भाभी और उसकी कमसिन गांड की चुदाई


हेल्लो बकरचुदों कैसे हो आ गए न यहाँ पे मेरे पास | नहीं रह पाए न मेरे बिना देखा मेरी कहानियों का कमाल ही कुछ ऐसा है जिससे कोई नहीं बच पाता | तो आज भी मेरे पास एक कहानी है और मैं उसे आपको सुनाऊंगा और मज़े दिलाऊंगा | तो बात कुछ ऐसी है कि ऐसी ही है | दोस्तों मुझे तो ऐसा लग रहा है जैसे मुझे कोई खींच रहा है आपकी तरफ | और ये तो कुछ भी नहीं मुझे चूत का भूत भी लग चूका है | मैंने इसे अपने दिल में बसा के रख लिया है क्यूंकि किसी की भी चूत को मैं भूल नहीं सकता और मुझे कुछ और नहीं बस महीने में दो चूत की ज़रूरत रहती है | मैंने कई बार ये देखा है कि लोग रंडी के पास जाते हैं और अपनी हवस मिटाते है पर ये भूल जाते कि अगर वही पैसा किसी लड़की पे लगा देंगे तो उनको टाइट चूत का मज़ा मिल जाएगा | इसलिए मैं एक ही सिद्धांत पे चलता हूँ चोदो तो लड़की या भौजी नहीं तो अपना हाथ जगन्नाथ | और चूत की सेवा तो मैं करता ही रहता हूँ दिन रात अपने लंड से और अपने हाथ और मुह से भी |

मैंने दोस्तों कई कहानियाँ लिखी हैं पर मुझे ये एहसास नहीं हुआ कि मुझे कुछ नया करना चाहिए और मैंने फिर कुछ नया ही किया | है मैंने लड़की को ऊपर से नहीं बल्कि उलटा करके नीचे से चोदा | अब इतनी मशक्कत कौन करता है आज के ज़माने में मैंने तो करली पर आगे न जाने कौन होगा वो मेरा भाई जो इतना खतरनाक काम करके मेरा सर गर्व से ऊंचा करेगा | चलो कोई बात नहीं नित नए नियम बनते हैं और टूट भी जाते हैं |इसलिए आज मैं आपके सामने एक नहीं बल्कि अपनी वही चुदाई की कहानी लाया हूँ जिसे मैंने कभी किसी को नहीं बताया और मुझे ख़ुशी है कि आज सब इसे सुनके अपने लंड को मसलने लगेंगे | मैंने जिस भी इंसान से कहानी बताई वो मेरी बात का विश्वास ही नहीं करता कहता है ऐसा कभी हो सकता है क्या पर मैं आज आप लोगो से सुनना चाहता हूँ की ऐसा क्यों नहीं हो सकता | इसलिए चलिए अब अपन चलते है मेरी कहानी की तरफ जहाँ पे मैं आपको बताऊंगा अपनी अनोखी चुदाई के बारे में और आप लोग ही तय करना क्या सही है और क्या गलत |

तो बात है आज से दस साल पहले की जब मैं अपने गाँव में रहता था और अपनी भाभी को देखके मुठ मारता था क्यूंकि वो इंतनी सुन्दर थी | वो तो मैं चुदाई करते हुए पकड़ गया था इसलिए मुझे निकाल दिया गया पर भाभी के साथ चुदाई की बात आज तक किसी को नहीं पता है | तो होता ये ता की आप तो जानते है पहले के समय में बाथरूम में बस अदि लटका के लडकियां और भाभियाँ नहा लेती थी और मुझे इस चीज़ का बड़ा इंतज़ार रहता था | मेरी भाभी का भरा हुआ बदन क्या सामान था अब तो वो झूल गयी है क्यूंकि एक दिन में दस बार चुदाई करवाती थी मुझसे और मेरे भाई से | इउस्लिये अब उसका बदन बिलकुल ढीला हो गया है | तो अब में आता हूँ अपनी कहानी पे तो बहभी जब नहाने जाती तो मैं चुपके से उसको देखता और वो कबी अपने दूध पे साबुन लगाती और कभी अपने चूत के बालों पे हाथ से रगडती | मेरा लंड तो था ही कुंवारा और मुझे चुदाई की आस हमेशा रहती थी इसलिए मैं उसको देखके अपना लंड हिलाता रहता था | पर एक बार मुझसे बड़ी गलती हो गयी |

एक बार जब वो नहा रही थी और अपने बड़े बड़े दूध को मसल रही थी तब में वही पे लंड हिलाने लगा | मैंने देखा भी नहीं की अगर मेरा माल गिरेगा तो सीधा उसपे ही गिरेगा क्यूंकि मैं उसको देखने में और उठ मारने में इतना मगन हो गया था | जैसे ही मेरा मुठ निकला सीधा भाभी के ऊपर गया और उसने तुरंत ऊपर देखा अब मेरे हाथ में मेरा लंड और उसकी नज़रे मुझ पे | मैंने अपने लंड को छोड़ दिया और भाग गया | भाभी नहा के घर के अन्दर आई और उसने मुझे बुलाया और कहा क्यों तूने ये क्या किया और कब से देख रहा है तू मेरा बदन | मैं डरा हुआ था तो बोला भाभी मुझसे रहा नहीं जाता और तेरा बदन देखके दो मं में मुठ निकल आता है | उसने तुरंत मेरा पेंट हटाया और मेरे लंड को हाथ में लेके चूम लिया और कहा मैंने इसको देखा है जब तू भाग रहा था | अब मैं इसको खा जाउंगी मैंने कहा भाभी आप ये क्या कर रही हो तब उसने कहा मैंने इतना बड़ा लंड नहीं देखा है अभी तक इसलिए मैं इसको खा जाउंगी | ब्भाभी के चूने भर से ही मेरा लंड उफान पे आ गया था | फूल के मेरा लंड करीब 9 इंच का हो गया और भाभी ने जैसे ही मेरे सुपाडे को मुह में लिया मेरा माल तुरंत उनके मुह में गिर गया | पर भाभी ने कुछ नहीं कहा क्यूंकि मेरा लंड खड़ा ही था तब से | जैसे ही भाभी ने मेरे लंड को चूसना चालु किया मैंने अहहाआअ ऊउन्न ऊउम्म्ह आआनाहा ऊउन्न्ह ऊम्म्ह आहाहाहा ऊनंह ऊउम्ह आहाहहा ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह अहहहः अहहाआअ ऊउन्न ऊउम्म्ह आआनाहा ऊउन्न्ह ऊम्म्ह आहाहाहा ऊनंह ऊउम्ह आहाहहा ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह अहहहः …….. उम्म्म्मम्म्म्मम्म्म्म करना चालू कर दिया |

अब मेरा लंड उसके मुह में था और उसने अपने दूध बाहर निकाले और कहा ले पकड़ के बड़ा इनको जोर जोर से | जब मैंने ये किया उसने मेरा लंड चूसना चालू रखा और मुझे मज़ा आ रहा था | मैंने फिर उससे कहा चाची आप खुद का माल भी तो पिलवाओ | वो लेट गयी और कहा आजा मेरे ऊपर और मेरे दूध को चूस | मैंने जैसे ही उसको चूसना चालू किया वो अहहाआअ ऊउन्न ऊउम्म्ह आआनाहा ऊउन्न्ह ऊम्म्ह आहाहाहा ऊनंह ऊउम्ह आहाहहा ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह अहहहः अहहाआअ ऊउन्न ऊउम्म्ह आआनाहा ऊउन्न्ह ऊम्म्ह आहाहाहा ऊनंह ऊउम्ह आहाहहा ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह अहहहः …….. उम्म्म्मम्म्म्मम्म्म्म करने लगी और मचलने लगी | उसके बाद मैं धीरे ध्हीरे उसके पेट को भी चाट रहा था और मेरी लार उसकी नाभि में गिर रही थी | फिर उसने मुझे नीचे ढकेला और कहा अब मेरी चूत को चाट | पर उसकी चूत पे बहुत सारे बाल थे इसलिए पहले मैंने बालो को सूंघ तो उनमे से एक मादक महक आने लगी | अब तो मैं पूरा बेकाबू घोडा बन गया और जो उसकी चूत में मुह लगाया तो फिर रुका ही नहीं | मैंने इतनी जम से उसकी चूत चाटी की वो बस अहहाआअ ऊउन्न ऊउम्म्ह आआनाहा ऊउन्न्ह ऊम्म्ह आहाहाहा ऊनंह ऊउम्ह आहाहहा ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह अहहहः अहहाआअ ऊउन्न ऊउम्म्ह आआनाहा ऊउन्न्ह ऊम्म्ह आहाहाहा ऊनंह ऊउम्ह आहाहहा ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह अहहहः …….. उम्म्म्मम्म्म्मम्म्म्म ही करती रह गयी |

मैंने उसकी चूत को चाटना चालू रखा और उसने दो बार गरमा गरम लावा मेरे मुह पे डाला और उसके बाद मैंने उसकी चूत को चाट के साफ कर दिया | अब उसने मुझे कहा बस देर न कर लंड डाल दे मेरी चूत में | मैंने लपक के उसकी चूत में डालने की कोशिश की पर बार बार लंड सटक के बाहर आ जा रहा था | फिर उसने मेरा लंड पकड़ा और धीरे से अन्दर डाला और कहा अब चोद मुझे | मैंने उसको धीरे धीरे से चोदना चालू किया तब उसने मुझे चिल्ला के कहा जैम से चोद मादरचोद | मैंने एक दम से अपनी रफ़्तार बढ़ा दी और फिर वो अहहाआअ ऊउन्न ऊउम्म्ह आआनाहा ऊउन्न्ह ऊम्म्ह आहाहाहा ऊनंह ऊउम्ह आहाहहा ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह अहहहः अहहाआअ ऊउन्न ऊउम्म्ह आआनाहा ऊउन्न्ह ऊम्म्ह आहाहाहा ऊनंह ऊउम्ह आहाहहा ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह अहहहः …….. उम्म्म्मम्म्म्मम्म्म्म करने लगी | मैंने उसको चोदना बंद नहीं किया |

अब उसने मेरा लंड चूत से निकाला तो उसपे सफ़ेद सा कुछ गाढ़ा गाढ़ा मलाई जैसा लगा था | वो उसको चाटने लगी और मेरा लंड फिर से चूसने लगी | मैंने अहहाआअ ऊउन्न ऊउम्म्ह आआनाहा ऊउन्न्ह ऊम्म्ह आहाहाहा ऊनंह ऊउम्ह आहाहहा ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह अहहहः अहहाआअ ऊउन्न ऊउम्म्ह आआनाहा ऊउन्न्ह ऊम्म्ह आहाहाहा ऊनंह ऊउम्ह आहाहहा ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह अहहहः …….. उम्म्म्मम्म्म्मम्म्म्म करना शुरू किया | उसने मुझसे कहा मेरी चूत को चाट और मैंने वही मलाई चाटी और पागल हो गया | फिर वो उलटी लेट गयी और अपने गांड का छेड़ खोल दिया और कहा इसमें अपना लंड डाल दे | मैंने अपना लंड अन्दर डाला तो ऐसा लगा जैसे मेरा लंड फट गया है | इतना कसा हुआ छेड़ था उसका पर मैंने उसकी गांड भी फाड़ दी | अब हम दोनों अहहाआअ ऊउन्न ऊउम्म्ह आआनाहा ऊउन्न्ह ऊम्म्ह आहाहाहा ऊनंह ऊउम्ह आहाहहा ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह अहहहः अहहाआअ ऊउन्न ऊउम्म्ह आआनाहा ऊउन्न्ह ऊम्म्ह आहाहाहा ऊनंह ऊउम्ह आहाहहा ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह अहहहः …….. उम्म्म्मम्म्म्मम्म्म्म कर रहे थे और वो मस्त मुझसे चुदाई करवा रही थी | मैंने उसको दो तीन घंटे तक चोदा और तीन बार उसके अन्दर झड़ भी गया और हु बी मेरे ऊपर मूत देती थी | उसके बाद ये सिलसिला जारी रहा |

भैया भी उसको रात में कई बार चोदते थे और मुझे कमरे से अहहाआअ ऊउन्न ऊउम्म्ह आआनाहा ऊउन्न्ह ऊम्म्ह आहाहाहा ऊनंह ऊउम्ह आहाहहा ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह अहहहः अहहाआअ ऊउन्न ऊउम्म्ह आआनाहा ऊउन्न्ह ऊम्म्ह आहाहाहा ऊनंह ऊउम्ह आहाहहा ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह अहहहः …….. उम्म्म्मम्म्म्मम्म्म्म की आवाज़ आती रहती थी |


error: