बचपन का प्यार


romance sex kahani हेल्लो दोस्तों मैं राज चंडीगढ़ से | ये कहानी मेरी बचपन की दोस्त रीना की है | हम दोनों एक ही स्कूल मैं पढ़ते थे | और हम दोनों एक दुसरे को प्यार करते थे | हम दोनों ने एक दुसरे को कई बार किस किया लेकिन और कुछ नहीं कर पाया मैं हमेशा उसको चोदने के बारे मैं सोंचता था स्कूल की पढाई के बाद मैं दिल्ली चला आया आगे की पढाई करने के लिए लेकिन हम दोनों एक दुसरे से बात किया करते थे | और सेक्स चैट भी किया करते थे एक दिन उसने बताया की उसकी शादी होने जा रही है | उसके बाद हमारी बात होना बंद हो गयी | पर मैं रोज उसकी तस्वीर देखकर हस्तमैथुन कर लिया करता था |
काफी दिन बीत गए फिर एक दिन उसका व्हाट्सएप मैसेज आया तो उसने बताया की वह अपने पति से खुश नहीं है | फिर हमारी बातें रोज होने लगी | मैं तो बस उसके सपनो मैं खोने लगा और उसकी चूत के बारे में सोंच कर मेरा लंड खड़ा हो जाता और मुझे हस्तमैथुन करके उसे शान्त करना पड़ता फिर मैं धीरे-धीरे उसका सहारा बनने लगा और वो अपने सारे दुःख दर्द मुझे फिर बताने लगी मैं ये मौका छोड़ना नहीं चाहता था | और धीरे-धीरे हम फिर करीब आ गए और सेक्स चैट फिर से शुरू हो गयी | उसने एक दिन अपनी नंगी तस्वीरे भेजी मेरा तो दिमाक ख़राब हो गया देख कर क्या माल हो गयी थी | उसके निप्पल देख कर मन कह रहा था की उन्हें तुरंत मशल दूं | उसकी चूत के बाल मुझे बहुत पसंद थे इसी लिए वो हमेशा झांट के बाल हमेशा रखती थी | उसकी गुलाबी चूत क्या मस्त फूली हुई थी | उसे देख कर मन कह रहा था की बस मुह लगा के पी जाऊं | मुझे हमेशा से शादीशुदा औरतें पसंद थी | इसी तरह हमारी बातें होने लगी एक दिन उसने बताया की उसके पति दिल्ली में किसी काम से शिफ्ट हो रहे हैं उनके साथ वो भी आ रही थी | मैं तो मनो ख़ुशी से उचल पड़ा मेरा आत्मविश्वास और भी बढ़ गया और मैंने ठान लिया की इस बार तो इसे चोदना है | वो आ गयी अगले दिन जब उसके पति ऑफिस के लिए निकले वो भी शोपिंग के बहाने अपने पति के साथ आई और एक मॉल मैं मुझे बुलाया मैं जब वह पहुंचा तो मैं तो बस उसे देखता रह गया नारंगी साड़ी में क्या कमाल लग रही थी | उसकी नाभि की गहराई देख कर तो किसी का भी मन मचल जाये | उसके मम्मे ब्लाउज से बहार झाँक रहे थे | मन तो कर रहा था की उसे वही चोद दूं | मैं उसे अपने रूम पे ले आया रूम का दरवाज़ा बंद करते ही मैंने उसे अपनी गोद मैं उठा लिया और उसको दीवार में चिपका के उसके दोनों हाथ ऊपर करके उसे किस करने लगा | मेरे अचानक वर से वो कुछ घबरा सी गयी वो अपने हांथों को छुड़ाने लगी पर मैं कहा छोड़ने वाला था मैं और जोर से किस करने लगा थोड़ी देर बाद उसने भी अपने होंठ खोल दिए और मेरा साथ देने लगी | मैंने अपनी जीभ उसके मुह मैं डाल दी और अपने हांथों से उसके चूचो को दबाने लगा वो भी अपने हांथों से मेरा लंड सहला रही थी | हमेशा से उसको चोदने का सपना का सपना आज पूरा होने वाला था | मैंने उसका चेहरा दीवाल की तरफ किया और उसके बाल हटा कर उसके गले पे किस करने लगा कभी उसके गालो पर किस करने लगा उसके मुह से सिस्कारियां निकलने लगी | मैं उसके पीछे खड़ा था तो मेरा लंड उसकी उभरी हुई गांड के बीच में था | मैंने अपना एक हाथ उसके आगे चूत की तरफ बढाया और उसे सहलाने लगा | वो मदहोश सी हो गयी थी | मैंने अपना हाथ और आगे बढाया तो देखा की वो पूरी गीली हो चुकी थी | मैंने अपना हाथ उसकी पैंटी में डाला और ऊँगली करने लगा और वो मेरा लंड ऊपर से ही दबाये जा रही थी मैं और जोर से ऊँगली करने लगा वो एक दम अकड़ने लगी और फिर झड गयी | और फिर हम जैसे ही अलग हुए और उसने मेरे सर को पकड़ा और जोर से किस करने लगी और मुझे बेड पे लिटा दिया और मुझे किस किये जा रही थी | फिर उसने मेऋ शर्ट निकाल कर फेक दिया और मेरी बनयान फाड़ दी और मेरे दोनों निप्पलो को अपने मुह में लेकर चूसने लगी और फिर उसने मेरी पैंट खोल दी और में अंडरवियर निचे करके मेरा लंड बाहर निकाल लिया और उसे अपने मुह से लोलीपोप की तरह चूसने लगी मैं तो सोंच मैं पड़ गया की क्या ये वही रीना है जिससे मैं जब सेक्स चैट करता था तो वो हमेशा कहती थी की उसे लंड चूसना पसंद नहीं है और आज वही कितने मज़े से चूस रही थी | मेरा लंड लोहे की तरह सख्त हो चुका था | मैं भी अब जोर से उसका मुह चोद रहा था | मैंने अपना सारा माल उसके मुह मे ही निकाल दिया | वो भी मेरा सारा रस पी गयी |
मैंने उससे कहा की आंखे बंद कर लो पहले तो उसने मन किया फिर बंद कर ली मैंने धीरे से उसकी साडी को खीचा उसकी नाभि खुल गयी मैं उसपे ऊँगली फिराने लगा | और उसके पेटीकोट में हाथ डालकर उसकी जांघों को सहलाने लगा उसकी सांसे तेज होने लगी मैं उसके मम्मो को मसलने लगा वो और गरम हो गयी थी | मैंने उसके सारे कपडे उतर दिए नाभि पर मुह रख कर किस करने लगा और उसकी चूत में ऊँगली डालकर उसे अन्दर-बाहर करने लगा वो जोर से अपने मुह से आह्ह्ह उह्ह्ह्ह उम्ह्हह्ह ओह्ह्ह अह्ह्ह्हह उम्ह्हह्ह येस्स्स्स की आवाज़े निकल रही थी | मैं उसकी नाभि पर चुमते हुए उसके मम्मो के दानो पर अपनी जीभ से सहलाने लगा वो तड़प उठी उसने कहा डालो राज अब मुझसे रहा नहीं जा रहा बहुत दिनों से सपने देखे हैं मेरी चूत ने तुम्हारे लंड के आज इसके सारे सपने पूरे कर दो राज मैंने अपना मुह उसकी चूत पर रख दिया और उसकी चूत मैं अपनी जबान डालकर चोदने लगा हम दोनों 69 की पोजिसन मैं थे वो मेरे लंड को अपने मुह मैं लेकर चूस रही थी | वो बहुत गरम हो चुकी थी अपने हांथो से मेरे सर को अपनी चूत की ओर दबा रही थी | मैं समझ गया मैंने अपने लंड पे थोडा थूक लगाया और उसकी चूत पे रख के रगड़ने लगा और एक जोरदार शॉट मारा मेरा 6 इंच का लंड आधा उसकी चूत में घुस गया वो एक दम चिल्लाने वाली थी की मैंने अपने होंठ उसके होंठो पर रख दिए और उसको किस करने लगा और धीरे से अपना लंड अन्दर बाहर करने लगा और उसकी चुचियो को मसलने लगा उसे भी धीरे-धीरे मज़ा आने लगा | अब मैंने भी स्पीड बढ़ा दी थी पूरे कमरे में आह्ह्ह्ह ओह्ह्ह्हह उह्ह्ह्हह्हुम्हह्ह्ह अह्ह्ह्हह अह्ह्ह्हा ओह्ह्ह्हह अह्ह्ह्हह अह्ह्ह्हह आःह्ह्हा अम्ह्ह्हह उह्ह्ह्ह ओम्ह्ह्हह्ह आह्ह्ह अह्ह्ह्ह आह्ह्ह्ह येस्स्स्स ओह्ह्ह येस्स्स्स आःह्ह ओह्ह्ह उम्ह्ह्ह अह्ह्ह आह्ह्ह अह्ह्ह्हह येस्स्स्स ओह्ह्ह्ह अह्ह्ह्ह ओह्ह्ह्ह उम्ह्ह्ह आह्ह्ह आःह्ह आःह्ह आह्ह्ह आह्ह्ह ओह्ह्ह ओह्ह्ह ओह्ह्ह आह्ह्ह अह्ह्ह्हा ओह्ह्ह आःह्ह ओह्ह्ह येस्स येस्स की आवाज़े गूँज रही थी मैं भी शॉट पे शॉट मरे जा रहा था बहुत दिनों से इस चूत को छोड़ने को सोंच रहा था आज मौका मिला था इसे चोदने का मैं उसके मम्मो को मसल रहा था और उसके होंठो को चूसे जा रहा था वो भी चूतड उठा उठा के मेरा साथ दे रही थी और चिल्ला रही थी मारो और जोर से चोदो इसे बहुत दिनों से ये प्यासी है मेरे पति की लुल्ली है आते ही काम हो जाता है | पहली बार आज तुमने इसे असली सुख दिया है राज इसे और छोड़ो फाड़ दो इसे इसमें उठी आग को आज तुम बुझा दो मेरे बालों को खीचते हुए मुझे बेड पे गिरा के वो खुद ऊपर हो गयी और उठा-उठा के चुदवाने लगी मैं भी जोर लगा रहा था | थोड़ी देर बाद वो थक चुकी थी और झड़ने वाली थी मैंने घुमा के उसे नीचे किया और खुद ऊपर होके जोर से धक्के लगाने लगा और वो झड गयी पर मैं अभी कहा संत होने वाला था | मैं धक्के और जोर से लगाने लगा और 20 मिनट तक चुदाई करने के बाद मैं भी झड गया फिर थोड़ी देर हम एक दुसरे के ऊपर नंगे पड़े रहे फिर मैंने अपना हाथ उसकी चूत पर रखा और सहलाने लगा वो फिर से मदहोश होने लगी पर मैंने इस बार सोचा की अब कुछ अलग किया जाये तो मैं उसकी गांड में ऊँगली से चोदने लगा उसने मना किया पर मैं उगली अन्दर-बाहर किये जा रहा था वो गरम हो चुकी थी उसने अपनी गांड मेरे सामने कर दी और मैंने अपना सुपाडा उसके गांड पर रख के एक जोर से धक्का लगाया वो जोर से रोने लगी की निकालो बहुत दर्द हो रहा है दर्द तो मुझे भी हो रहा था क्युकी आज तक उसकी गांड किसी ने नहीं मारी थी इसी लिए बहुत टाईट थी जिसकी वजह से मेरा लंड भी छिल गया था पर मैंने धक्के लगाने बंद नहीं किये और धीरे-धीरे करता गया वो भी अब मेरा साथ देकर आह्ह्ह्ह ओह्ह्ह्हह उह्ह्ह्हह्हुम्हह्ह्ह अह्ह्ह्हह अह्ह्ह्हा ओह्ह्ह्हह अह्ह्ह्हह अह्ह्ह्हह आःह्ह्हा अम्ह्ह्हह उह्ह्ह्ह ओम्ह्ह्हह्ह आह्ह्ह अह्ह्ह्ह आह्ह्ह्ह येस्स्स्स ओह्ह्ह येस्स्स्स आःह्ह ओह्ह्ह उम्ह्ह्ह अह्ह्ह आह्ह्ह अह्ह्ह्हह येस्स्स्स ओह्ह्ह्ह अह्ह्ह्ह ओह्ह्ह्ह उम्ह्ह्ह आह्ह्ह आःह्ह आःह्ह आह्ह्ह आह्ह्ह ओह्ह्ह ओह्ह्ह ओह्ह्ह आह्ह्ह अह्ह्ह्हा ओह्ह्ह आःह्ह ओह्ह्ह की आवाज़े निकाल रही थी | मैंने भी उसके चुतडो को मार-मार कर लाल कर दिया था | 30 मिनट चुदाई करने के बाद हम दोनों एक साथ झड गए फिर हम दोनों ने नहाते वक़्त चुदाई फिर वो चली गयी और फिर कई बार मैंने रीना की चूत मारी |