दिमाग दौड़ा और मेरे बॉयफ्रेंड का लंड चौड़ा


hindi sex stories, desi porn kahani

हैल्लो फ्रेंड्स, कैसे हैं आप सब ? मैं उम्मीद करती हूँ कि आप सब अच्छे होंगे और चुदाई करते रहते होंगे | मेरा नाम संगीता है और मैं खड़गपुर की रहने वाली हूँ | मेरी उम्र 22 साल है और मैंने हाल ही में अपना ग्रेजुएशन पूरा किया है | मैं दिखने में गोरी हूँ और मेरी हाईट 5 फुट 6 इंच है और मेरा फिगर सेक्सी है | फ्रेंड्स, आज जो मैं आप लोगो के सामने अपनी कहानी लिखने जा रही हूँ ये मेरी पहली कहानी है और मेरे जीवन की एक दम सच्ची घटना है | मैं उम्मीद करती हूँ कि आप सब को मेरी कहानी जरुर पसंद आएगी और मेरी कहानी पढ़ कर आप लोगो को मजा भी बहुत आएगा | ये मेरी पहली कहानी है तो हो सकता है इसमें कुछ गलती निकल जाए तो आप लोगो से निवेदन है कि मुझे माफ़ करते हुए कहानी को पढ़ कर बस मजे ले | तो अब आप लोगो के समय को बर्बाद न करते हुए मैं अपनी कहानी लिखना चालू करती हूँ |

ये घटना काफी समय पहले की है | वैसे मैं आप लोगो को बता दूं कि मेरे घर में बस मैं और मम्मी ही रहती हैं | मम्मी स्कूल टीचर हैं और पापा आर्मी में जॉब करते है और ज्यादातर घर में नहीं रहते | उनकी पोस्टिंग कहीं भी हो जाती है और वो बहुत ही कम घर में आते हैं | मैं बचपन में आर्मी स्कूल में ही पढाई की थी और उसके बाद 11वी कक्षा मैंने केंद्रीय विद्यालय में एडमिशन ले लिया था | मेरी आगे की पढाई वहीँ से हुई और उसी स्कूल में मेरा बॉयफ्रेंड बना जिसका नाम सुनील है और वो दिखने में बहुत ही हेंडसम और स्मार्ट है | उसका बदन गठीला है | एक बार जब हम टीचर्स डे मना रहे थे तब मैंने अपनी मम्मी की बहुत सुन्दर साड़ी पहने हुई गई थी | बहुत सरे लड़के मुझ पर लाइन मार रहे थे पर किसी में हिम्मत नहीं थी कि मुझे कुछ कर दे या कुछ बोल दे | क्यूंकि मेरे पापा बहुत ही बड़ी पोस्ट में हैं और मैं लाल बत्ती से स्कूल कॉलेज आया जाया करती थी | लेकिन सुनील ही एक जिगर वाला लड़का था जिसने हिम्मत दिखा कर मुझे प्रोपोस और मैं भी उसे मना नही कर पाई | पहले कुछ समय तक तो हम दोनों एक दूसरे की केयर करते हुए बात करते थे लेकिन जब हमने एक दूसरे को ज्यादा समय तक जान लिया तो हमने कई सारी बंदिशे तोड़ दी |

loading...

अब मैं उसके साथ पूरा बिंदास हो कर स्कूल का गोल मार कर घूमने जाया करती और कभी कभी उसके साथ मूवी भी देखने चली जाती | धीरे धीरे हमारा प्यार और केयर दोनों ही एक दूसरे के प्रति काफी बढ़ गई | अब हम दोनों सेक्स चैट करने लगे और कभी कभी हम दोनों रात में एकड़ दूसरे को प्यार भी कर लिया करते थे | रियल में हमने सेक्स नहीं किया था और बस किस कर के ही रह जाते | अब हम कॉलेज में आ गए थे और कुछ समय तक मैंने लाल बत्ती का यूज़ किया और फिर मैं अपनी फ्रेंड के साथ अवान जावन करने लगी | फिर एक दिन मुझसे सुनील ने कहा कि यार मुझे सेक्स करने का बहुत मन कर रहा है | मैंने कहा कि यार मन तो मेरा भी करता है लेकिन क्या करूँ ? तब मेरे दिमाग में एक तरकीब सूझी कि काम वाली बाई को कुछ पैसे दे कर चोरी के आरोप में काम से निकलवा दूँगी और उसे हर महीने जितना वो पैसे कमाती है मैं उसे दे दिया करुँगी और ये तरकीब काम भी आ गई | अब मेरा घर खाली रहने लगा था और मम्मी रोज स्कूल चले जाती थी | तो उसके तीसरे दिन मेरा घर खाली था तो मैंने संजय को फ़ोन कर के घर बुला लिया | वो जैसे ही मेरे घर के अन्दर आया तो उसने मुझे पीछे से ही अपनी बांहों में जकड़ लिया और मेरी गर्दन को चूमने लगा साथ में अपने दोनों हाँथ सामने कर के मेरे दूध को भी दबा रहा था | उसके बाद उसने मुझे अपने सामने खड़ा कर के मेरे होंठ से अपने होंठ लगा कर मेरे होंठ को चूसने लगा और मैं भी उसका साथ किस्सिंग में देते हुए उसके होंठ को चूसने लगी |

वो मेरे होंठ को चूसते हुए मेरी गांड दबा रहा था और मैं उसके होंठ को चूसते हुए उसकी पीठ सहला रही थी | हम दोनों ने एक दूसरे के होंठ को काफी तक चूसे | उसके बाद उसने उसके टॉप को उतार दिया और ब्रा के ऊपर से ही मेरे  दूध को दबाने लगा तो मेरे मुंह से आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह की आन्हे निकलने लगी | फिर उसने अपने हाँथ से ब्रा को खिसका कर खोल दिया और मेरे दूध मेरे सामने एक दम तने खड़े थे | फिर वो मेरे दूध को अपने मुंह में ले कर चूसने लगा और मैं आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह करते हुए सिसकियाँ भरने लगी | वो मेरे दूध को जोर जोर से दबा रहा था और निप्पलस पर जीभ को गोल गोल घुमा कर चूस रहा था और मैं आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह करते हुए उसके सिर पर हाँथ फेर रही थी | उसके बाद मैंने उसकी शर्ट को उतार दी और उसके सीने पर हाँथ से सहलाते  हुए चूमने लगी | उसके बाद मैं अपने घुटनों के बल जमीन पर बैठ गई और उसकी जीन्स को उतार दी और उसे अंडरवियर में कर दी | कुछ देर तक मैं उसके लंड को अंडरवियर के ऊपर से ही सहलाती रही | फिर मैंने उसके कच्चे को भी उतार कर उसे नंगा कर दी और उसके बाद मैं उसके लंड पर अपनी जीभ फेरते हुए चाट कर गीला करने लगी तो उसके मुंह से भी आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह की आवाज़ निकलने लगी | मैं उसके लंड पर जीभ फेरते हुए हर के भाग को चाट कर गीला कर रही थी और वो  आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह करते हुए सिस्कारियां ले रहा था |

कुछ देर के बाद मैंने उसके लंड के सुपाडे को अपने मुंह में ले कर चूसने लगी और वो आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह करते हुए उसके मेरे को दबा रहा था | उसके बाद मैंने उसके लंड को अपने मुंह में गले तक ले कर चूसने लगी और वो आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह करते हुए मेरे मुंह को को चोदने लगा | फिर मैंने मेरे दोनो गोटों को भी चूसने लगी और लंड को हिलानी लगी और वो  आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह की सिस्कारियां लेते हुए मजे लगा | फिर उसने मेरी लेगी को उतार दिया और फिर मेरी पेंटी को भी उतार कर मुझे भी पूरी नंगी कर दिया | फिर वो मुझे बेड पर लेटा दिया और मेरे पैरो को फैला कर मेरी चूत को चाटने लगा और वो आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह करते हुये मचलने लगी | वो मेरी चूत को चाटते हुए अपनी जीभ से मेरी चूत को भी चोद रहा था और मैं आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह करते हुए मेरे मुंह को अपनी चूत पर दबाने लगी |

उसके बाद उसने अपने लंड को थोड़ी देर तक मेरी चूत को सहलाया और फिर अन्दर पेल  कर चोदने लगा धक्के मारते हुए और मैं आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह करते हुए चुदाई के मजे लेने लगी | कुछ देर बाद उसने अपनी चुदाई तेज कर दिया और मेरे दूध को पकड़ जोर जोर से चोदने लगा और मैं  आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह करते हुए सिस्कारियां लेने लगी | फिर उसने मुझे घोड़ी दिया और मेरे पीछे आ कर मेरी चूत में अपना लंड पीछे से ही अन्दर डाल कर चोदने लगा और मैं आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह करते हुए अपनी गांड आगे पीछे कर चुदाई में साथ देने लगी | करीब बीस घंटे की चुदाई के बाद उसने अपना माल मेरे दूध के ऊपर ही छोड़ दिया | फिर हम दोनों ने थोड़ी देर रेस्ट किया और एक बार और चुदाई के मजे लिए |