बॉस के साथ रंगरलिया


Hindi sex stories, desi kahani

हाय फ्रेंड्स, मेरा नाम आकृति है और मैं बिलासपुर की रहने वाली हूँ और मेरी उम्र 23 साल है और मैं दिल्ली में रह कर एक प्राइवेट कंपनी में जॉब करती हूँ | मेरा रंग गोरा है और मेरी हाईट 5 फुट 6 इंच हाईट है और मेरा बदन भी सेक्सी और हॉट है | मेरे बूब्स का साइज़ 30 है और मेरी कमर 34 है और गांड 36 उठी हुई और चौड़ी है | ये है मेरा सेक्सी बदन क्या सोच रहे हो आप लोग ? कि मैं इतनी सेक्सी हूँ तो मुझे चुदाई का चसका कैसे लगा ? इसलिए आप लोगो को लिए मैं यहाँ कहानी लिखने आई हूँ ताकि आप लोगो को कुछ अपने बारे में बता कर अपने मन को शांत कर सकूँ | दरअसल में कोई चुदक्कड नहीं हूँ बस मैंने अपने फायेदे के लिए एक बार अपनी चूत की चुदाई करवाई थी | वैसे मैं दिल्ली शहर में नयी हूँ और मैं यहाँ पर ज्यादा किसी कोई मतलब नहीं रखती हूँ क्यूंकि मैं बहुत अच्छे से जानती हूँ कि यहाँ की लड़कियां बहुत बदमाश हैं और दारू पीना उनकी हॉबी है | सभी लड़कियों की ख्वाहिश होती है कि वो बिना किसी पाबन्दी के घुमे फिरे और जो करना चाहे कर सकती हैं वो भी बिना किसी रोक टोक के जैसे लडको के साथ होता है उन्हें कोई रोकने टोकने वाला नहीं होता | मैं भी जानती हूँ कि लड़कियों को हद में रहना चाहिए लेकिन मेरी बात ये समझ में नहीं आती कि ये कानून लडको के लिए यूँ नहीं बनता ? आखिर क्यूँ उन लोगो को खुल्ला सांड की तरह छोड़ दिया जाता है ? चलो ये तो रही दूसरी बात अगर मैं इससे बाहर न आई तो यही मुक़दमा हो जाएगा | इसीलिए अब मैं आप लोगो का ज्यादा समय नहीं लेते हुए अपनी कहानी लिखना चालू करती हूँ |

मेरे घर में मेरे पापा जो कि सरकारी नौकरी करते हैं और मेरी मम्मी सरकारी स्कूल में इंग्लिश की टीचर हैं | मेरी बड़ी बहन जो कि एम.एन.सी कंपनी में जॉब करती है और मेरी एक छोटी बहन है जो अभी स्कूल की पढाई कर रही है | शुरू से ही हमारे घर का माहौल ऐसा रहा है कि सभी को पढ़ाई अच्छे से करनी चाहिए और सभी को अपने पैरो पर खड़े रहना चाहिए | इसलिए जब मेरा स्कूल टाइम खत्म हुआ तो मैंने अपने से छोटे बच्चो को कोचिंग पढ़ाना चालू कर दी और और जब मैंने कॉलेज की पढ़ाई खत्म की तो मैंने अपने लिए जॉब ढूंढना चालू कर दी | पर मेरी किस्मत में कुछ और ही लिखा था इसलिए मेरी किस्मत ने मुझे दिल्ली  खींच लाइ और मेरा यहाँ की एक बहुत बड़ी कंपनी में सिलेक्शन हो गया | मुझे यहाँ पर कुछ ही समय हुआ था और मुझे यहाँ के बारे में एक चीज़ पता चली कि जो लड़की यहाँ पर बॉस के साथ सेक्स करती है उसका प्रमोशन जल्दी हो जाता है | अब ये बात मेरे मन में बार बार खटकने लगी | मैंने भी सोचा कि अगर मैं अपने बॉस के साथ सेक्स कर लूं तो मेरा भी सिलेक्शन हो जायेगा | मैं प्रेजेंटेशन बनाने में बहुत ही फास्ट और सुपर थी तो एक बार मेरे बॉस ने मुझे अपना एक प्रेजेंटेशन तैयार करने को कहा तो मैंने इतना गजब का प्रेजेंटेशन बनाया कि सभी को बहुत पसंद आया और हमारी कम्पनी की एक बहुत बड़ी डील फाइनल हो गई | ये देख कर बॉस मुझसे इम्प्रेस हो गए और कहने लगे कि तुम्हे क्या चाहिए तो मैंने कहा सर मुझे प्रमोशन चाहिए | तो सर ने कहा कि इसके लिए तो तुम्हे मेरे घर आना होगा तो मैंने भी बेजिझक कहा दिया ठीक है सर मैं आपके घर आ जाउंगी | फिर मैं मस्त तैयार हो कर उनके घर पंहुची तो उन्होंने बहुत अच्छे से मेरा स्वागत सत्कार किया और फिर उन्होंने अच्छी सी एक ड्रेस गिफ्ट किया और गिफ्ट देते हुए कहा कि तुम्हे मेरे साथ सेक्स करना होगा तो मैंने भी उन्हें मना नहीं किया तो फिर  उन्होंने मुझे अपनी तरफ खींच कर अपनी बांहों में भर लिया और मैं उसकी बांहों में गिर कर उसके गले पर अपने हाँथ लपेट ली |

loading...

हम दोनों एक दुसरे की बांहों में कुछ समय बिताया और फिर उन्होंने अपने होंठ मेरे होंठ से लगा लिया और मेरे होंठ को चूसने लगा | मैं भी उसका साथ देते हुए उसके होंठ को चूसने लगी | मुझे ऐसा करना बहुत अच्छा लग रहा था | वो मेरे होंठ को चूसते हुए मेरे बूब्स को मसल रहा था और मैं उसके होंठ को चूसते हुए उसके लंड को पेंट के ऊपर से ही उसके लंड का जाएजा कर रही थी कि कितना बड़ा लंड होगा उसका | हम दोनों ने लगभग 10 मिनट तक एक दुसरे के होंठ को किस किया | उसके बाद उन्होंने मेरे शर्ट के बटन को खोल कर मुझे आधी नंगी कर दिया ऊपर से और मेरे बूब्स को ब्रा के ऊपर से ही मसलने लगा तो मेरे मुंह से आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह की सिस्कारियां निकलने लगी | कुछ देर के बाद उन्होंने मेरे ब्रा को भी ऊपर कर के उतार दिया और मेरे दोनों बूब्स को मसलते हुए अपने मुंह में ले कर चूसने लगा और मैं आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह करते हुए उसके सिर पर हाँथ फेरने लगी | वो मेरे दोनों बूस्ब को एक एक कर के चूस रहा था मसल मसल कर और मैं आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह करते हुए जोर जोर से सिसकियाँ ले रही थी | उसके बाद मैंने उसके शर्ट के बटन को खोल कर उसके जिस्म को आधा नग्न कर उसके पेंट के को भी उतार दी और उसके बाद मैंने उसे सोफे पर धक्का दे कर बैठा दिया | अब मैं उसके लंड को चड्डी के ऊपर से ही सहलाने लगी और थोड़ी देर के बाद वो भी उतार कर उसे पूरा नंगा कर के उसके लंड को हाँथ में ले कर सहलाने लगी | जब लंड एक दम कड़क हो गया तो मैंने उसके लंड को अपने जीभ से चाट कर गीला करने लगी तो उसके मुंह से भी आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह की सिसकियाँ निकलने लगी | मैं उसके लंड के हर एक हिस्से को बड़े ही प्यार से जीभ से सहला रही थी और वो आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह करते हुए जोर जोर से आन्हे ले रहा था | फिर मैने उसके लंड को अपने मुंह में डाल कर चूसने लगी और वो आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह करते हुए मेरे निपल्स को ऊँगली से मसलने लगा |

मुझे अच्छा लग रहा था उसका ऐसा करना | मैं भी उत्तेजना में उसके लंड को जोर जोर से ऊपर नीचे करते हुए चूस रही थी और वो आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह करते हुए मेरे मुंह को अपने लंड पर दबा रहा था लेकिन मैं ज्यादा अन्दर तक उसका लंड नहीं ले सकती थी | मैंने अपनी स्कर्ट को उतार दिया और उन्होंने मेरी पेंटी को उतार कर मुझे भी पूरा नग्न कर दिया | अब उन्होंने मुझे सोफे पर बैठा दिया और मेरे दोनों पैरो को अपने कंधे में रख कर मेरी चूत को चाटने लगा और मैं आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह करते हुए उचकने लगी | वो मेरी चूत को जीभ से रगड़ रगड़ कर चाट रहा था और मैं आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह करते हुए अपने बूब्स को मसल रही थी | फिर उन्होंने अपने लंड को मेरी चूत के मुख्य द्वार पर रखा और अन्दर घुसेड दिया और चोदने लगा धक्के मारते हुए और मैं आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह करते हुए सिसकियाँ लेने लगी | वो मेरी चूत को जोर जोर से धक्के मारते हुए चोद रहा था और मैं आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह करते हुए अपनी गांड उचका उचका कर चुदाई में साथ दे रही थी | फिर उन्होंने अपने लंड को बाहर निकाल लिया और मेरे दोनों पैरो को अपने कंधे में रख करा चोदने लगा जोर जोर से और मैं आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह करते हुए चुदाई का मजा ले रही थी | कुछ देर की चुदाई के बाद उन्होंने अपना वीर्य मेरे ऊपर ही झड़ा दिया |