अली बाबा का लंड मेरी गुफा में


pyasi chut

हेल्लो दोस्तों कैसे हो आप सभी लोग ? मैं उम्मीद करती हूँ की आप सभी लोग ठीक ही होगे | दोस्तों मैं जो आज आप लोगो के सामने कहानी पेश करने जा रही हूँ ये मेरे जीवन की सच्ची कहानी है | मैं आज आप लोगो को बताउंगी की कैसे मैं अपनी चूत की गुफा में लंड को लिया था और मज़े लिए थे | मैं पनी कहानी को शुरू करने से पहले अपने बारे में बता देती हूँ |

मेरा नाम सबनम है और मेरी उम्र 25 साल है | मैं रहने वाली एक गाँव की हूँ | मैं दिखने में बहुत सुन्दर हूँ और सेक्सी भी | मेरी शादी हो चुकी है और मेरी पति का नाम अली है | मैं उनको प्यार से अली बाबा कहा करती हूँ | दोस्तों जब मेरी शादी नही हुई थी तब मैंने बहुत मज़े किये थे और जब मेरी शादी हो गयी तो मेरी किस्मत ही फुट गई थी | दोस्तों मैं इसके बारे में कहानी में बताती हूँ | आप लोग मेरी कहानी को पढ़ कर मज़े ली जिए | मैं कहानी शुरू करती हूँ |

दोस्तों ये कहानी तब की है जब मेरी शादी हो गयी थी | मेरे जो पति थे वो दिखने में मस्त हट्टे कट्टे थे और मैं उनकी बॉडी को देखकर फ़िदा हो गयी थी इसलिए शादी के लिए तैयार हो गयी थी | मैंने तो उन्हें देखकर यही सोचा था की जब उनकी बॉडी इतनी मस्त है तो उनका लंड को बहुत बड़ा और मोटा होगा | दोस्तों मुझे अपनी चूत में बड़ा और मोटा लंड लेना बहुत पसंद था | मैं उस दिन इसी लिए मन गयी थी और उनके साथ शादी करने के लिए तैयार हो गयी थी | जब मेरी उनके साथ शादी हो गई तब मेरी सुहागरात की रात मैं चुदने के लिए उतावली बैठी थी |

जब वो मेरे पास आये और मेरे चेहरे से घुघट को उठाया | जब अली ने मेरे चेहरे से घुघट उठाया तो मैं उतावली होने लगी थी | वो मेरे घुघट को उठाने के बाद मुझे लेकर लेट गए और कुछ देर तक मुझे चुमते रहे | वो मुझे चूम रहे थे और मेरे अन्दर चुदाई की आग लग रही थी | कुछ ही देर में मैं इतनी उतावली हो गयी की उनके कपडे उतारने लगी | मैंने उनको कुछ ही देर में नागा कर दिया और उनके लंड को देखकर बहुत खुश हुई |

इतना बड़ा लंड ? दोस्तों मैं ख़ुशी की वजह से पागल हो गयी थी क्यूंकि मैंने इससे पहले इतना बड़ा लंड नही देखा था | तब मैंने उनके लंड को हाथ में पकड लिया और हिलाती हुई मुंह में रख लिया | दोस्तों मैं उनके लंड को 1 मिनट तक अन्दर बाहर करती हुई चाटती रही जिससे उनके लंड का पानी निकल गया और वो झड़ गया | जब वो झड़ गया तो मैं उनके लंड की एक एक बूंद निचोड़ कर पी गई और उनके लंड को चुदने के लिए खड़ा करने लगी |

दोस्तों मैं उस रात उनके लंड को 1 घंटे तक खड़ा करने की कोशिश करती रही पर उनका लंड खड़ा ही नही हुआ | उस रात मुझे उन पर बहुत घुस्सा आया और जब सुबह हुआ तो मैंने उनको बहुत भली बुरी सुनाई और फिर मेरे घर के लोग मुझे बिदा करने के लिए आये और मैं अपने घर चली आई |  उसके कुछ दिन ऐसे ही बीत गए और मैं उनके लंड से चुदने के लिए तरसती रही पर उनका लंड 2 मिनट से ज्यादा रुकता ही नही था की मैं उनके लंड के मज़े ले पाती |

एक दिन की बात है की मैं अपने घर थी और उस दिन मेरी सहेली मुस्कान मेरे पास आई और मुझे लिपट गयी और मेरी चुचियों को पकड कर दबा दिया | फिर मुझसे बोली क्या रे आज कल तो लंड के मज़े खूब ले रही होगी |

मैं-  क्या बताऊँ तुझे उनके लंड ने तो अभी तक एक बार भी मेरी घुफा में जाने की हिम्मत नही की ?

मुस्कान – क्या बोल रही है ऐसा कैसे हो सकता है की उसने तुझ जैसे हॉट सेक्सी माल को बिना चोदे ही छोड़ दिया हो |

मैं – यार ऐसा कुछ नही हुआ उनका तो लंड खड़ा ही नही होता है तो वो मुझे कैसे चोदे | यार मुस्कान कुछ बता जिससे वो मेरी इच्छा को पूरी कर सके |

दोस्तों तब मुस्कान ने मुझसे कहा की तू उसे सेक्सी मूवी देखाया कर तो खड़ा हो जायेगा | मैं बोली हाँ मैंने ये भी करके देखा लिया है और उसे पॉवर की टेबलेट भी खिलाई थी पर उनके पर उसका भी कोई असर नही हुआ |

वो – मैं तुझे एक चीज दूंगी जिसे तू अपने पति को खिला देना | उसे खाने के बाद पक्का उनका खड़ा हो जायेगा | मैंने भी यही चीज अपने पति को दी थी जिससे वो मुझे तब तक चोदते हैं जब तक मेरी चूत का पानी का निकाल दे | दोस्तों उस दिन मैंने उससे कहा की हाँ तू मुझे वो चीज दे देना |

दोस्तों जब उसने मुझे वो चीज दे दी तो मैं उसके कुछ दिन बाद अपने पति के घर चली गयी | मैं उस दिन बहुत खुश थी की अगर मुस्कान ने जो चीज मुझे दी है तो मैं अपने पति के लंड को अपनी चूत के घुफा में लेकर पूरी रात मज़े लुंगी | मैं उस दिन यही सोच रही थी और जब रात हुई तो सब लोग खाना खाने के बाद अपने रूम में चले गए और मैं अपने पति के साथ लेट गयी | मैं जब उस रात लेटी थी तो मेरे मन में बस उनके लंड से खेलने की इच्छा हो रही थी | तब मैं वो चीज जो थी मैंने उन्हें बिना बताये ही उनके दूध में मिला कर उन्हें पिला दी |

दोस्तों दूध पीने के कुछ देर बाद ही वो मुझे अपनी बाँहों में भर लिया और चूमने लगे | जब वो मुझे चूमने लगे तो मुझे ऐसा लगा की लगता है मुस्कान की दी हुई दवा फायदा कर रही है | वो मुझे चूमने लगे और मैं उन्हें चूमने लगी | मैं उन्हें और वो मुझे चुमते रहे और ये चूमने के सिलसिला पुरे 8 मिनटों तक चलता रहा | फिर मैंने उनके कपडे निकाल दिए जिससे वो मेरे सामने बिना कपड़ो के थे और उनका बड़ा और मोटा लंड एकदम लोहे की तरह खड़ा था | तब मैंने भी अपने कपडे निकाल दिए और उनको पकड कर बिस्तर पर लेट गयी |

मैं उस टाइम उसकी होठो को मुह में रख लिया और चूसने लगी | मैं उनकी होठो को मुंह में रख कर चूस रही थी और वो मेरी होठो को चूसने के साथ मेरी गांड को दबा रहे थे जिससे मुझे बहुत मज़ा आ रहा था | दोस्तों ये चूमा चाटी का कार्यक्रम पुरे 10 मिनट तक चलता रहा और फिर वो मुझे पकड कर अपने नीचे कर दिया और मेरी चुचियों को मुह में रख कर चूसने लगे | जब वो मेरी चुचियों को मुंह में रख कर चूसने लगे तो मुझे बहुत मज़ा आ रहा था और मैं मज़े लेती हुई आह आह उई माई बाबा और जोर से कर यार मज़ा आ रहा है |

दोस्तों उस दिन मेरे अली बाबा बहुत जोश में थे और मुझे मज़ा दे रहे थे | वो मेरी चुचियों को ऐसे ही कुछ देर तक चूसते रहे और फिर उसने मेरी टांगो को पकड कर फैला दिया और मेरी गुलाबी चूत के दाने को उँगलियों से फैला दिया | वो मेरी चूत के दाने को फ़ैलाने के बाद मेरी चूत में अपनी जीभ को घुसा कर रगड़ने लगे | मैं आह उई माई आह…. यार और जोर से चाट मज़ा आ रहा है और मैं ये कहती हुई उनके सर को अपनी चूत की घुफा में घुसाने लगी | मैं ऐसे ही सेक्सी आवाजे करती हुई 5 मिनट तक अपनी चूत को चाटती रही |

फिर मुझसे रहा नही जा रहा था और मैंने उनसे अपने लंड को चूत में घुसाने को कह दिया | जब मैंने अपनी चूत में लंड को घुसाने के कहा तो वो पहले अपने लंड को मेरे मुंह में घुसा दिया और 1 मिनट चुसाने के बाद अपने लंड के टोपे को मेरी चूत के ऊपर रखने के बाद | मेरी चूत पर लंड को रगड़ने लगे | वो मेरी चूत के ऊपर लंड को रख कर रगड़ने लगे जिससे मेरी चूत पूरी तरह से गीली हो गयी थी और मैं उनसे कह ही दिया की यार अब मेरी गुफा में हलचल हो रही है और बिना टाइम को बर्बाद किये घुसा दो ?

फिर वो मेरी टांगो को पकड लिया और मेरी चूत में लंड को धीरे से घुस दिया जिससे मुझे बहुत मज़ा आ रहा था | मैं तब आह उई माई उफ़ औच आह उई माई…. की आवाजे करने लगी और वो मेरी चूत में अपने मोटे लंड को घुसा कर धक्के मारने लगे | अब मैं उनके धक्को के मज़े लेती हुई चुदने लगी और वो मेरी चूत में धक्के मारने लगे | वो मेरी टांगो को ऊपर की और उठा कर जोरदार धक्को के साथ कुछ देर तक चोदते रहे | फिर मेरी चूत से लंड को निकाल कर मुझे घोड़ी की तरह खड़े किया और मेरी चूत में पीछे से घुसा कर मेरी कमर को पकड लिया और जोर जोर से धक्के मारने लगे |

मैं मज़े लेती हुई चुद रही थी | दोस्तों उस रात मेरे अली बाबा ने मेरी चूत के दरवाजे खोल दिए थे | मैं उनके लंड को अपनी गुफा में लेकर पुरे मज़े लिए थे | उस रात की चुदाई के बाद मैं उनको रोज ही दूध में मिला कर पिला देती थी और रात भर मज़े लेती रहती थी |

दोस्तों ये थी मेरी कहानी | मुझे उम्मीद है की आप लोगो को मेरी कहानी पसंद आई होगी और इस कहानी को पढने में मज़ा तो खूब आया होगा | धन्यवाद…………………


error: