बस एक पल


नमस्कार मेरे प्यारे पाठको, कैसे हैं आप सभी ? मैंने आशा करता हूँ कि आप सभी अच्छे होंगे | मेरा नाम गोविंदा है और मैं बिलासपुर में रहता हूँ | मेरी उम्र 18 साल है और मैं कॉलेज की पढाई कर रहा हूँ | मेरा रंग रूप गोरा है और कद काठी भी अच्छी है | आज मैं अपनी एक कहानी ले कर आप सभी के सामने आया हूँ | ये भले ही मेरी पहली कहानी है पर मेरे जीवन की एक दम सच्ची घटना है | ये कहानी मेरे और मेरी प्रोफेसर की कहानी है | तो अब मैं आप लोगो का ज्यादा समय ना लेते हुए अपनी कहानी शुरू करता हूँ |

ये घटना अभी कुछ महीने पहले की है | मेरी एक मैथ्स की टीचर हैं जिनका नाम आकांशा है और वो शादीशुदा हैं | पर उनके पति बाहर जॉब करते हैं जिस वजह से वो बहुत ही सज धज कर कॉलेज में आती हैं | वो दिखने में बहुत सुन्दर हैं और गोरी हैं | उनका फिगर बहुत ही प्यारा है जिसे हम ये कह सकते हैं कि खुदा ने बड़े ही फुर्सत से बनाया होगा | मेरी क्लास में बस एक मैं ही मैथ्स वाला स्टूडेंट हूँ बाकि सब प्लेन वाले हैं | तो वो जब भी मुझे पढ़ाती तो मैं पढाई छोड़ कर उन्हें लाइन मारने लगता | मैडम का नेचर बहुत ही अच्छा है वो काफ़ी मजाकिया भी हैं | हम पढाई के साथ साथ हंसी मजाक भी कर लिया करते हैं | एक दिन कि बात है शायद उनका पढ़ाने का मन नही था तो उन्होंने कहा कि गोविंदा आज मेरा मन नही है पढ़ाने का तो तुम चाहो तो घर जा सकते हो | तो मैंने कहा कि मैडम अभी नही थोडा रोक के जाऊंगा | तो मैडम ने पूछा कि क्यू मन नही है क्या तुम्हारा घर जाने का ? तो मैंने कहा कि इतनी जल्दी घर जा कर क्या करूँगा मैं बोर ही तो होता हूँ घर जा कर | फिर मैडम ने पूछा कि क्यू कोई गर्लफ्रेंड नही है क्या तुम्हारी बात करने के लिए ? तो मैंने कहा कि नही मैडम कोई नही है मेरी | काश कोई होती | तो मैडम ने पूछा कि तुम्हे कैसी लड़की पसंद है ? तो मैंने उन्हें बताया कि मुझे सीधी सादी और सुन्दर लड़की बहुत पसंद है | तो मैडम ने कहा कि ये तो लुक वाइज हुआ अब ये बताओ फिजिकली कैसी होनी चाहिए ? तो मैंने कहा कि उसका फिगर अच्छा होना चाहिए ब्रैस्ट बड़े होने चाहिए और ऐस गोल और चौड़े होने चाहिए | तो मैडम ने कहा कि ऐसा फिगर तो मेरा है | तो क्या तुम मुझे भी पसंद करते हो | मैंने कहा कि मैडम वैसे भले ही आप शादीशुदा हो पर लगती एक दम पटाखा हो | तो मैडम ने मुझसे कहा कि अच्छा बेटा तो तुम मुझे लाइन मारोगे क्या ? मैंने कहा कि काश लाइन की जगह कुछ और मारने मिल जाता | मैडम ने पूछा कि क्या कहा तुमने ? मैंने कहा कुछ नही मैडम मैंने तो कुछ नही कहा | फिर मैडम ने बोली कि देखो ज्यादा झूट मत बोलो सीधा सीधा बताओ क्या कहा था तुमने अभी ? तो मैंने बोल दिया कि मैंने कहा था कि लाइन की जगह कुछ मारने मिल जाता | मैडम भी समझ गयी थी कि मैं डबल मीनिंग बात करने लगा | वो भी बड़े इंटरेस्ट ले कर बात करने लगी | उन्होंने मुझसे कहा कि बताओ क्या लाइन की जगह तुम्हे क्या मारना है ? तो मेरे मुंह से अचानक निकल गया कि आपकी गांड | पर वो नार्मल ही थी ये सुन कर भी तो मुझे लगा कि भाई अब कहानी सेट है ये भी चुदासी है |

 

loading...

तो उन्होंने पूछा कि कभी चुदाई किये हो ? मैंने कहा कि नही कभी मौका ही नही मिला और कोई गर्लफ्रेंड ही नहीं है तो मुझे कैसे चुदाई का मौका मिलता | फिर उन्होंने कहा कि चलो कोई बात नही | अच्छा सुनो न अगर तुम शाम या रात कभी भी फ्री रहो तो मेरे घर आ सकते हो क्या ? तो मैंने पूछा उनसे क्यू कुछ काम है क्या आपको ? तो उन्होंने कहा कि हाँ काम तो है पर अगर तुम फ्री नही हो तो इट्स ओके | मैंने कहा कि मैं तो फ्री ही रहता हूँ शाम को आप बोलिए कितने बाजे आऊ मैं ? तो उन्होंने कहा कि जब भी तुम्हारा आने का मन हो तो आ जाना | मैंने कहा ठीक है मैं शाम को 7 बजे आ जाऊंगा | फिर कुछ देर ऐसे ही बात चलते रही उसके बाद पीरियड ओवर हो गया तो मैं अपने घर आ गया | घर में आने के बाद मैंने खाना खाया और उसके बाद मैं अपने कमरे में चला गया | फिर मैंने अपना 8 इंच लम्बा लंड निकाला और मुठ मारने लगा मैडम के नाम की | मैं मन में ये सोच रहा था कि मैडम नंगी होगी तो कैसी लगेगी और कैसे चोदुंगा उन्हें | ये ही सब सोच सोच कर मैं झड़ गया | उसके बाद मेरी नींद ही लग गयी | जब मेरी नींद खुली तो देखा कि घडी में 7:30 बज रहे हैं | फिर मैं जल्दी जल्दी फ्रेश हुआ | क्रीम पाउडर और डियो डाल कर उनके घर के लिए निकल गया | जब मैं उनके घर पंहुचा और दरवाजा खटखटाया तो उन्होंने दरवाजा खोलते हुए बोली कि लेट हो गए तुम आने में तो मैंने कहा कि हाँ मैडम मैं सो गया था इसलिए | फिर मैडम घर के अन्दर गया तो उन्होंने मुझे बैठने के लिये कहा | फिर हम दोनों बैठ कर बात करने लगे तो मैंने उसे पूछा कि क्या काम है आपको ? तो उन्होंने कहा कि मेरे पति बाहर जॉब करते हैं | मै यहाँ अकेली रह जाती हूं | वो कभी कभी ही घर आते हैं जिस वजह से मैं चुदासी रह जाती हूँ | हर बार मुझे कभी ऊँगली से तो कभी मूली डाल कर काम चलाना पड़ता है | तो क्या तुम मुझे चोद कर संतुष्ट कर सकते हो ? तो मैंने कहा कि हां ये तो मेरा सौभाग्य होगा | उसके बाद मैंने उनके होंठ में अपने होंठ रख दिए और उनके होंठ को चूसते किस करने लगा | वो भी मेरा साथ देते हुए किस करने लगी | फिर उसके बाद मैंने उनके सूट को उतार दिया और ब्रा के ऊपर से ही उनके बड़े बड़े दूध को दबाने लगा तो वो आआहाआ ऊऊन्न्ह ऊऊम्म्ह ऊउम्म ऊउन्न्ह अहहाआअहाअ अहहहा हहहाआअ अहहहाआ ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह ऊनंह ऊउम्म्म्ह अहहहाआआअ आहाआआउन्ह ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह आहा आआआहा ऊउम्म्ह ऊउन्न्ह आअहाआअ करते हुए सिस्कारिया लेने लगी |

 

उसके बाद मैंने उनकी ब्रा भी अलग कर दिया और अब मैं उनके बड़े बड़े दूध को अपने मुंह में ले कर चूसने लगा मसलते हुए | वो भी आआहाआ ऊऊन्न्ह ऊऊम्म्ह ऊउम्म ऊउन्न्ह अहहाआअहाअ अहहहा हहहाआअ अहहहाआ ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह ऊनंह ऊउम्म्म्ह अहहहाआआअ आहाआआउन्ह ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह आहा आआआहा ऊउम्म्ह ऊउन्न्ह आअहाआअ करते हुए मेरी सिर के बालो को सहलाने लगी | उसके बाद उन्होंने मेरी टी-शर्ट उतार दी और मेरे जीन्स को भी उतार दी | उसके मैंने अपनी अंडरवियर उतार दिया और पूरा नंगा हो गया उसी बीच वो भी नंगी हो गयी | अब वो मेरे लंड को पकड़ कर चाटने लगी तो मेरे मुंह से आआहाआ ऊऊन्न्ह ऊऊम्म्ह ऊउम्म ऊउन्न्ह अहहाआअहाअ अहहहा हहहाआअ अहहहाआ ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह ऊनंह ऊउम्म्म्ह अहहहाआआअ आहाआआउन्ह ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह आहा आआआहा ऊउम्म्ह ऊउन्न्ह आअहाआअ की सिस्कारिया निकलने लगी | फिर उन्होंने मेरे लंड को अपने मुंह में डाल ली और चूसने लगी आगे पीछे करते हुए और मैं आआहाआ ऊऊन्न्ह ऊऊम्म्ह ऊउम्म ऊउन्न्ह अहहाआअहाअ अहहहा हहहाआअ अहहहाआ ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह ऊनंह ऊउम्म्म्ह अहहहाआआअ आहाआआउन्ह ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह आहा आआआहा ऊउम्म्ह ऊउन्न्ह आअहाआअ करते हुए उनके मुंह को चोदने लगा | उसके बाद मैंने उन्हें बिस्तर पर लेटा दिया और उनकी चूत को चाटने लगा तो वो आआहाआ ऊऊन्न्ह ऊऊम्म्ह ऊउम्म ऊउन्न्ह अहहाआअहाअ अहहहा हहहाआअ अहहहाआ ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह ऊनंह ऊउम्म्म्ह अहहहाआआअ आहाआआउन्ह ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह आहा आआआहा ऊउम्म्ह ऊउन्न्ह आअहाआअ करते हुए मेरे सिर को अपने चूत में दबाने लगी |

फिर मैंने उनकी टांगो को चौड़ा की और अपना लंड उनकी चूत में टिका कर अन्दर डालने लगा | जब मेरा लंड उनकी चूत में घुस गया तो मैं जोर जोर से धक्का मार मार के चोदने लगा और वो भी आआहाआ ऊऊन्न्ह ऊऊम्म्ह ऊउम्म ऊउन्न्ह अहहाआअहाअ अहहहा हहहाआअ अहहहाआ ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह ऊनंह ऊउम्म्म्ह अहहहाआआअ आहाआआउन्ह ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह आहा आआआहा ऊउम्म्ह ऊउन्न्ह आअहाआअ करते हुए गांड उठा उठा कर चुवाने लगी | मैंने फिर उन्हें घोड़ी बना दिया और पीछे से लंड डाल कर चोदने लगा और वो भी आआहाआ ऊऊन्न्ह ऊऊम्म्ह ऊउम्म ऊउन्न्ह अहहाआअहाअ अहहहा हहहाआअ अहहहाआ ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह ऊनंह ऊउम्म्म्ह अहहहाआआअ आहाआआउन्ह ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह आहा आआआहा ऊउम्म्ह ऊउन्न्ह आअहाआअ करते हुए चुदाई का मजा ले रही थी | करीब आधे घंटे की चुदाई के बाद मैंने अपना माल उसके मुंह के ऊपर छोड़ दिया | अब हम तो हम रोज ही चुदाई करते है |

तो दोस्तों ये थी मेरी कहानी | मैं उम्मीद करता हूँ कि आप सभी को मेरी ये कहानी जरुर पसंद आई होगी | मैं वादा करता हूँ कि आप सभी के लिए ऐसी ही मजेदार कहानिया लिखता रहूँगा |


error: