अलग रहने का फैसला कर लिया है। उसके बाद शीला ने मुझसे कुछ भी नहीं पूछा। हम दोनों में बहुत ही अच्छी दोस्ती होने लगी थी एक दिन शीला मेरे साथ मेरे घर पर बैठी हुई थी उस दिन वह खाना बना रही थी। जब हम दोनों साथ में बैठ कर  बात कर रहे थे तो वह मुझसे चिपक रही थी, मुझे नहीं पता कि उस दिन उसके दिल में क्या चल रहा था लेकिन मुझे उसके साथ बैठना बड़ा अच्छा लग रहा था। मैंने जब शीला की जांघों पर हाथ रखा तो मुझे ऐसा लगा जैसे वह मुझसे कुछ चाहती हो। मैंने शीला के होठों पर अपने हाथ को रखा तो वह अपने आप ही नीचे लेट गई।

मैंने उसके नरम और गुलाबी होठों को अपने होठों में लेकर चूसना शुरू किया उसके होठों से खून भी निकलने लगा। मैंने उसके स्तनों को दबाते हुए उसके सारे कपड़े उतार दिए जब मैंने उसके गोल मटोल स्तनों को देखा तो मैं बिल्कुल भी नहीं रह पाया और मैंने उन्हें चूसना शुरू कर दिया मैंने शीला के स्तनों से खून भी निकाल दिया था, उसके स्तनों पर मैंने लव बाइट भी दी थी। मैंने शीला की योनि पर अपनी जीभ से टच किया तो वह बड़ी है मादक आवाज में सिसकियां ले रही थी, मैंने भी तुरंत अपने लंड को शीला की योनि पर लगा दिया उसकी योनि बहुत गर्म हो रखी थी। मैंने जैसे ही उसकी नरम और मुलायम योनि के अंदर अपने लंड को डालना शुरू किया तो उसकी योनि से खून निकल रहा था और वह दर्द से कराह रही थी लेकिन मैंने भी धीरे धीरे उसकी योनि के अंदर अपने लंड को डाल ही दिया। जैसे ही मेरा लंड शीला की योनि के अंदर घुसा तो उसकी योनि से खून की धार बाहर की तरफ निकल आई और उसकी योनि पूरी तरीके से छिल चुकी थी। मुझे उसकी टाइट चूत मारने में बड़ा आनंद आ रहा था, मैंने उसे किस करते हुए बड़ी तेज गति से चोदना शुरू कर दिए। मैं उसे झटके मारता तो वह अपने मुंह से सिसकियां ले रही थी, मुझे उसे चोदने में बड़ा मजा आ रहा था। शीला मुझे कहने लगी आपके साथ तो मुझे सेक्स कर के बहुत मजा आ रहा है और आज आपने मेरी जवानी को सफल बना दिया। मेरा वीर्य शीला की योनि में गया तो मुझे बड़ा अच्छा महसूस हुआ जब मैंने उसको उल्टा किया तो उसकी बड़ी गांड के अंदर से मैंने अपने लंड को उसकी योनि के अंदर घुसा दिया और उसे झटके देने लगा। मैंने उसे बड़ी तेजी से चोदना शुरू किया जिससे की उसकी बड़ी बड़ी चूतडे मुझसे टकराती तो मेरे अंदर से सेक्स को लेकर एक अलग ही प्रकार का जोश पैदा हो जाता। मैंने उसे बड़ी तेज गति से चोदना प्रारंभ किया मैंने उसे इतनी देर तक चोदा की उसकी योनि से खून निकल ही रहा था लेकिन मेरा भी पूरा लंड छिल चुका था, जब मेरा वीर्य पतन हुआ तो वह बहुत ही खुश हो गई।


error: