चुदाई की शांति मिली लड़की को पटा कर


indian porn story, desi kahani

मेरा नाम अंकित ठाकुर है और मैं मदन महल का रहने वाला हूँ | मेरी उम्र 23 साल है और मैं अभी एक जवान लौंडा हूँ एक दम गरमाया हुआ | मैं दिखने में अच्छा हूँ और मेरा रंग गेंहुआ है | मेरी हाईट 5 फुट 11 इंच है और मेरा बदन गठीला है | दोस्तों आज जो मैं आप लोगो के लिए जो कहानी लिखने जा रहा हूँ ये मेरी पहली कहानी है तो मैंने सोचा कि कहीं कोई गलती मुझसे न हो जाए इसलिए मैंने बड़ी ही सावधानी से कहानी लिखा हूँ अगर आप लोगो को गलती नजर आये तो कृपया मुझे माफ़ कर कहानी का आनंद ले | तो अब मैं आप लोगो को ज्यादा बोर नहीं करूँगा और अपनी कहानी कि शुरुआत करता हूँ |

दोस्तों मैं एक शरीफ घर का लड़का हूँ और कभी भी मेरा चुदाई या चूत के प्रति कोई रूचि नहीं रहा | पर एक दम से मेरा मन इस चुदाई की दुनिया की तरफ गया और मैं इस चुँदी क्रिया का दीवाना हो गया | हुआ ऐसा कि मैं क्लास में बैठा हुआ था और अपनी पढाई कर रहा था तभी मेरे पीछे बैठे कुछ बच्चे अपने मोबाइल में ब्लू फिल्म देख रहे थे और मुझे हलकी हलकी सिस्कारियों की आवाज़ आ रही थी | मेरा मन बार बार जानने का कर रहा था आखिर ये हो क्या रहा है ? पर मेरी उनसे कभी बात नहीं होती थी इसीलिए मैं अपने मन को जैसे तैसे उन से ध्यान हटाने की कोशिश करने लगा | पर जब मुझसे रहा नहीं गया तो मैंने उनसे पूछा कि क्या देख रहे हो तुमलोग ? तो एक शिवम नाम का लड़का था उसने कहा भाई मस्त गरम चीज़ देख रहे हैं आजा तू भी देख ले | जब मैं देखने लगा वीडियो तो मुझे पसंद आने लगा | मैं भी मन लगा कर देख रहा था और यही देखते देखते मेरा लंड भी खड़ा हो गया और मुझमे एक अजीब सी कसक उठने लगी | ये तो मैं जानता था कि ऐसा क्यूँ हो रहा है लेकिन आजमाया पहली बार | उतने में ही हमारी मैथ्स टीचर ने हमे ये सब देखते हुए पकड़ ली |

loading...

मैं अपने आपको सही साबित करने की बहुत कोशिश किया लेकिन मैं भी उन लोगो के साथ फंस गया | मैथ्स टीचर ने हम लोगो की गांड में दस दस डंडे मारे और फिर छोड़ दिया | लेकिन अब मैं उतीजना की आग में जलने लगा था और अब मेरा भी मन चुदाई करने का होने लगा था | मैं जैसे ही स्कूल से घर गया तो मैंने सबसे पहले घर जा कर मुट्ठ मारा और फिर तब जा कर मुझे अच्छा हल्का हल्का लगा | मैं भी अब चुदाई करना चाहता था तो मेरी क्लास में एक लड़की थी जिसका नाम निशा था और वो दिखने में गोरी थी लेकिन उसका फिअगर बहुत गदराया हुआ था और उसका फेस कट भी अच्छा नहीं था लेकिन मुझे तो बस चुदाई से मतलब था | निशा हरदम मेरे पास पढने के लिए आया करती थी तो मैं जानता था कि अगर मैं इसे प्रोपोस कर दूंगा तो ये लड़की मुझसे पट जायेगी | एक बार मैं क्लास में ही बैठा हुआ था और वो मेरे पास एक प्रॉब्लम सोल्व करने के लिए आई तो मैंने उससे कहा कि यार तुम्हारी प्रोब्लम तो मैं सोल्व कर दूंगा लेकिन मेरी एक प्रोब्लम है जो सिर्फ तुम ही सोल्व कर सकती हो | उसने पूछा ऐसी कौन सी प्रोब्लम है ? तो मैंने कहा मैं तुम्हारे साथ सेक्स करना चाहता हूँ तो वो ये बात सुन कर खुश हो गई और उसने भी मुझसे कहा कि मैं भी तुम्हारे साथ सेक्स करने के लिए तैयार हूँ | बस हमे रूम की दिक्कत थी तो उसने बताया कि उसकी एक फ्रेंड है जो रूम रेंट से ले कर रह रही है तो हम उसके रूम में सेक्स कर सकते हैं | मैंने भी हाँ कर दिया | सन्डे के दिन हम दोनों उसकी फ्रेंड के रूम गए और उसने कहा कि मैं एक घंटे बाद आउंगी | उसके बाद मैंने उसके हाँथ को अपने हाँथ में लिया और उसकी आँखों में देखने लगा तो वो भी मेरे हाँथ को सहलाते हुए प्यार से मेरी आँखों में देखने लगी | फिर हम दोनों थोडा और करीब आये एक दुसरे के और फिर हम एक दुसरे की बांहों में सिर रख लिए | थोड़ी देर के बाद मैंने उसके होंठ से अपने होंठ लगा दिया और उसके होंठ को चूसने लगा और वो भी मेरा साथ देते हुए मेरे होंठ को चूसने लगी |

मैं उसके होंठ के रस का स्वाद लेत्गे हुए उसके बड़े बूब्स को दबा रहा था और वो मेरे होंठ का सवाद लेते हुए मेरे हिप्स पर हाँथ से सहला रही थी | हम दोनों ने दस मिनट किस किये और फिर मैंने उसके गाउन को उतार दिया और ब्रा के ऊपर से ही बूब्स को जोर जोर से दबाने लगा तो उसके मुंह से आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह की आवाज़ निकलने लगी | थोड़ी देर के बाद मैंने ब्रा को भी निकाल दिया और दोनों बड़े बूब्स को अपने मुंह में ले कर चूसने लगा और वो आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह करते हुए मेरे सिर पर हाँथ फेरने लगी | मैं उसके बूब्स को जोर जोर से मसल कर चूस रहा था और निप्पलस को बीच बीच में काट भी देता और वो आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह करते हुए सिस्कारियां भर रही थी | मैंने भी अपने कपडे उतार दिया और बस अंडरवियर में उसके सामने खड़ा हो गया | उसने अपने एक हाँथ को मेरे लंड पर लगाया और एक हाँथ सीने में और लंड को सहलाने लगी और सीने के बाल को सहलाने लगी | फिर मैंने अंडरवियर को उतार दिया और उसने मेरे लंड को अपने हाँथ में ले कर जीभ से चाटने लगी तो मेरे मुंह से भी आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह की सिस्कारियां निकलने लगी | जब वो मेरे लंड पर अपनी जीभ से आइसक्रीम कि तरह चाट कर सहला रही थी तो मैं आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह करते हुए उसके निप्पलस को दबाने लगा |

उसके बाद उसने मेरे लंड के सुपाड़े को अपने मुंह में भर कर चूसने लगी और मैं आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह करते हुए मजे लेने लगा | उसके बाद उसने मेरे लंड को अपने मुंह में पूरा अन्दर कर ली और अन्दर बाहर करते हुए चूसने लगी और मैं आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह करते हुए उसके मुंह को पेलने लगा | मैने उसके जांघ को सहलाया और फिर पेंटी को भी उतार दिया | अब वो भी मेरे सामने नंगी खड़ी थी और फिर मैंने उसे लेटा कर उसके पैरो को फैला कर जीभ से चाटने लगा और वो आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह करते हुए सिस्कारियां लेने लगी | मैं उसकी चूत को सहला कर जीभ से अन्दर तक चाट रहा था और वो आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह करते हुए अपने पैरो से मुंह को दबाने लगी चूत पर | जब उसकी चूत ने एक बार रस मेरे मुंह में छोड़ दी तो मैंने अपने लंड को उसकी चूत में रखा और एक ही झटके में अन्दर पेल दिया और चोदने लगा धक्के लगते हुए और वो आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह करते हुए जोर जोर से सिस्कारियां लेने लगी | मैं जोर जोर से उसकी चूत को धक्के मार मार कर चोद रहा रहा और बूब्स भी जोर जोर से दबा रहा था और वो आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह करते हुए अपनी कमर उठा उठा कर चुदाई में साथ दे रही थी | फिर मैंने उसे घुमा दिया और उसकी गांड में अपना लंड फंसाया और अन्दर बाहर करते हुए चोदने लगा और वो आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह करते हुए अपने बूब्स को जोर जोर से दबाने लगी | करीब आधे घघंटे तक मैंने उसकी चूत और गांड दोनों चोदा और फिर अपना वीर्य उसकी गांड के अन्दर ही झड़ा दिया | थोड़ी देर हम दोनों ने रेस्ट किया और उसके बाद वो मेरे लंड को फिर से हिलाने लगी तो मेरा लंड फिर से तन के खड़ा हो गया और फिर से मैंने स्की चूत को चोदा | फिर मैं अपने घर आ गया |