चुदाई और मस्त चूत


सुनो चूत के प्यासों आज तुम लोगो को एक असली चुदाई की एक स्टोरी बता रहा हूँ | आज यह स्टोरी पढ़ कर तुम लोगो का लंड ऐसा खड़ा होगा कि तुम लोग चोदने को मचल जाओगे और अपने लंड की प्यास बुझाने के लिए किसी रंडी के पास जाओगे उसकी चूत मारने के लिए और ऐसा करके अपने लंड की प्यास बुझाओगे |

चूत के प्यासों मैं जबलपुर का हूँ और मेरा नाम लखन कोल है और मेरी उम्र 26 साल है | मेरा खुद का बिजनिस है | मेरे कई शर्ट के कारखाने चलते है |

अब सुनो चूत के प्यासों जब मैं 18 साल का था तब से अभी तक लडकियों को चोद रहा हूँ | मैंने बहुत सी लडकियों को चोदा है और उनकी जिंदगी बर्बाद कर दी है और अभी भी वही सब करता हूँ | जब में स्कूल में था तो मैंने सबसे पहले एक लड़की को सेट किया था और वो बहुत सुंदर दिखती थी | उसका नाम रूबी था | वो मुझसे एक साल छोटी थी और स्कुल में वो मुझसे जूनियर थी | मैंने उसे प्यार का नाटक करके उसे सेट किया ये बोलके कि रूबी में तुमको बहुत प्यार करता हूँ | फिर रूबी भी मेरे प्यार को देख कर मुझसे प्यार लारने लगी | वो सच में समझने लगी थी कि मैं उसे बहुत प्यार करता हूँ | लेकिन में उसे प्यार नहीं करता था | मैंने उसे सिर्फ चोदने के लिए पटाया था | जब मैंने दकेह कि मेरा नाटक कामयाब हो रहा है तब मुझे लगा बस अब ये चूत मेरे लंड के नीचे आने ही वाली है | उसके कुछ दिन बाद मैंने रूबी को एक फ़ोन खरीद कर दिया क्योकि उसके पास फ़ोन नहीं था | फिर उसके बाद मैं रूबी से फ़ोन पर बात किया करता था और उसके बाद जब उसका प्यार और बढ़ता गया तो मैं रूबी से सेक्स की बात करने लगा | मैं उससे बहुत सेक्सी बातें किया करता था फिर एक दिन मैं रूबी से उसे चोदने के लिए बोलने लगा और कहने लगा कि तुमको चोदने के लिए बहुत तरस रहा हूँ और फिर मुझसे रूबी कहने लगी कि आपको चोदने की बड़ी जल्दी है | मैंने उससे कहा हाँ अब तुम हो ही इतनी प्यारी कि जब से तुमको देखा है बस उस दिन से तुमको प्यार करने लगा हूँ और तुमको चोदने का बहुत मन कर रहा है | यह बात सुनकर रूबी खुश होकर मुझसे पूछने लगी कि आपके घर में अभी कोन कोन है ? तो फिर मैंने कहा अभी तो घर पर कोई नहीं है सब लोग काम पर गए हुए है | तो रूबी मुझसे कहने लगी कि मैं आ रही हूँ आपके घर | यह सुनकर में बहुत खुश हो गया और फिर रूबी मेरे घर आ गयी | और फिर मुझसे कहने लगी कि आपको मुझे चोदने का बहुत मन कर रहा है और हसने लगी | फिर मैंने उसे उठाया और पलंग पर लेटा कर चूमने लगा | रूबी मुझसे कहने लगी कि आराम से कोई जल्दी नहीं है आराम से चोदो | फिर मैंने उसे बोला आज तुमको ऐसा चोदुंगा कि याद रखोगी | फिर वो मेरी टीशर्ट फाड़ने लगी और मुझे किस करने लगी और मैं अपनी ऊँगली उसकी चूत में डाल कर हिलाने लगा | वो आआहाआह ऊउन्न् आहाहाह ऊउम्म्म ऊनंह अआहा आअह्ह्हाअ अहहहः अहहाआअ ऊउन्न ऊउम्म्ह आआनाहा ऊउन्न्ह ऊम्म्ह आहाहाहा ऊनंह ऊउम्ह आहाहहा ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह अहहहः आआहाआह ऊउन्न् आहाहाह ऊउम्म्म ऊनंह अआहा आअह्ह्हाअ अहहहः अहहाआअ ऊउन्न ऊउम्म्ह आआनाहा ऊउन्न्ह ऊम्म्ह आहाहाहा ऊनंह ऊउम्ह आहाहहा ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह अहहहः करते हुए कहने लगी कि अपना लंड मेरी चूत में डालो ऊँगली बाहर निकालो फिर मैं अपने लंड को उसकी चूत में डालने लगा और चुदाई चालू कर दी | वो मुझसे कहने लगी कि बहुत मजा आ रहा है और आअह्ह्ह्ह आआह्ह्ह्ह अआह्हह ऊउह्ह्ह ऊउह्ह्ह अआह्हह आह्ह्ह ऊउह्ह्ह करने लगी | फिर मैंने रूबी से बोला अभी तो और मजा आएगा तुमको अभी तो मैंने चोदना स्टार्ट किया है |  फिर मैं उसके दूध पीने लगा और फिर उसकी चूत में अपने लंड को  धीरे धीरे अंदर बाहर करने लगा | मुझे बहुत आनंद आ रहा था और रुभी भी आह्ह्ह्ह अआह्हह आह्ह्ह ऊउह्ह्ह ऊउह्ह्ह कर रही थी और बहुत मदहोश हो रही थी | मुझे तो अपना लंड उसकी चूत से बाहर निकलने का मन ही नहीं कर रहा था | फिर मैं उसे घोड़ी बना कर चोदने लगा उसे वैसा कर के चोदने में तो और भी अच्छा लग रहा था | मैंने रूबी को खूब चोदा और जब उसे चोदते चोदते मन भर गया तो उसे घर जाने के लिए बोल दिया और वो थोड़ी देर बाद चली गयी | फिर उसके कई दिन बाद मैंने उसे फिर घर बुलाकर चोदा और इसी तरह हर बार मैं उसे अपने घर बुलाकर चोदता रहता था | फिर उसके बाद मेरा मन उसे हट गया मैं उसे चोद चोद के बोर हो गया था फिर मुझे उसे चोदे का मन नहीं करता था | फिर मैंने दूसरी लड़की पटाना स्टार्ट कर दिया और रूबी से बात करना कम कर दिया | रूबी मुझे रोज फ़ोन लगाती रहती थी लकिन मैं उससे ज्यादा बात नहीं करता था क्योकि मुझे तो अब और कोई चूत चाहिए थी | फिर मुझे एक और लडकी पसंद आ गई वो मेरे ही मोहल्ले में रहती थी और एक नंबर दिखती थी उसके दूध बहुत मस्त थे और वो इतनी सेक्सी थी कि उसे पहली बार देखते ही मेरा लंड खड़ा हो गया था | मैं उसे रोज देखा करता था | वो रोज कोचिंग जाती थी उसकी कोचिंग मेरे घर के पीछे ही लगती थी | वो रोज मेरे घर के सामने से निकलती थी कोचिंग जाते समय तो जब भी जितने भी टाइम वो कोचिंग के लिए मेरे घर के सामने से निकलती मैं सामने खड़ा हो जाता | वो साइकल से कोचिंग जाती थी और जब वो मुझे देखती थी तो मैं उसे देख कर स्माइल किया करता था और मैं उसे रोज देखता था | फिर एक दिन उसकी साइकल मेरे घर के सामने पंचर हो गई | तो उसे साइकल की चैन चढाते नहीं बन रही थी फिर मैंने सोचा यही अच्छा मौका है उसे बोलने का कि में तुमको लाइक करता हूँ | मैं उसके पास गया और उसे उसका नाम पूछा कि तुम्हारा नाम क्या है तो उसने अपना नाम अंकिता पांडे बताया फिर मैंने उसे बोला कि मैं तुम्हारी साइकल की चैन चढ़ा देता हूँ | फिर मैंने उसकी साइकल की चैन चढ़ा दी फिर उसने मुझे थैंक्स बोला और कहने लगी कि तुम मुझे देख कर इतना स्माइल क्यों करते रहते हो | तो मैंने उसे कहा कि मैं तुमको बहुत लाइक करता हूँ मुझे तुमसे प्यार हो गया है | यह बात सुनकर वो शरमा के अपनी साइकल लेकर कोचिंग चली गयी | फिर जब वो दूसरे दिन कोचिंग के लिए आई तो वो मुझे देख कर स्माइल कर रही थी फिर मैंने सोचा लड़की हसी तो फसी | फिर मैंने बिना कुछ सोचे जाकर उसे कह दिया की में तुमको अपनी गर्लफ्रेंड बनाना चाहता हूँ | मैं तुमसे बहुत प्यार करता हूँ | फिर वो भी मेरे प्यार के चक्कर में पड़ गयी और मुझसे पट गयी | वो भी मुझसे बहुत प्यार करने लगी और कहने लगी कि मैं भी तुमको बहुत प्यार करने लगी हूँ | दूसरे दिन मैंने उसका नंबर ले लिया और उससे भी रूबी की तरह फ़ोन पर बहुत बात करने लगा और फिर जब हम खुल गए तो मैं उससे सेक्स चोदम चुदाई की बात करने लगा | वो यह सेक्सी बात सुनकर बहुत हसा करती थी | फिर मैं समझ गया था कि अंकिता अब मुझे चोदने को मना नहीं कर सकती वो भी रूबी की तरह मुझे प्यार करने लगी थी | फिर मैंने एक दिन अंकिता से भी बोला अंकिता आज मुझे तुमको चोदने का बहुत मन कर रहा है | मुझे तुमको आज चोदना है | तो अंकिता मुझसे कहने लगी अच्छा ओके आ जाओ मेरे घर और चोद लो मुझे क्योकि कुछ घंटो के लिए मम्मी पापा बाहर गये हुए है | जल्दी मेरे घर आ जाओ | फिर में जल्दी से उसके घर गया और उसके घर पहुचते ही अंकिता को पकड़कर पलंग पर लेटा दिया उसके पुरे कपडे उतार कर उसे चोदने लगा | अंकिता आआहाआह ऊउन्न् आहाहाह ऊउम्म्म ऊनंह अआहा आअह्ह्हाअ अहहहः अहहाआअ ऊउन्न ऊउम्म्ह आआनाहा ऊउन्न्ह ऊम्म्ह आहाहाहा ऊनंह ऊउम्ह आहाहहा ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह अहहहः आआहाआह ऊउन्न् आहाहाह ऊउम्म्म ऊनंह अआहा आअह्ह्हाअ अहहहः अहहाआअ ऊउन्न ऊउम्म्ह आआनाहा ऊउन्न्ह ऊम्म्ह आहाहाहा ऊनंह ऊउम्ह आहाहहा ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह अहहहः करने लगी और फिर उसके बाद मैं अंकिता के मस्त बड़े बड़े दूध पीने लगा | रूबी से ज्यादा मुझे अंकिता को चोदने में मज़ा आ रहा था | मैंने अंकिता को बहुत चोदा पूरे तीन घंटे तक | अंकिता को बहुत मजा आया चुदने में वो मुझसे और चुदने को बोल रही थी | मैंने अंकिता को फिर चोदा और उसे भी रूबी की तरह कई बार चोदा |

फिर मैं दूसरी लड़की पटाने में लग गया | इसी तरह मैंने कई लडकियों को पटाया और उनकी चुदाई करता रहा | आज भी मैं लड़की पटाता हूँ और चोदता हूँ अपने लंड की प्यास बुझाने के लिए |


error: