अजनबी भाभी की प्यास बुझाई


desi bhabhi sex stories नमस्कार दोस्तों सभी भाभियों और आंटियों को मेरा प्रणाम मैं जो कहानी आज लेकर आया हूँ वो एक दम सत्य घटना है जो की मेरे साथ हुई है | मेरा नाम सूरज है मैं मुरादाबाद का रहने वाला हूँ मेरी लम्बाई 5 फुट 8 इंच है शरीर से मैं हट्टा-कट्टा हूँ मेरे लंड की लम्बाई 7 इंच है इसने बहुत सी चूतो की प्यास बुझाई है | ज्यादा बकवास न करते हुए मैं अपनी कहानी पर आता हूँ |
मैं उन दिनों बैंगलोर मैं बीटेक कर रहा था,वीकेंड मैं होस्टल से घर जा रहा था, बस मैं बहुत भीड़ थी | मैंने कंडेक्टर से सीट अरेंज करने को कहा उसने मुझे एक सीट दिलाई उस पर 5 साल का बच्चा बैठा था और दूसरी सीट पर उसकी मम्मी बैठी थी मैंने बच्चे को गोद में ले लिया और उसे चोकलेट दी तो उसकी मम्मी ने मुझ से पूछा कि आप कहा जायेंगे मैंने कहा लास्ट स्टॉप फिर मैंने उनसे पूछा आप कहा जाएँगी उन्होंने बताया की वो भी मेरे स्टाप के 2 किमी आगे रहती है | उन्होंने अपना नाम रजनी बताया फिर हम बाते करने लगे मैंने उनके पति के बारे मैं पूछा उन्होंने बताया की उनके पति बाहर काम करते है 6 महीने में कही एक बार आते है मैं समझ गया की मेरी डाल यहाँ गल जाएगी | फिर उन्होंने मेरे बारे में पूछा मैंने बताया की मैं बीटेक कर रहा हूँ और आज घर जा रहा हूँ |मैंने पुछा कहा गयी थी आप उन्होंने बताया की उनके बच्चे को फीवर था इसी लिए डॉक्टर के पास गयी थी | बच्चा मेरी गोद में सो गया था फिर उन्होंने मेरी गोद से बच्चा अपनी गोद में ले लिया | बस मैं भीड़ थी मेरा लंड पूरा खड़ा था ,बस भी हिल रही थी |मैं इसका फायदा उठा कर उनका हाथ सहलाने लगा मस्त माल थी दोस्तों एक दम भरी हुई जवानी उनकी उम्र 30 साल के आस-पास होगी | उनका फिगर 34-32-36 का होगा मैं उनका हाथ धीरे-धीरे सहला रहा था बड़ी हिम्मत करके मैंने अपना एक हाथ उनके एक मम्मे में लगा दिया उन्होंने मेरा हाथ पकड लिया और मेरी तरफ गुस्से से देखने लगी मेरी तो गांड फट गई मैं उठ कर खड़ा हो गया | फिर उन्होंने हलकी सी स्माइल दी और कहा की डर गए मैं तो मजाक कर रही थी |

उन्होंने मुझे हाथ पकड़ कर बैठा लिया और अपने मम्मे पर मेरा हाथ उठा के राझ दिया मैं धीरे-धीरे उसे मसलने लगा | वो भी मेरे लंड को सहला रही थी | और दबा रही थी उन्होंने कहा बहुत मोटा लंड है तुम्हारा कभी किसी को चोदा है | मैंने कहा नहीं उन्होंने कहा मेरे बारे मैं क्या ख्याल है मैंने कहा क्यों नहीं मैं तो यही चाहता हूँ पर कैसे उन्होंने कहा की तुम मेरे घर आना मेरे घर पर सिर्फ मैं और मेरा बीटा रहता है और सुबह वो स्कूल चला जाता है | मैंने कहा ठीक है कल मैं आप के घर आऊंगा फिर हम दोनो ने अपने नंबर एक्सचेंज किये तब तक हमारा घर आ गया था | हम दोनों साथ में ही उतरे फिर मैंने उन्हें ऑटो में बिठा दिया |और मैं अप्पने घर आ गया | मेरा लंड एक दम सख्त हो चुका था | मैंने बाथरूम मैं जाकर उनके नाम की मुट्ठ मार तब जाके मेरा लंड शान्त हुआ फिर रात भर हम दोनों ने फोन सेक्स किया मैं बस सुबह का इंतज़ार कर रहा था | सुबह 10 बजे उन्होंने मुझे अपने घर पर बुलाया था | मैं ठीक समय पर वह पहुंचा मैंने बेल बजाई उन्होंने आकर दरवाजा खोला और मुझे अन्दर आने को कहा उनके घर में कोई नहीं था | उन्होंने साडी पहन रखी थी | उनके मम्मे ब्लाउज से बाहर झाँक रहे थे | उनको देख कर मेरा लंड खड़ा हो गया उन्होंने कहा क्या पिओगे मैंने कहा मुझे बस तुम्हारे दूध पीना है और मुझे कुछ नहीं चाहिए | उन्होंने एक नॉटी स्माइल के साथ कहा वो भी मिलेंगे बस सब्र रखो फिर वो मुझ को अपने बेडरूम मैं ले गयी और फिर उन्होंने मेरे सारे कपडे निकाल दिए और मेरे लंड को हाथ मैं लेकर खेलने लगी उन्होंने कहा क्या मस्त लंड है तुम्हारा क्या मैं इसे चूस सकती हूँ मैंने कहा आज से ये तुम्हारा है जो करना हो करो फिर वो मेरे लंड को लोलीपोप की तरह चूसने लगी चूसते-चूसते उन्होंने मेरा माल निकाल दिया और सारा माल गटक गयी और फिर चूस कर मेरा लंड खड़ा कर दिया | अब मेरी बारी थी मैंने उनकी साडी निकाल कर फैंक दी और उनको अपनी बाँहों में भर लिया और किस करते हुए उनका ब्लाउज खोल दिया और पेटीकोट को फाड़ डाला अब वो मेरे सामने काले रंग की ब्रा-पैन्टी में थी क्या कमाल लग रही थी | मैंने उनकी ब्रा भी उतार दिया और उनके मम्मो को दबाने लगा फिर एक हाँथ उनकी पैन्टी मैं डाला उनकी चूत पर एक भी बाल नहीं था शायद आज ही शेव किया था | मैंने उनकी पांति उतर कर फैंक दी और उनकी चूत के दानो को अपनी जीभ से सहलाने लगा वो मदहोश हो रही थी और अपने मुह से ‘अहहाह अहः अहः वो… उम्म्ह… अहह… हय… याह… ऊईई माँआआ ऊह्ह्ह्हो होहोह हाहाहा…की मादक आवजे निकाल रही थी उन्होंने मुझ से कहा चाटो मेरी चूत को खा जाओ इसे बहुत दिनों से प्यासी है ये चूत आज इसकी प्यास बुझा दो आह्ह्ह ओह्ह क्या चूसते हो तुम चूत को और चुसो ऊईई उम्म्म्म आह्ह्ह आःह्ह उम्म्म मेरी जान खा जाओ मेरी चूत को अब चोद भी दो मुझे पेलो मुझे अब मैंने अपना लंड उनकी चूत पर रखा और घिसने लगा | क्या मस्त गरम चूत थी फिर मैंने अचानक एक झटके मैं अपना पूरा लंड उनकी चूत मैं पेल दिया वो चिल्ला पड़ी अरे मार डाला रे फाड़ दी मेरी चूत आह्ह्ह्ह उई माँ ओह्ह्ह ओहो चोद दिया रे मैं मर गयी पूरा अन्दर डाल दिया रे मैंने धक्के और तेज कर दिए अब मेरा लंड उनकी बच्चेदानी को छूरहा था वो मज़े लेकर चुदवा रही थी | और धीमी आवाज़ मैं कहे जा रही थी | अब तक कहा थे मेरे राजा चोद दो मुझे और जोर से चोदते रहो पूरा डाल दो अहह आह्ह्ह ओह्ह्ह आह्ह्ह्ह ओह्ह्ह्हह येस्स्स्स उम्ह्हह्ह उह्ह्ह ओह्ह्ह आह्ह्ह उम्ह्ह फाड़ दो मेरी चूत को मैं भी जोश मैं आ गया मैं भी धक्के लगाये जा रहा था और कहे जा रहा रहा ले साली रांड आज तो मैं तुझे इतना चोदूंगा की तू भी क्या याद करेगी साली छिनाल मैं उसको पेले जा रहा था | और उसकी चूत को अपने हाथ से सहलाये जा रहा था | 10 मिनट बाद उसने पानी छोड़ दिया फिर मैं पेलता रहा थोड़ी देर बाद मैं भी झड़ने वाला था मैंने कहा बाहर निकाल लूं तो उसने कहा कोई बात नहीं अन्दर ही रहने दो फिर मैंने अपने वीर्य से उसकी चूत को भर दिया | हम दोनों थोड़ी देर वैसे ही पड़े रहे वो मेरे लंड को फिर सहलाने लगी और चूसने लगी अब हम 69 की पोजीसन मैं आ गए थे | वो मेरे लंड को चूस रही थी और मैं उसकी चूत को चाट रहा था | मैंने उसकी चूत मैं अपनी दो उंगलिया डाली और अन्दर- बाहर करने लगा मैं जोर से उसकी चूत मैं ऊँगली कर रहा था वो फिर से गरम होने लगी थी और आह ओह्ह येस्स आह्ह उई आह ओह्ह्ह उमह ओउह येस्स आह ओह्ह आह्ह्ह उम्ह्ह्ह ओह्ह्ह आह्ह्ह ओह्ह्ह येस्स आह्ह्ह ओह्ह्ह और जोर आह्ह और डालो की मादक आवाजो से पूरा रूम फिर गूंजने लगा नहीं तो मैं मर जाउंगी मैंने कहा नहीं मैं तुम्हारी चूत नहीं मारूंगा मुझे अब तुम्हारी गांड मारनी है वो बिना पानी की मछली की तरह तड़पने लगी उन्होने कहा की पहले मेरी चूत को चोदो फिर मेरी गांड मार लेना मैंने अपना लंड उनकी चूत मैं पेल दिया और धक्के लगाने लगा वो भी गांड उठा-उठा कर मेरा साथ डे रही थी मुझे बहुत मज़ा आ रहा था जैसे मैं जन्नत की सैर कर रहा हूँ | मैंने 15 मिनट तक उनको चोदा फिर वो झड गयी पर मेरा लंड अभी भी लोहे की तरह सख्त था मैंने भाभी को उल्टा किया और उनके चुतडो को पीट कर लाल कर दिया और फिर अपना लंड उनकी गांड के छेंद पर रखा तो उन्होंने क्रीम उठा के दी और कहा लगा लो क्यों मेरी गांड फाड़ने पर लगे हो मैंने थोड़ी क्रीम अपने लंड पर लगाई और फिर एक झटके मैं पूरा लंड उनकी गांड में पेल दिया वो चीख पड़ी उनकी आँख से आंसू आ गए वो मुझे गाली देने लगी मादरचोद मैंने तुझसे कहा था की आराम से करना मेरी गांड फाड़ दी साले मैंने फिर धीरे-धीरे धक्के लगाने लगाअब उनका दर्द कुछ कम हुआ फिर मैंने 20 मिनट तक उनकी गांड मारी और फिर मैं झड गया फिर हम दोनो ने साथ में स्नान किया नहाते वक़्त मैंने उनको दो बार चोदा फिर उन्होंने मुझे 5000 रुपये दिए मैं नहीं ले रहा था पर वो नहीं मानी और मेरी जेब मैं रख दिया उस दिन से हम दोनों ने कई बार सेक्स किया इस समय वो मेरे बच्चे की माँ बनने वाली है | तो दोस्तों कैसी लगी मेरी

loading...

error: